Breaking News

भाजपा सरकार मे किसान के पास आत्महत्या करने के अलावा दूसरा विकल्प नहीं-समाजवादी पार्टी

लखनऊ, समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष  नरेश उत्तम पटेल ने कहा है कि यों तो भाजपा के झूठे वादों से समाज के सभी वर्ग अपने को ठगा महसूस कर रहे हैं किन्तु किसानों के प्रति तो भाजपा का रवैया बहुत ही दुर्भावनापूर्ण है। उन्हें बुरी तरह छला गया है। भाजपा ने उनको पूरी तरह से बदहाल कर दिया है। ऐसे में उसके पास आत्महत्या करने के अलावा दूसरा विकल्प नहीं बचता हैं।

इंटरनेट पर खेसारीलाल यादव ने मचाया धमाल, एक दिन में बना डाले ये रिकार्ड….

यूपी में उपचुनाव के लिए अधिसूचना जारी, जानिए पूरा विवरण….

राजभर समाज को सपा का समर्थन, मुख्यमंत्री को बताया सामंतवादी

 उत्तर प्रदेश में चुनावों के वक्त किसानों की कर्जमाफी का वादा किया गया था। किसान की कर्जमाफी  के नाम पर उसके साथ छलावा हुआ और अब बैंक उल्टे उससे जबरन वसूली करने लगे हैं। बैंकों से मिलकर राज्य सरकार ने ऐसा घालमेल किया है कि कर्जमाफी के नाम पर किसी किसान को 01 रूपए मिला तो किसी को 07 रूपये का चेक मिला। किसान की कहीं सुनवाई नहीं हुई।

लोकसभा चुनाव को लेकर, क्यों हैं मुलायम सिंह यादव इतने निश्चिंत ?

पिछड़ा, दलित और मुस्लिम गठजोड़, उपचुनाव मे तोड़ सकता है पुराने रिकार्ड

ओमप्रकाश राजभर का एक बार फिर अपनी सरकार पर हमला

 गन्ना किसान, आलू किसान और गेंहू किसान सभी भाजपा सरकार की नीतियों के शिकार बनकर कराह रहे हैं। गन्ना खेतों में खड़ा है। चीनी मिलें पर्चियां नहीं दे रही है। किसानों का पुराना भुगतान नहीं हो रहा है। रू0 9429.19 करोड़ से ज्यादा मिलों पर किसानों का बकाया है। किसान के सामने मजबूरी में अपनी गन्ने की फसल खेत में जला देने के अलावा दूसरा चारा नहीं। सरकार ने आलू किसानों को भी 549 रूपये कुंतल खरीद का आश्वासन दिया था। पर वह भी उसका हवाई वादा ही साबित हुआ।

मोदी सरकार का वरिष्ठ नागरिकों को बड़ा तोहफा, अब हर महीने मिलेगी 10000 रुपये पेंशन

समाजवादी पार्टी की नई कार्यकारिणी में, तीनों उपाध्यक्ष बदले गये

 संवैधानिक संस्थाओं को कमजोर करने के पीछे, बीजेपी के इरादे खतरनाक-अखिलेश यादव

 गेंहू किसान की परेशानी की तो इंतिहा नहीं। सरकार के क्रय केन्द्र बहुत जगह बंद हैं। गेंहू की सरकारी कीमत 1735 रूपए देने में क्रय केन्द्र ही आनाकानी करते हैं। क्रय केंद्र के अधिकारियों के मनमाने रवैये के कारण किसान बिचैलियों को अपनी फसल सस्ते दाम पर बेच रहा है।

पीएम मोदी ने अचानक धुर विरोधी एचडी देवगौड़ा की तारीफ क्‍यों की?

अखिलेश यादव ने बताई क्या हैं बीजेपी की रणनीति…..

तेलंगाना के सीएम राव से मिलने पहुंचे अखिलेश यादव,राजनीतिक हलचल तेज

 समाजवादी सरकार में चूंकि किसान उसकी प्राथमिकताओं में था इसलिए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने वर्ष 2016-17 को किसान वर्ष घोषित करने के साथ बजट में 75 प्रतिशत धनराशि गांव-खेती के लिए रखी थी। किसान को मुफ्त सिंचाई की सुविधा दी थी। प्राकृतिक आपदा से राहत के साथ किसान को बीमा का लाभ दिया था। 50 हजार रूपए तक की कर्जमाफी के साथ उसकी बंधक भूमि की नीलामी पर रोक लगाई थी। भाजपा सरकार ने आते ही किसान को उसके हाल पर निर्दयता के साथ छोड़ दिया है। वह गांव में चौपाल लगाकर हितैषी बनने का स्वांग कर रही है। प्रदेश का किसान इस किसान विरोधी भाजपा सरकार को अब और ज्यादा सत में बर्दाश्त करने वाला नहीं है।

Spread the love

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com