Breaking News

सपा-बसपा में गठबंधन को लेकर तय हुई ये शर्त…..

लखनऊ, आगामी लोकसभा चुनावों को देखते हुए बीजेपी को रोकने के लिए यूपी में सपा और बसपा के बीच गठंबधन को लेकर दोनो के बीच  ये शर्त तय हुई है.

सपा के इस नेता का बड़े स्तर पर मनेगा जन्मदिन, जानिए क्यों…?

पिछड़ी जातियों पर अध्ययन के लिये यूपी सरकार ने बनायी समिति, नियुक्त किये अध्यक्ष और सदस्य

वाराणसी, कानपुर नगर, आगरा व उन्नाव के डीएम सहित, कई आईएएस अफसरों के तबादले

लोकसभा चुनाव में सीटों के बंटवारे को लेकर सपा और बसपा के बीच कोई विवाद पैदा ना हो इसके लिए दोनों पार्टियों  के बीच अनौपचारिक रूप से इस बात पर भी समहति बनी है कि दोनों दल एक दूसरे के नेताओं का शिकार नहीं करेंगे. सूत्रों का कहना है कि सपा, बसपा के बागियों को अपनी पार्टी में शामिल नहीं करेगी जबकि बसपा भी इसी आधार पर सपा के बागियों को अपनी पार्टी में शामिल नहीं करेगी. हालांकि इस मामले में कोई लिखित अधिसूचना जारी नहीं की गई है, लेकिन दोनों पार्टियों के वरिष्ठ नेताओं ने 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले इसे विश्वास निर्माण में एक बड़ा कदम बताया है.

कांग्रेस का बीजेपी पर हमला, कहा-अमित शाह घड़ियाली आंसू बहा रहें

यूपी मे कानून व्यवस्था की तरह, बिजली व्यवस्था भी पटरी से उतरी-समाजवादी पार्टी 

जब नही सुना अफसरों ने तो योगी सरकार के मंत्री ने खुद उठाया फावड़ा,शुरू किया ये काम

सपा के प्रवक्‍ता राजेंद्र चौधरी ने  बताया कि पिछले दो महीने से बसपा के किसी भी दलबदलू नेता ने सपा का दामन नहीं थामा है. उन्‍होंने कहा, ”जब से सपा और बसपा ने लोकसभा चुनावों में बीजेपी को रोकने के लिए गठबंधन बनाने का सैद्धांतिक रूप से फैसला किया है, तब से दोनों दलों के नेताओं के परस्‍पर पाला बदलने पर रोक लग गई है.” सिर्फ इतना ही नहीं उन्‍होंने यह भी कहा कि इस तालमेल के कारण दोनों दलों के दलबदलू नेता किसी तीसरे दल में जाने से भी कतरा रहे हैं.

आंकड़ों को लेकर शर्म आनी चाहिए, मोदी सरकार को इसे उपलब्धि नहीं बताना चाहिए-उमर अब्दुल्ला

बीजेपी विधायक की पत्रकारों को खुली धमकी, सीमा मे रहें नही तो….?

सोनिया और राहुल गांधी से मिलने पहुंची सपना चौधरी,राजनीति में धमाल मचाने को तैयार

 एसपी और बीएसपी के गठबंधन की घोषणा के बाद उनका मन बदल गया है. बसपा के भी एक नेता ने राजेंद्र चौधरी के बयान का समर्थन करते हुए कहा कि तकरीबन दो महीने आगरा में सपा के एक पूर्व प्रत्‍याशी ने बसपा को ज्‍वाइन किया था. उसके बाद से इस तरह की कोई घटना नहीं हुई. इन दलों के नेताओं के मुताबिक दरअसल किसी पार्टी को मजबूत करने के बजाय पूरा दारोमदार गठबंधन को बनाने को लेकर है. इसलिए दूसरे दल का मजबूत प्रत्‍याशी होने के बावजूद उसे अपनी पार्टी में शामिल नहीं किया जाएगा.

शिवपाल यादव ने अखिलेश और धर्मेन्द्र को लेकर कही ये बड़ी बात…..

अमित शाह के बैंक पर कांग्रेस का बड़ा हमला, बताया- बड़ा घोटाला, खोले कई और राज

नोटबंदी के बाद अमित शाह के बैंक मे, सबसे ज्यादा रकम जमा करने को लेकर, बड़ा खुलासा

सपा के एक वरिष्ठ नेता ने बताया, ‘यह स्पष्ट हैं कि जो बसपा छोड़ेगा वह बसपा नेतृत्व के खिलाफ बयान भी देगा. इसलिए हम ऐसे किसी नेता के साथ खड़े नहीं हो सकते जो दूसरी पार्टी  के खिलाफ बोलता है. यह हमारी पार्टी की प्राकृतिक सद्भावना है. इसी तरह की उम्मीद हम बसपा से करते हैं. सपा नेता ने आगे कहा कि सबसे महत्वपूर्ण यह है कि समाजवादी पार्टी ने फैसला लिया है कि वह बीएसी के किसी नेता को पार्टी ने शामिल होने के लिए नहीं कहेगी. चाहे वह मजबूत उम्मीदवार ही क्यों ना हो.

प्रसिद्ध समाजवादी छायाकार अशोक यादव के त्रयोदश संस्कार पर, बड़ी संख्या मे लोगों ने दी श्रद्धांजलि

लोकसभा चुनाव से पहले ये नेता हुए सपा में शामिल….

योगी सरकार से सहयोगी दल इस कदर नाराज, नही शामिल हुये इस खास कार्यक्रम मे

जानिए क्यों नाराज हुए ये दलित सांसद,लगाये गंभीर आरोप

दलित विधायक के अपमान पर, बुरी तरह घिरे बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय

Spread the love

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com