सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस ने, कॉलेजियम प्रणाली में खामियों का किया जिक्र

नयी दिल्ली, उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश जस्टिस चेलमेश्वर ने कॉलेजियम प्रणाली में व्याप्त खामियों का जिक्र किया । इंडिया टुडे कॉन्क्लेव, 2019 के दूसरे दिन आज न्यायमूर्ति चेलमेश्वर ने गत वर्ष 12 जनवरी को चार न्यायाधीशों की ओर से आयोजित संवाददाता सम्मेलन सहित न्यायपालिका से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर बेबाक टिप्पणी की।

पूर्व न्यायाधीश ने तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ लाये गये महाभियोग को लेकर भी बेबाक टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि महाभियोग लाना किसी भी समस्या का हल नहीं है। उन्होंने कॉलेजियम प्रणाली में भी खामियों का जिक्र किया। सीबीआई को लेकर पिछले दिनों हुए विवाद पर उन्होंने कहा कि कोई भी राजनीतिक दल सीबीआई को नहीं सुधारना चाहता। उन्होंने कहा कि किसी भी दल के पास सीबीआई या किसी अन्य संस्थान को मजबूत करने का समय नहीं है।

गत वर्ष 12 जनवरी को चार न्यायाधीशों की ओर से किये गये संवाददाता सम्मेलन के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में सवाल पूछना कोई विरोध नहीं होता।उनसे यह पूछा गया था कि उस घटना से पहले कभी इस तरह का संवाददाता सम्मेलन नहीं किया गया था। उन्होंने कहा, “अगर कुछ कभी नहीं हुआ, तो इस मतलब यह नहीं कि कभी नहीं होगा। हमने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान भी कहा था कि यह कुछ नया है। जब मैंने सवाल उठाये तो कुछ लोगों ने कहा कि मैं कोई एजेंडा चला रहा हूं. लेकिन मुझे फर्क नहीं पड़ता।”

न्यायाधीशों के समझौता करने या नहीं करने को लेकर किये गये एक सवाल के जवाब में न्यायमूर्ति चेलमेश्वर ने कहा कि कुछ न्यायाधीश ऐसे भी हैं जिन्हें झुकाया जा सकता है, लेकिन सभी न्यायाधीशों को एक ही चश्मे से नहीं देखा जाना चाहिए।उन्होंने कहा कि सिर्फ भारत ही नहीं, बल्कि दुनिया में भी न्यायपालिका में संकट आता रहा है। ऐसे में न्यायाधीशों को लेकर भी सवाल उठते रहे हैं, लेकिन सभी न्यायाधीशों को एक नजरिये से नहीं देखा जा सकता है।

Spread the love

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com