Breaking News

क्या बीजेपी अब डूबता हुआ जहाज ?, एक माह मे इस दूसरी पार्टी ने भी छोड़ा साथ

लखनऊ, केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी की अगुवाई वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की स्थिति अब डूबती हुये उस जहाज की तरह हो गई है, जिसे उस पर ही सवार लोग 2019 के लोकसभा चुनाव मे डूबता हुआ जहाज मानकर छोड-छोड़कर भाग रहें हैं।

मायावती की प्रेस कांफ्रेंस से, बीजेपी की धड़कनें बढ़ीं, डैमेज कंट्रोल का है ये प्लान

मायावती ने दी ये अहम सलाह, तो अखिलेश यादव ने लिया तुरंत एक्शन…

भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) को गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) ने छोड़ दिया है। इस महीने बीजेपी और एनडीए छोड़ने वाली यह दूसरी पार्टी है। इससे पहले तेलगु देशम पार्टी (टीडीपी) ने भी इसी महीने एनडीए छोड़ दिया था और बीजेपी पर वादाखिलाफी का आरोप लगाया था।

सपा-बसपा गठबंधन अटूट, भाजपा कर रही तोड़ने की साजिश- मायावती

सपा-बसपा गठबंधन अटूट, भाजपा कर रही तोड़ने की साजिश- मायावती

जीजीएम के नेता एल एम लामा ने बीजेपी की की अगुवाई वाले एनडीए छोड़ने का एलान करते हुए कहा कि उनकी पार्टी का बीजेपी और एनडीए से कोई नाता नहीं रहा। उन्होंने  बीजेपी पर गोरखा लोगों को धोखा देने का आरोप  लगाया है। माना जा रहा है कि जीजेएम ने पश्चिम बंगाल बीजेपी प्रमुख दिलीप घोष के बयान से आहत होकर एनडीए छोड़ने का फैसला किया है।

भीमराव अंबेडकर का विरोध करने वाला ये विधायक हुआ बर्खास्त

जारी रहेगा सपा- बसपा गठबंधन, अगले दो चुनावों की रणनीति भी तय

लामा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहा करते थे कि गोरखा लोगों का जो सपना है वो हमारा सपना है लेकिन दिलीप घोष के बयान ने पीएम के इस बयान और बीजेपी की नीयत पर से पर्दा उठा दिया है। दिलीप घोष ने हाल ही में कहा है कि गोरखा जमनुक्ति मोर्चा से बीजेपी का सिर्फ चुनावी गठबंधन है। इसके अलावा इस पार्टी से किसी भी राजनीतिक मुद्दे पर कोई समझौता नहीं हुआ है।

लालू यादव को अब तक की सबसे ज्यादा सज़ा

पहली वरीयता मे, बीजेपी से ज्यादा वोट पाने के बाद, भीमराव अंबेडकर कैसे हारे…

लामा के मुताबिक दिलीप घोष के इस बयान से गोरखा समुदाय अपने को ठगा महसूस कर रहा है। उन्होंने कहा कि बीजेपी के लोग ना तो गोरखा की समस्याओं के प्रति संवेदनशील हैं और ना ही सजग। लाना मे कहा कि हमने गठबंधन धर्म निभाते हुए पश्चिम बंगाल की दार्जिलिंग संसदीय सीट दो बार बीजेपी को उपहार में दे दी। साल 2009 में यहां से बीजेपी के जसवंत सिंह को और साल 2014 में एस एस अहलूवालिया को जीत दिलाई।

पत्रकारों के कमज़ोर होने से, कमज़ोर होगा लोकतंत्र

लक्ष्मी नारायण बने, वक्फ विकास निगम लिमिटेड के अध्यक्ष

लामा ने कहा कि दार्जिलिंग सीट पर बीजेपी उम्मीदवार को जिताने से हमें उम्मीद थी कि गोरखाओं की समस्याएं सुलझाने में बीजेपी मदद करेगी लेकिन बीजेपी ने ऐसा नहीं किया और बार-बार धोखा दिया। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि बीजेपी की वजह से ही दार्जिलिंग और पहाड़ी इलाकों में अविश्वास का माहौल और उथल-पुथल है।

उ0प्र0 राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष का पद अब देखेंगे …?

प्रधानमंत्री, गृहमंत्री के बाद वित्तमंत्री भी अब यूपी से..

 बीजेपी ने चुनाव जीतने के लिये किया ये गंदा खेल- बसपा

 यूपी से राज्यसभा के सभी नतीजे घोषित

यूपी राज्यसभा चुनाव: बीजेपी-बीएसपी के 1-1 वोट रद्द, 3 MLA ने की क्रॉस वोटिंग

देखिये कितने नतीजे भाजपा के पक्ष में, जया बच्चन चुनाव जीतीं

Spread the love

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com