Breaking News

बुरी तरह फंस गई थी बीजेपी सरकार, तब की भीम आर्मी संस्थापक चंद्रशेखर की रिहाई, ये रही मजबूरी..?

लखनऊ,  पिछले एक साल से जेल में बंद भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर रावण को योगी सरकार ने आज तड़के करीब पौने तीन बजे रिहा कर दिया. लेकिन एेसा योगी सरकार ने खुशी से नही किया. यह करना बीजेपी सरकार की बड़ी मजबूरी थी. क्योंकि बीजेपी सरकार कानूनन और सामाजिक रूप से बुरी तरह घिर गई थी.

मोदी सरकार के केंद्रीय मंत्री की बेटी ने किया बड़ा एेलान, पिता के खिलाफ लड़ेगी लोकसभा चुनाव

दिल्ली यूनिवर्सिटी छात्र संघ चुनाव के परिणाम घोषित, लगे ईवीएम में गड़बड़ी के आरोप

चंद्रशेखर बीते साल भर से सहारनपुर की जेल में बंद थे. हाईकोर्ट ने भीम आर्मी  संस्थापक को सभी मामलों में जमानत दे दी थी. लेकिन चंद्रशेखर को जमानत मिलते ही , उसे न रिहा करने की मंशा के चलते योगी सरकार ने उस पर रासुका तामील करा दिया. जिससे हाईकोर्ट से जमानत मिलने के बावजूद भी चंद्रशेखर की रिहाई नही हो सकी. योगी सरकार का उत्पीड़न यहीं नही समाप्त हुआ.  चंद्रशेखर को जेल से रिहा न होने देने के लिये, नवंबर 2017 से अब तक तीन-तीन महीने के लिए चार बार रासुका की अवधि बढ़ाई गई.

गन्ना- किसानों को कम खेती करने के भाजपा के सुझाव के पीछे ये खतरनाक साजिश-अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी ने प्रवक्ताओं की सूची मे नये नाम जोड़े़, देखिये प्रवक्ताओं की नई लिस्ट

   यह अवधि 1 नवंबर 2018 को समाप्त हो रही थी. राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत उसकी महज 26 दिन की कारावास अवधि शेष थी. चूंकि शासन केवल एक साल तक ही रासुका बढ़ा सकता है और इसलिये चंद्रशेखर को रिहा करना अब योगी सरकार की मजबूरी थी  क्योंकि वह रासुका की  अवधि अब और आगे नही बढ़ा सकती थी.

अब से नहीं बिकेंगी फटाफट आराम देने वाली सेरिडॉन, विक्स ऐक्शन 500 जैसी 328 दवाएं,जानिए क्यो..

बदल गया सीएम केजरीवाल का लुक, इस नए अंदाज में आए नजर

इधर चंद्रशेखर की ओर से सुप्रीम कोर्ट में अपनी रिहाई और रासुका को लेकर डेढ़ माह पहले एसएलपी दाखिल की गई थी.  सूत्रों के अनुसार, सुप्रीम कोर्ट ने इस पर केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस जारी किए थे और शुक्रवार को दोनों बीजेपी सरकारों को सुप्रीम कोर्ट को जवाब दाखिल करने हैं. अब दोनों सरकारें जवाब दे सकती हैं कि चंद्रशेखर की रिहाई हो चुकी है.

इन पांच राज्यों में एक साथ हो सकतें हैं, विधानसभा चुनाव ?

पतंजलि ने मार्केट में उतारे डेयरी प्रोडक्ट, दूध से लेकर पनीर तक सस्ता,देखे Rate List

आज जेल से रिहा होने के बाद भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखऱ ने कहा भी कि सरकार डरी हुई थी क्योंकि सुप्रीम कोर्ट उसे फटकार लगाने वाली थी. यही वजह है कि अपने आप को बचाने के लिए सरकार ने जल्दी रिहाई का आदेश दे दिया. मुझे पूरी तरह विश्वास है कि वे मेरे खिलाफ दस दिनों के भीतर फिर से कोई आरोप लगाएंगे. मैं अपने लोगों से कहूंगा कि साल 2019 में बीजेपी को उखाड़ फेंकें.

दूसरी ओर , दलित, पिछड़े वर्ग के संगठनों और विपक्ष ने सहारनपुर जिले के इस शब्बीरपुर कांड को राष्ट्रीय स्तर पर भाजपा के दलित विरोध का प्रतीक बनाकर पेश किया। तमाम दलित संगठन इस मसले पर सहारनपुर से लेकर दिल्ली के जंतर-मंतर तक जुटे।  बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने तो 18 जुलाई 2017 को इसी के विरोध में राज्यसभा से अपना इस्तीफा देकर भाजपा पर बाकायदा दलित उत्पीड़न के आरोप भी लगाए। रही सही कसर, इसी हफ्ते शब्बीरपुर हिंसा के आरोपी क्षत्रिय पक्ष के रासुका में बंद तीनों युवकों की रिहाई ने पूरी कर दी.

सीएम योगी द्वारा यूपी के बेरोजगार युवाओं को अयोग्य कहने पर, अखिलेश ने तथ्यों सहित दिया करारा जवाब

बीजेपी सरकार को सता रहा है हार का डर, इसलिये टाल रहें यह काम-अखिलेश यादव

मीडिया को जारी उत्तर प्रदेश पुलिस के बयान के मुताबिक, भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर रावण को सिर्फ बदले हालात और उनकी मां के आग्रह की वजह से रिहा किया गया है .जबकि हकीकत यह है कि चंद्रशेखर के अधिवक्ता हरपाल सिंह जीवन का कहना है कि छह महीने से हमने चंद्रशेखर की रिहाई के संबंध में कोई आवेदन शासन से नहीं किया है. हड़बड़ी मे, भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर  की मां की जिस अर्जी को यूपी शासन ने रिहाई का आधार बनाया है, वह बहुत पुरानी है.

लाखों कर्मचारियों की पेंशन के लिए वेतन से कटी रकम ‘गायब’, अटेवा ने बताया सबसे बड़ा घोटाला

अब सपा और बसपा की होगी संयुक्त बैठक,मिलकर करेंगे काम-अखिलेश यादव

शिवपाल यादव ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा को लेकर जारी की प्रवक्ताओं की पहली लिस्ट…

अखिलेश यादव का बीजेपी सरकार पर बड़ा हमला,कहा चुनाव से पहले ही सरकार ने मानी हार…

देश की जांच एजेंसियों को रुलाने वाला,मीडिया के सामने रोया

UPPSC ने निकाली Civil Judge की बंपर वैकेंसी, जल्द करें आवेदन…

Spread the love

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com