Breaking News

गुजरात मे यूपी-बिहार के लोगों के खिलाफ हिंसा जारी, डर से भारी संख्या मे भाग रहे लोग

अहमदाबाद,  गुजरात मे यूपी-बिहार के लोगों के खिलाफ हिंसा जारी है।हिंसा के डर से उत्तर प्रदेश और बिहार समेत अन्य सूबे से काम करने गुजरात आए लोग भारी संख्या में अपने गृहराज्यों में वापस लौट रहे हैं।

गुजरात के साबरकांठा जिले में 14 माह की बच्ची से बलात्कार की घटना के बाद गैर-गुजरातियों खासकर यूपी, बिहार के लोगों पर एक बार फिर हमला हुआ है।तमाम सुरक्षा इंतजामों के बावजूद गुजरात में हिंसा की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। रविवार को वघोड़िया इंडस्ट्रियल एरिया की दो इंजिनियरिंग कंपनियों में काम कर रहे गैर-गुजरातियों पर कोटांबी और कामरोल गांव के 17 लोगों ने हमला बोल दिया। वहीं न्यू रानिप इलाके से भी झड़प की सूचना सामने आई है। पुलिस माहौल को नियंत्रित करने की कोशिश में जुटी हुई है।

लखनऊ के 550 होनहार छात्रों ने पपीते से DNA अलग कर बनाया गिनीज बुक में रिकॉर्ड

अब मुलायम सिंह के संसदीय क्षेत्र में शिवपाल यादव उतारेंगे अपना प्रत्याशी..

सालों से गुजरात में रह रहे उत्‍तर प्रदेश, मध्‍य प्रदेश और बिहार के यह लोग भीड़ के डर से भाग रहे हैं। यह गुस्‍साई भीड़ 14 वर्षीय बच्‍ची से दुष्‍कर्म के बाद, ‘गैर-गुजरातियों’ पर हमले कर रही है। सूत्रों के अनुसार, कई मकान मालिकों ने घर खाली करने को कह दिया था।  प्रवासियों खासकर यूपी और बिहार के लोगों को निशाना बनाया जा रहा है। 28 सितंबर को जिस बच्‍ची से बिहार के शख्‍स ने कथित तौर पर बलात्‍कार किया, उसे शनिवार को अस्‍पताल से छुट्टी दे दी गई। उसकी हालत खतरे से बाहर है। आरोपी को उसी दिन गिरफ्तार कर लिया गया था।

2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर, शरद पवार का बड़ा एेलान

अब देश में समाज को तोड़ा जा रहा है, वह भी सरकार द्वारा-अखिलेश यादव

बच्ची के साथ कथित रूप से बलात्कार करने के आरोप में बिहार के एक युवक को गिरफ्तार किए जाने के बाद गैर-गुजरातियों को निशाना बनाया गया और सोशल मीडिया पर नफरती संदेश फैलाए गए। गुजरात के डीजीपी शिवानंद झा के मुताबिक अबतक कुल 42 केस दर्ज किए गए हैं। इसके अलावा 342 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। सोशल मीडिया पर नफरत फैलाने वाली और भड़काऊ पोस्ट करने के आरोप में 6 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

डीजीपी ने बताया कि गुजरात से बाहरी लोगों पर हिंसा के इन मामलों में कुल 6 जिले प्रभावित हैं। मेहसाणा और साबरकांठा जिले सबसे अधिक प्रभावित हैं। मेहसाणा में 15 केस दर्ज हुए हैं जिसके तहत 89 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। साबरकांठा में 11 केस दर्ज हुए हैं जबकि 95 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।  इन दो जिलों के अलावा अहमदाबाद में 7 केस और 73 गिरफ्तारी, गांधीनगर में 3 केस और 27 गिरफ्तारी, अहमदाबाद ग्रामीण में 3 केस और 36 गिरफ्तारी, अरावली में 2 केस और 20 गिरफ्तारी व सुरेंद्रनगर में एक केस और दो गिरफ्तारी हुई है।

पोस्ट ऑफिस की स्कीम का उठाएं फायदा, लीजिए 8.5% ब्याज दर…..

#Me Too की एक और कड़ी,बॉलीवुड की टॉप एक्ट्रेस ने लगाया फिल्म डायरेक्टर पर यौन शोषण का आरोप

ठाकोर समुदाय के लोगों ने इसमें शामिल आरोपियों की सामाजिक पृष्ठभूमि के सभी लोगों को बलात्कार में शामिल समझ लिया है। हाल के दिनों में बलात्कार को राजनीतिक रूप देने के लिए धार्मिक पृष्ठभूमि को उभारा गया ताकि उसके बहाने एक समुदाय पर टूट पड़ें। पीड़िता के साथ हुई क्रूरता के बहाने धार्मिक गोलबंदी का मौका बनाया जा रहा है। यही काम जाति के स्तर पर भी हो रहा है। गुजरात के सभी दलों ने इस घटना की निंदा की है। ठाकोर समाज के नेता अल्पेश ठाकोर ने भी निंदा की है और अपील की है।

‘स्वच्छ भारत मिशन’ को लेकर कांग्रेस का बड़ा हमला, कहा-आंकड़े सिर्फ ‘कागजी’,अभियान विफल

 

Spread the love

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com