नया घर बनाने को लेकर सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम…..

नई दिल्ली, नया घर बनाने को लेकर सरकार ने  ये बड़ा कदम उठाया। नया मकान बनाने वालों को अब पानी के लिए दो पाइपलाइन बिछानी होगी। एक पाइपलाइन पेयजल के लिए होगी, जबकि दूसरी अन्य घरेलू कार्यों के लिए। किसी भी फ्लैट, मकान व इमारत का नक्शा तभी पास होगा, जब उसमें पानी की दो पाइपलाइन का प्रावधान होगा।

इस देश में चार बच्‍चे हुए तो जिंदगी भर के लिए टैक्‍स माफ

इस महिला ने खरीदी थी ये छोटी सी चीज,अब बन गई करोड़पति…

दिल्ली सरकार के निर्देश पर दिल्ली जल बोर्ड ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है। कुछ समय पहले जारी आदेश में सभी स्थानीय निकायों को इसे अनिवार्य रूप से लागू करने के लिए कहा गया है। निर्माण कार्य के पूरा होने पर कंप्लीशन सर्टिफिकेट में भी इस बात की जांच की जाएगी कि पानी की दो पाइपलाइन बिछाई गई है या नहीं। मास्टर प्लान 2021 के अनुसार, दिल्ली विकास प्राधिकरण  द्वारा अगले कुछ सालों में दिल्ली में करीब 12 लाख फ्लैट बनाए जाने हैं। लैंडपूलिंग पॉलिसी के तहत बिल्डरों द्वारा भी बड़ी संख्या में फ्लैट बनाए जाने की उम्मीद है।

इस कपड़े से आपका शरीर गर्मियों में ठंडा और सर्दियों में रहेगा गर्म….

बंद हो जाएगा आपका मोबाइल अगर आपने इसे किया नजरअंदाज….

दिल्ली सरकार कई माह से ऐसी व्यवस्था लागू करने का प्रयास कर रही थी जिससे कि पेयजल को अन्य घरेलू जरूरतों के लिए खर्च न किया जाए। इसकी बर्बादी रोकी जा सके। दिनेश मोहनिया (उपाध्यक्ष-दिल्ली जल बोर्ड, दिल्ली सरकार) के मुताबिक,  दो पाइपलाइन डालने से पेयजल के दुरुपयोग पर लगाम लगेगी। इसे देखते हुए जल बोर्ड ने आदेश जारी कर सभी स्थानीय निकायों को भेज दिया है। अब नए फ्लैट, मकान व इमारत का नक्शा पानी की दो पाइपलाइन बिछाने के प्रावधान के बाद ही पास होगा।

ये है दुनिया की सबसे छोटी शादी…..

सांप को दे अपने ब्वॉयफ्रेंड या गर्लफ्रेंड का नाम, फिर देखें कमाल,पूरा मामला हैरान कर देगा

 दिल्ली में बनने वाले नए मकानों में दो पाइपलाइन बिछाना अनिवार्य होगा। दिल्ली सरकार ने पानी की बर्बादी रोकने के लिए यह कदम उठाया है जो कि सर्वथा सही है। निश्चित रूप से इससे पेयजल की बर्बादी रुकेगी। राजधानी के कई इलाके में लोगों को पर्याप्त पेयजल उपलब्ध नहीं हो रहा है। वहीं, दूसरी ओर इसकी बर्बादी हो रही है। काफी मात्र में पीने का पानी शौचालय व अन्य कामों में प्रयोग किया जा रहा है। यदि मकान में पीने व अन्य कार्यो के लिए अलग-अलग पानी की आपूर्ति होगी तो पेयजल की किल्लत को दूर करने में मदद मिलेगी। इसे लेकर दिल्ली जल बोर्ड ने आदेश जारी कर दिया है। दो पाइपलाइन का प्रावधान करने के बाद ही मकान का नक्शा पास हो सकेगा।

गर्भवती महिलाओं को 1.5 लाख रुपये देगी सरकार, बस करना होगा ये काम

कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी,इतने रुपय हो सकता है न्यूनतम वेतन….

 वर्षा जल संचयन को लेकर नियम भी बनाए गए हैं, लेकिन इसे सख्ती से पालन नहीं किया जा रहा है जिससे भारी मात्र में पानी बर्बाद हो जाता है। यदि वर्षा जल संचयन के नियम को सख्ती के साथ लागू किया जाए तो दिल्ली में पानी की बढ़ती मांग को पूरा करने में मदद मिलेगी। मास्टर प्लान 2021 के अनुसार करीब 12 लाख फ्लैट यहां बनने हैं। लैंडपूलिंग पॉलिसी से निर्माण कार्य में तेजी आएगी। ऐसे में आने वाले दिनों में पानी की मांग और बढ़ जाएगी, इसलिए उपलब्ध जल का सही इस्तेमाल के लिए लोगों को प्रोत्साहित करना होगा। साथ ही पानी की बर्बादी करने और जल संरक्षण के नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।

कुंभ में सिन्दूर लगाकर पहुंची राखी सावंत, सीएम योगी के लिए कही ये बात

ईयरफोन लगाने से हुई एक व्यकित की मौत…

ये है एक ऐसा जीव जो कभी नही मरता….

ई-सिगरेट पीने से मुंह में हुआ बड़ा धमाका , हुई मौत

Spread the love

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com