Breaking News

इटावा गवाह है कांशीराम को पहली बार संसद पहुंचाने मे, मुलायम सिंह की मदद का

इटावा , बहुजन नायक कांशीराम ने समाजवादी पार्टी  के गढ इटावा से चुनाव जीत कर पहली बार संसद की दहलीज लांघी थी और उनकी इस जीत में सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव की महत्वपूर्ण भूमिका थी।ये सच है कि समाजवादी जननायक मुलायम सिंह यादव की बदौलत कांशीराम ने पहली बार संसद का रूख किया था ।

मायावती ने दी मान्यवर कांशीराम को इस तरह श्रद्धांजलि

तुरंत मिल रहा कर्ज, वह भी ब्याज मुक्त , बस आपको करना है ये काम

1991 के आम चुनाव मे इटावा मे जबरदस्त हिंसा के बाद पूरे जिले के चुनाव को दुबारा कराया गया था । दुबारा हुये चुनाव मे बसपा सुप्रीमो कांशीराम ने खुद संसदीय चुनाव मे उतरे । बसपा के पुराने नेता और 1991 मे कांशीराम के संसदीय चुनाव प्रभारी खादिम अब्बास बताते है कि मुलायम सिंह यादव ने समय की नब्ज को समझा और कांशीराम की मदद की जिसके एवज मे कांशीराम ने बसपा से कोई प्रत्याशी मुलायम सिंह यादव के खिलाफ जसवंतनगर विधानसभा से नही उतारा जबकि जिले की हर विधानसभा से बसपा ने अपने प्रत्याशी उतरे थे।

क्या है शिवपाल यादव के सेकुलर मोर्चे के एक सीट का चक्कर, यूपी मे 80 या 79 ?  

शिवपाल यादव ने सेक्युलर मोर्चे को अन्य राज्य मे भी दिया विस्तार, कई पदाधिकारी नियुक्त

कांशीराम मुलायम सिंह के बीच हुये गुप्त समझौते के तहत कांशीराम ने अपने लोगो से उपर का वोट हाथी और नीचे का वोट हलधर किसान चिंह के सामने देने के लिये कह दिया था । जिसके नतीजे के तौर पर जसंवतनगर मे नीचे मतलब मुलायम और उपर मतलब कांशीराम को ना केवल वोट मिला बल्कि जीत भी अर्जित की ।

फिर बढ़े तेल के दाम, जानें आज क्या है पेट्रोल-डीजल का रेट..

Maruti Suzuki Swift क्या हादसे में बचा पाएगी आपकी जान, जानकर रह जाएगें हैरान

चुनाव लड़ने के दौरान कांशीराम इटावा मुख्यालय के पुरबिया टोला रोड पर स्थित तत्कालीन अनुपम होटल मे करीब एक महीने रहे थे । वैसे अनुपम होटल के सभी 28 कमरो को एक महीने तक के लिये बुक करा लिया गया था लेकिन कांशीराम खुद कमरा नंबर 6 मे रूकते थे और 7 नंबर मे उनका सामान रखा रहता था । इसी होटल मे कांशीराम ने अपने चुनाव कार्यालय भी खोला था ।

यूपी पुलिस को योगी सरकार देगी ये बड़ा तोहफा….

यूपी की कैबिनेट मंत्री रीता बहुगुणा जोशी को लगा बड़ा झटका…

इटावा लोकसभा आरक्षित सीट पर वर्ष 1991 में हुए उपचुनाव में बसपा प्रत्याशी कांशीराम समेत कुल 48 प्रत्याशी मैदान में थे। चुनाव में कांशीराम को एक लाख 44 हजार 290 मत मिले और उनके समकक्ष भाजपा प्रत्याशी लाल सिंह वर्मा को 1 लाख 21 हजार 824 मत, कम मिलने से जीत कांशीराम को मिली थी। जब कि मुलायम सिंह यादव की जनता पार्टी से लडे रामसिंह शाक्य को मात्र 82624 मत ही मिले थे।

अब हथियार खरीदना हुआ आसान, सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन….

एशियाई पैरा खेलों में संदीप चौधरी का विश्व रिकार्ड,भारत को तीन स्वर्ण सहित 11 पदक

मुलायम सिंह का कांशीराम के प्रति यह आदर अचानक उभर कर सामने आया था जिसमें मुलायम सिंह ने अपने खास रामसिंह शाक्य की पराजय करने में कोई गुरेज नहीं किया था, इस हार के बाद रामसिंह शाक्य और मुलायम सिंह के बीच मनुमुटाव भी हुआ लेकिन मामला फायदे नुकसान के चलते शांत हो गया ।

सीबीआई नही ढूंढ पायी जेएनयू के छात्र नजीब को, हाईकोर्ट ने ‘क्लोजर रिपोर्ट ’ की इजाजत दी

गुजरात हिंसा को लेकर, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र को दी खुली धमकी ?

कांशीराम की इस जीत के बाद उत्तर प्रदेश में मुलायम और कांशीराम की जो जुगलबंदी शुरू हुई। मुलायम सिंह यादव ने खुद की पार्टी यानि समाजवादी पार्टी गठन किया और बसपा से तालमेल किया । 1993 में समाजवादी पार्टी ने 256 सीटों पर और बहुजन समाज पार्टी ने 164 सीटों पर विधानसभा के लिए चुनाव लड़ा और पहली बार उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज की सरकार बनाने में कामयाबी भी हासिल कर ली । उत्तर प्रदेश में 1995 में मुलायम सिंह यादव के नेतृत्व मे सरकार बनी।

पद्म भूषण से विभूषित पूर्व कुलपति ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट मे आतमहत्या का हुआ खुलासा

अब केवल बोलने से भी चलेगा आपका स्मार्ट फोन, जल्द कीजिये इस एप्प को एक्टिवेट

लेकिन 2 जून 1995 को हुये गेस्ट हाउस कांड के बाद सपा बसपा के बीच बढी तकरार इस कदर हावी हो गई कि दोनो दल एक दूसरे को खत्म करने पर अमादा हो गये। लेकिन नये बदले मिजाज के तौर पर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती के बीच गठबंधन को लेकर चल रही जुगलबंदी एक नया संदेश दे रहा है इटावा मे इस नये संदेश की आहट का एहसास अभी से शुरू हो गया है ।

पत्थर समझ कर रखता था घर में ,कीमत जानी तो उड़ गये होश

हिंसा के बीच गुजरात मे, यूपी और बिहार के IAS व IPS अफसरों की संख्या आयी सामने

‘#मी टू’ अभियान’ से उत्साहित केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने की ये खास मांग

चीनी मिल मालिकों की मदद कर, भाजपा सरकार ने जाहिर किये अपने ये इरादे-अखिलेश यादव

Spread the love

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com