Breaking News

इस मंदिर में पूजा करने से भगवान का आशीर्वाद नहीं श्राप मिलता है…

नई दिल्ली,देश और दुनिया में देवी-देवताओं के जितने भी मंदिर सभी की भक्तों में बहुत आस्था है। भगवान के भक्त पीड़ाओं से मुक्ति पाने के लिए उनके घर का सहारा ढूंढते हैं जहां से उन्हे सुखी और समृद्धि जीवन मिलने की कामना होती है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जहां पूजा करने से आपको भगवान का आशीर्वाद नहीं श्राप मिलता है।

यूपी में नहीं बिकेगी शराब, जारी हुए निर्देश…

बैंक में नौकरी का सुनहरा मौका, निकली बंपर वैकंसी..

उत्तराखंड के अल्मोड़ा से 115 किलोमीटर दूर पिथौड़ागढ़ के ग्राम सभा बल्तिर के हथिया देवाल के इस मंदिर में शिव जी की प्रतिमा तो है लेकिन उसकी प्राणप्रतिष्ठा नहीं की गई। यही कारण यह मान्यता है कि इस मंदिर में पूजा करने से सुख नहीं दुख की प्राप्ति होती है। वैसे इस मंदिर को देखने के लिए दूर-दूर से श्रद्धालु आते हैं, लेकिन भगवान शिव को जल तक नहीं चढ़ाते। भगवान भोलेनाथ का दर्शन करते हैं, मंदिर की अनूठी स्थापत्य कला को निहारते हैं। इस मंदिर की खास बात यह है कि लोग यहां भगवान शिव के दर्शन करने तो आते हैं, लेकिन यहां भगवान पूजा नहीं की जाती।

सेना में निकली बंपर भर्ती, पहली बार भरे जाएंगे ऑनलाइन आवेदन फॉर्म…

इन जंगली गोरिल्लाओं ने अधिकारयों के साथ किया ऐसे काम,देखकर रह जाएंगे हैरान

मंदिर को बनाने वाले ने अपनी कला का भरपूर प्रदर्शन किया है। इसे बनाने वाला शिल्पकार सिर्फ एक था और उसने एक हाथ से इस मंदिर को बनाया था। उस शिल्पकार का दूसरा हाथ नहीं था। उसने एक हाथ से एक रात में पूरा मंदिर बना दिया था। इस मंदिर की अनूठी स्थापत्य कला काफी खूबसूरत है। एक हाथ से इस मंदिर के बनने के कारण ही इसका नाम एक हथिया देवाल पड़ा है।मंदिर की स्थापत्य कला नागर और लैटिन शैली की है। चट्टान को तराश कर इसे बनाया गया है। चट्टान को काट कर ही शिवलिंग बनाया गया है। मंदिर का साधारण प्रवेश द्वार पश्चिम दिशा की तरफ है।

Flipkart सेल में मिल रहा है इतने हजार रुपये तक का ऑफर…

बीजेपी का सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा ‘चौकीदार रैप’

मूर्तिकार ने रात भर में चट्टान को काटकर एक देवालय तो बना दिया लेकिन जल्दीबाजी में उसने देवालय के अंदर शिवलिंग का अरघा विपरीत दिशा में बना दिया था। ऐसा माना जाता है कि अरघा के विपरीत दिशा में होने से इसकी पूजा फलदायक नहीं होती और इसे पूजने से दोष का भागी होता है पूजा करने वाला। दोषपूर्ण मूर्ति का पूजन अनिश्टकारक भी हो सकता है। यही कारण है कि यहां पूजा नहीं होती।

सलमान खान के शादी न करने की असली वजह आई सामने,जानकर रह जाएंगे हैरान..

यहां पर मिल रहा है सबसे सस्ता पेट्रोल….

आज ही घर में रख दे ये चीज, पानी की तरह बरसेगा पैसा…

पेंशन को लेकर इन बैंकों ने शुरू की ये नई स्कीम…

इन सरकारी कर्मचारियों को मिलेगा इतने हजार रुपए का फायदा…

इस गांव में दबा है कई टन सोना,लेकिन….

Spread the love
Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com