Breaking News

‘फर्जी खबरों’ पर सरकार ने जारी की गाईडलाईन, पत्रकारों ने बताया गला घोंटने वाला कदम

नई दिल्ली, सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने पत्रकारों की मान्यता संबंधी दिशानिर्देशों को संशोधित किया है और कहा है कि अगर एक पत्रकार फर्जी खबरों के प्रकाशन या प्रसारण का दोषी पाया गया तो उसकी मान्यता निलंबित या रद्द की जा सकती है। पत्रकारों ने  सरकार के इस कदम को मीडिया का गला घोंटने वाला कदम बताया है।

 मायावती को अपमानित करने का बीजेपी सरकार का दांव पड़ा उल्टा? अब नही है कोई जवाब?

यूपी और बिहार की विधान परिषद चुनाव की तिथियां घोषित, यूपी मे 13 सीटों पर होगा चुनाव

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने एक विज्ञप्ति में कहा है कि भारतीय प्रेस परिषद और न्यूज ब्रॉडकास्टर एसोसिएशन यह तय करेगा कि कोई खबर फेक न्यूज है अथवा नहीं। अगर खबर इलेक्ट्रानिक मीडिया से जुड़ी है तो कोई भी शख्स इसकी शिकायत न्यूज ब्रॉडकास्टर एसोसिएशन (एनबीए) को कर सकता है, जबकि अगर खबर प्रिंट मीडिया से जुड़ी है तो इसकी शिकायत भारतीय प्रेस परिषद (पीसीआई) को भेजी जा सकती है। मंत्रालय ने कहा कि इन एजेंसियों को 15 दिन के अंदर खबर के फर्जी होने या ना होने का निर्धारण करना होगा।

भारत बंद – कई राज्यों मे बिगड़े हालात, पांच प्रदर्शनकारियों की मौत, कई दर्जन घायल

भारत बंद का व्यापक असर, सपा, बसपा, राजद ने भी दिया समर्थन

पत्रकारों की मान्यता के लिये संशोधित दिशानिर्देशों के मुताबिक अगर फर्जी खबर के प्रकाशन या प्रसारण की पुष्टि होती है तो पहली बार ऐसा करते पाये जाने पर पत्रकार की मान्यता छह महीने के लिये निलंबित की जायेगी और दूसरी बार ऐसा करते पाये जाने पर उसकी मान्यता एक साल के लिये निलंबित की जायेगी। लेकिन तीसरी बार दिशा निर्देशों का उल्लंघन करते पाये जाने पर उस पत्रकार (महिला/पुरुष) को हमेशा के लिए ब्लैकलिस्ट कर दिया जाएगा और उसकी मान्यता स्थायी रूप से रद्द कर दी जाएग

लोकसभा चुनाव को लेकर, शिवपाल सिंह यादव ने किया बड़ा दावा

आरक्षण और दलित अत्याचार को लेकर, आखिर अपनी पार्टी के खिलाफ क्यों उतरी बीजेपी सांसद

मंत्रालय के मुताबिक जैसे ही किसी पत्रकार के खिलाफ ‘फेक न्यूज’ के शिकायत दर्ज की जाएगी, उसकी मान्यता तब तक सस्पेंड रहेगी जब तक कि पीसीआई/एनबीए यह तय नहीं कर लेता है कि वह खबर फेक न्यूज है या नहीं। पत्रकारों के मामले में राजनीति भी शुरू हो गई है. यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार और कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने ट्वीट किया है, ‘मैं फेक न्यूज पर अंकुश के प्रयास की सराहना करता हूं, लेकिन मेरे मन में कई सवाल उठ रहे हैं…

SC/ST  एक्ट: आज भारत बंद, कई राजनीतिक दलों और संगठनों ने दिया समर्थन

अखिलेश यादव ने बताया अपने बच्चों का भविष्य…

1. क्या गारंटी है कि इस नियम का इस्तेमाल ईमानदार पत्रकारों को प्रताड़ित करने के लिए नहीं किया जाएगा?

2. यह कौन तय करेगा कि क्या फेक न्यूज है?

3. क्या यह संभव नहीं है कि जानबूझ कर किसी के खिलाफ शिकायत की जाए, ताकि जांच जारी रहने तक उसकी मान्यता निलंबित हो जाए?

4. इसकी क्या गारंटी है कि ऐसे गाइडलाइन से फेक न्यूज पर रोक लगेगी, कहीं यह सही पत्रकारों को सत्ता के खिलाफ असहज खबरें जारी करने से रोकने की कोश‍शि तो नहीं?

अखिलेश यादव ने बीजेपी की पॉलिसी को लेकर किया बड़ा खुलासा…

सचिन तेंदुलकर ने राज्यसभा सांसद के तौर पर किया ऐसा काम….

केन्द्र की बीजेपी सरकार का चुनावी साल में अभूतपूर्व फैसला है।  सरकार के इस कदम का विरोध भी शुरू हो गया है। पत्रकार संगठन इस पर विचार करने के लिए एक बैठक करने और विरोध की तैयारी कर रहे हैं। कुछ पत्रकारों का कहना है कि यह ‘मीडिया का गला घोंटने की कोशिश के तहत लाया जा रहा सरकार का अलोकतांत्रिक कदम है।’ कई वरिष्ठ पत्रकारों का कहना है कि ज्यादातर फेक न्यूज ऐसे पत्रकारों द्वारा जारी की जाती हैं जो मुख्यधारा से अलग हैं। एसे पत्रकारों की आड़ लेकर सरकार  नए नियम में उन पत्रकारों के खिलाफ कार्रवाई की बात की जा रही है जो मुख्यधारा का हिस्सा हैं और  मान्यता प्राप्त हैं।

मोदी सरकार के खिलाफ BJP सांसद ने शुरू किया आंदोलन

जानिए मायावती ने किस पर कार्रवाई करने को कहा

जब सभी कुछ दुबारा हो रहा है तो लगे हाथ ये काम भी कर लो- अखिलेश यादव

दलित लेखिका एवं सामाजिक कार्यकर्ता रजनी तिलक नही रहीं, जानिये कुछ खास बातें

सीएम योगी की भाषा पर, रामगोपाल यादव ने उठाया सवाल, किया ये बड़ा एलान

जानिए किस पर और क्यों बरसीं मायावती..?

राजा भैया को लगा बड़ा झटका,अखिलेश यादव ने दिया बड़ा बयान…

अखिलेश यादव ने प्रेस कांफ्रेंस कर किया बीजेपी पर बड़ा हमला

श्रीदेवी के अंतिम संस्कार को लेकर हुआ बड़ा खुलासा

अब इलाहाबाद में तोड़ी गई बाबा साहेब अंबेडकर की मूर्ति….

नही बर्दाश्त हुआ एक दलित का घोड़ा रखना, कर दी हत्या

Spread the love
loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com