Breaking News

खूंखार अजगरों का आशियाना बना ये जिला, अजगरों के खौफ से चंबल घाटी थर्रायी

इटावा , अजगर का नाम सुनते ही बदन मे कंपकंपी दौड़ जाती है। जबकि चंबल घाटी क्षेत्र इन दिनो अजगरों का आशियाना बना हुआ है। हाल के दिनो में इटावा मे मवेशियों और जंगली जानवरो को अजगर का निवाला बनाती दर्जनो तस्वीरे सामने आयी है।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद, आधार के इस्तेमाल को लेकर अहम घोषणा

पोस्ट ऑफिस की स्कीम का उठाएं फायदा, लीजिए 8.5% ब्याज दर…..

वन विभाग के सूत्रों के मुताबिक इटावा मे पिछले एक दशक के दौरान 500 से अधिक अजगर निकल चुके है । करीब दो फुट से लेकर 20 फुट और पांच किलो से लेकर 80 किलो से अधिक वजन वाले अजगर निकले है। चंबल घाटी के यमुना तथा चंबल क्षेत्र के मध्य तथा इन नदियों के किनारों पर सैकड़ों की संख्या में अजगर हैं हालांकि इन अजगरों की कोई तथ्यात्मक गणना नहीं की गई है ।

#Me Too की एक और कड़ी,बॉलीवुड की टॉप एक्ट्रेस ने लगाया फिल्म डायरेक्टर पर यौन शोषण का आरोप

लखनऊ के 550 होनहार छात्रों ने पपीते से DNA अलग कर बनाया गिनीज बुक में रिकॉर्ड

दशकों तक खूखांर डाकुओं की शरणस्थली के तौर पर कुख्यात रहा चंबल घाटी क्षेत्र इन दिनो अजगरों के खौफ से थर्राया हुआ है।अजगरों की दहशत क्षेत्र में इस कदर व्याप्त है कि आसपास के क्षेत्रों में ग्रामीणों ने अपने मवेशियों को घरों में ही बांधना शुरू कर दिया है।  उनको देख कर ऐसा लगने लगा है कि मानो यह चंबल ना होकर बल्कि अजगरो का सबसे बडा आशियाना बन गया है।

अब मुलायम सिंह के संसदीय क्षेत्र में शिवपाल यादव उतारेंगे अपना प्रत्याशी..

‘स्वच्छ भारत मिशन’ को लेकर कांग्रेस का बड़ा हमला, कहा-आंकड़े सिर्फ ‘कागजी’,अभियान विफल

चकरनगर वन रेंज के वन रक्षक रोहित कुमार बताते हैं कि बरसात के दिनों में स्थिति इस तरह से बिगड़ चुकी है कि हर दूसरे तीसरे दिन एक या दो अजगर गांव में निकल रहे हैं । जिससे लोगो को खासी परेशानी हो रही है ।इटावा के प्रभागीय निदेशक वन सत्यपाल सिंह का कहना है कि गांव वाले ग्रामवासी घर से निकलने से पहले सतर्कता बरतें और सुबह शाम विशेष रूप अलर्ट रहने की आवश्यकता है ।

2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर, शरद पवार का बड़ा एेलान

अब देश में समाज को तोड़ा जा रहा है, वह भी सरकार द्वारा-अखिलेश यादव

उनका कहना है कि अजगर ऐसा सांप है जो सामान्यता लोगो को नुकसान नही पहुचाता है लेकिन जब उसकी जद मे कोई आ जाता है तो बचना काफी मुश्किल हो जाता है ।अजगरो के शहर की ओर आने के पीछे मुख्य कारण जंगलो का खासी तादात मे कटान माना जा रहा है कटान के चलते अजगरो के वास स्थलो को नुकसान हो रहा है इसलिये अजगरो को जहा भी थोडी बहुत हरियाली मिलती है वही पर अजगरो अपना बसेरा बना लेते है।

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव- जानिये क्या हैं राजनैतिक समीकरण ?

तेलंगाना विधानसभा चुनाव- जानिये क्या है राजनैतिक समीकरण ?

उन्होने कहा कि अजगर एक संरक्षित जीव है।यह मानवीय जीवन के लिए बिलकुल खतरनाक नहीं है लेकिन सरीसृप प्रजाति का होने के कारण लोगों की ऐसी धारणा बन गई और इसकी विशाल काया के कारण लोगों में अजगर के प्रति दहशत फैल गई है । हिंदुस्तान में इस प्रजाति के अजगरों की संख्या काफी कम है, यही कारण है कि इन्हें संरक्षित घोषित कर दिया गया है। पकडे जाने के बाद छोटे बडे अजगरो को संरक्षित वन क्षेत्रो मे सुरक्षात्मक तौर पर छोड दिया जाता है ।

मिजोरम विधानसभा चुनाव- जानिये क्या हैं राजनैतिक समीकरण ?

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव- जानिये क्या हैं राजनैतिक समीकरण ?

श्री सिंह ने बताया कि अजगरों के शहरी क्षेत्र में आने की प्रमुख वजह यह है कि जंगलों के कटान होने के कारण इनके प्राकृतिक वास स्थल समाप्त होते जा रहे हैं। जंगलों में जहां दूब घास पाई जाती है, वहीं यह अपने आशियाने बनाते हैं। अब जंगलों के कटान के कारण दूब घास खत्म होती जा रही है। इसके अलावा अजगर अपने वास स्थल उस स्थान पर बनाते हैं जहां नमी की अधिकता होती है परंतु जंगलों में तालाब खत्म होने से नमी भी खत्म होती जा रही है।

Spread the love

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com