Breaking News

लोकसभा चुनाव- यूपी मे बीजेपी फिर किस पर खेलने जा रही दांव ?

लखनऊ, 2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर बीजेपी ने अपने पत्ते बिछाने शुरू कर दियें हैं। जब बात हो यूपी की तो यह निश्चित है कि  जातीय समीकरण सबसे अहम हो जातें हैं। इसलिये बीजेपी एकबार फिर उत्तर प्रदेश में जातीय समीकरण को भरपूर तवज्जो दे रही है।

लोकसभा चुनाव को लेकर मायावती का अहम बयान……

बसपा ने इस वरिष्ठ नेता को पार्टी से निकाला……

बीजेपी ने 2014 के लोकसभा और 2017 के विधानसभा चुनाव में दलित और ओबीसी वोटों की सफलतापूर्वक गोलबंदी अपने पक्ष में की थी। लेकिन एसपी-बीएसपी के एक प्लेटफॉर्म पर आने की वजह से बीजेपी की यह गोलबंदी 2019 के लोकसभा चुनाव के लिये फेल हो गई है। इसलिये बीजेपी ने  अपने जातीय समीकरण मे नया फेरबदल किया है।

मोदी सरकार की नीति, प्रगति, भीम के बाद अब मिलिए श्रीमान से….

अब बॉलीवुड की नजर डॉन मुन्ना बजरंगी पर ….

अब बीजेपी की नजर यूपी मे सर्वाधिक आबादी वाले ओबीसी वर्ग पर है। यूपी मे ओबीसी की आबादी में 54 से 60 फीसदी है। यूपी मे ओबीसी वर्ग ने  पिछले दो चुनावों- 2014 और 2017- में बीजेपी को सपोर्ट किया था लेकिन उन्हें कुछ हासिल नहीं हुआ।  ओबीसी नेताओं का कहना है कि पार्टी के ओबीसी में एक धारणा बनती जा रही है कि बीजेपी उन्हे केवल चुनाव के लिये यूज करती है। उप मुख्यमंत्री केशव मौर्या की सरकार मे स्थिति देखकर ओबीसी अब बीजेपी से खिसकने लगा है।

अखिलेश यादव का पीएम मोदी की भाषणबाजी पर बड़ा हमला….

मायावती ने प्रधानमंत्री मोदी को शिलान्यास करने पर दी, ये अहम सलाह

रिपोर्ट के मुताबिक बीजेपी इस धारणा को तोड़ने की कोशिश करने जा रही है। वह एकबार फिर ओबीसी पर ही दांव खेलने जा रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ठाकुर समुदाय से आते हैं। योगी आदित्यनाथ का प्रभाव पूर्वांचल और गोरखपुर में है। वर्तमान यूपी बीजेपी केअध्यक्ष महेन्द्र नाथ पांडेय ब्रह्माण समुदाय से ताल्लुक रखते हैं और वह भी पूर्वांचल से ही हैं। उनका संसदीय क्षेत्र चंदौली वाराणसी के करीब है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी पूर्वांचल स्थित वाराणसी से सांसद हैं।

माफिया डान बबलू श्रीवास्तव को मिली जमानत, रिहायी के आदेश जारी

सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा के नतीजे घोषित, देखिये पूरी लिस्ट

सूत्रों के मुताबिक,  बीजेपी महेन्द्र नाथ पांडेय से अध्यक्ष पद की कुर्सी लेकर किसी प्रभावशाली ओबीसी नेता को सौंप सकती है। सबसे आश्चर्य की बात यह है कि कोई जरूरी नही कि यह नेता पार्टी का ही हो, इसे बीजेपी दूसरी पार्टी से भी आयात कर सकती है। वैसे बीजेपी के एक नेता ने दावा किया कि अगर उत्तर प्रदेश में संगठनात्मक बदलाव होता है तो राज्य के परिवहन मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह को यूपी बीजेपी अध्यक्ष बनाया जा सकता है। स्वतंत्रदेव सिंह कुर्मी समुदाय के नेता है और बुंदेलखंड क्षेत्र से आते हैं।

सोशल मीडिया के माध्यम से अखिलेश यादव ने पीएम मोदी को याद दिलाये पुराने दिन

राज्यसभा के लिए चार सांसद राष्ट्रपति ने किये मनोनीत, यूपी से ये दलित नेता भी शामिल

अखिलेश यादव ने कहा, योगी ने पीएम मोदी को दिया धोखा उन्हे पता भी नहीं चला…..

शिवपाल यादव का बड़ा बयान, इनके मंसूबे होंगे नाकाम

नया खुलासा, जानिए कैसे होगा अबकी लोकसभा चुनाव….

कुलदीप यादव के प्रदर्शन से भारत के हौसले बुलंद, अब 10 वीं सीरीज जीतने के लिये उतरेगा

समाजवादी दलित चेतना साइकिल यात्रा का हुआ भव्य स्वागत, अखिलेश यादव करेंगे समापन, जानिये विवरण

पूर्व मुख्यमंत्री ने थामा कांग्रेस का हाथ……

एथलीट हिमा दास ने रचा इतिहास, मिल्खा सिंह और पीटी उषा को भी छोड़ा पीछे

मोदी सरकार द्वारा सोशल मीडिया की निगरानी पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, कहा- यह ‘‘ निगरानी राज बनाने जैसा

शिवपाल के पास वापस पहुंचे मुलायम सिंह यादव…..

Spread the love

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com