Breaking News

क्या चीन के नियमों से ही तय होगा अगला दलाई लामा ?

ल्हासा ;तिब्बत ,क्या चीन के नियमों से ही  अगला दलाई लामा तय होगा? चीन ने कहा है कि पंद्रहवें दलाई लामा के चयन को लेकर वर्ष 2007 में उसकी सरकार द्वारा तय नियमों एवं तरीकों से ही किया जाएगा और अगर कोई व्यक्ति या समूह निहित स्वार्थों के लिए राजनीति के लिए कोई दलाई लामा चुनेगा तो उसे तिब्बत में कतई मान्यता नहीं दी जाएगी।

ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना हुआ बेहद आसान,जानें पूरा विवरण…

अब पुराने 1000 के नोट को लेकर मोदी सरकार ने लिया बड़ा फैसला….

चीन के अधीन तिब्बत स्वायत्तशासी क्षेत्र के धार्मिक मामलों के प्रमुख लाबा सिरेन ने भारत से आये पत्रकारों के एक प्रतिनिधिमंडल से बातचीत में कहा कि चीन में धार्मिक आस्थाओं एवं विश्वास को लेकर सबको आज़ादी है लेकिन 2007 में चीन की केन्द्र सरकार ने नीति बनाकर धार्मिक मामलों के प्रबंधन को अपने हाथ में लिया है और दलाई लामा के पुनरवतार का मामला इसी के तहत आता है। श्री सिरेन ने कहा कि दलाई लामा के पुनरवतार की पहचान के लिए 1640 में गीलू पंथ के संस्थापक ने दलाई लामा और पंचेन लामा के पुनरवतार की प्रक्रिया को परिभाषित किया था।

इस बार बिग बॉस 13 में कंटेस्‍टेंट बन कर आएंगे ये सितारें….

पोस्ट ऑफिस में निकली बंपर वैकंसी….

18वीं सदी में चिंग वंश के शासकों ने 29 अनुच्छेदों वाली राजाज्ञा के माध्यम से दलाई लामा जिन्हें जीवित बुद्ध की उपमा दी गयी है, के निर्धारण की उसी प्रक्रिया को अमल में लाया था। इसमें राजा की सहमति आवश्यक अंग होती थी। इसी प्रकार से आज के समय में दलाई लामा एवं पंचेन लामा के पुनरवतार के निर्धारण के लिए मान्य प्रक्रिया और केन्द्र सरकार की अनुमति आवश्यक होगी। उन्होंने कहा कि तिब्बत के बौद्ध मत में प्रक्रिया का बहुत निष्ठा एवं कड़ाई से पालन किया जाता है। यदि कोई व्यक्ति या समूह अपनी राजनीति के लिए या अपने निहित स्वार्थों के लिए केन्द्र सरकार की मान्यता के बिना अगले दलाई लामा का चयन करता है तो उसे तिब्बत के लोग स्वीकार नहीं करेंगे।

एक करोड़ रुपये जीतने का मौका, बस करना होगा ये छोटा सा काम

द कपिल शर्मा शो के बच्चा यादव के फैन्स के लिए बुरी खबर….

भारत एवं नेपाल में रहने वाले तिब्बतियों को वापस लौटने की अनुमति दिये जाने के बारे में एक सवाल के जवाब में श्री सिरेन ने कहा कि इस बारे में चीन की नीति एकदम साफ है। यदि वे अपनी जातीय एकता को बनाये रखते हैं और देश की अखंडता की सुरक्षा का संकल्प लेते हैं तो वे आ सकते हैं। तिब्बत में धार्मिक मामलों में सरकार की भूमिका के बारे में उन्होंने बताया कि सभी बौद्ध भिक्षुओं एवं लामाओं को सामाजिक सुरक्षा प्रदान की गयी है। उन्हें स्वास्थ्य बीमाए न्यूनतम आजीविका और वृद्धावस्था पेंशन की गारंटी प्रदान की गयी है।

इन सरकारी कर्मचारियों को त्योहारों से पहले मिला बड़ा तोहफा…..

अब जानवर की कोख से पैदा होगा इंसान…

गणित के इस सवाल को, क्या आप कर सकते हैं हल..?

इस मशहूर टीवी शो में नजर आएंगे पीएम मोदी…

आखिर गोविंदा को क्यों करनी पड़ी दूसरी शादी….

पानी पीने के बाद खाली बोतल फेंके नहीं, इनको दें, मिलेंगे पांच रुपये….

समुद्र में मिला हजारों साल पुराना मंदिर….

Spread the love
Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com