Breaking News

राज्य वित्त आयोग ने लखनऊ में की बैठक, समस्याओं को सुना व सुझाव मांगे

लखनऊ, 15वें वित्त आयोग ने सोमवार को यहां विभिन्न विभागों के साथ बैठक कर विकास कार्यों में आ रही कठिनाइयों पर चर्चा की एवं विभागों द्वारा अवगत करायी गयी विविध जानकारियों एवं अन्य समस्याओं को सुना।

बिग बॉस 13 में ये भोजपुरी स्टार बनेंगे पहले वाइल्ड कार्ड कंटेस्टेंट्स

योजना भवन में आयोजित बैठक में राज्य के वित्त आयोग के अध्यक्ष एन0 के0 सिंह ने सर्वप्रथम पंचायतीराज संस्थाओं के प्रतिनिधियों को सुना। प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों से आये पंचायतीराज संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने अपने.अपने ग्राम पंचायतों, क्षेत्र पंचायतों एवं जिला पंचायतों के विकास कार्यों को और अधिक गति प्रदान करने के लिए अधिक बजट का आयोग से अनुरोध किया।

कई शहरों के बाद अब बदलेगा हज हाउस का नाम

राज्य के पंचायती राज विभाग निदेशक पंचायतीराज डॉ0 ब्रह्म देव राम तिवारी ने बताया कि राज्य वित्त आयोग द्वारा आवंटित धनराशि पीएफएमएस के माध्यम से संस्थाओं को अंतरित कर उनका पारदर्शिता के साथ व्यय सुनिश्चित कराया जा रहा है। गांवों में आधारभूत सुविधाओं पंचायत भवनए आंगनबाड़ी केन्द्रए प्राथमिक विद्यालयए उच्च प्राथमिक विद्यालयों आदि का 14वें वित्त आयोग एवं राज्य वित्त आयोग से आवंटित धनराशि से कायाकल्प किया जा रहा है।

यूपी में 30 नवम्बर तक अधिकारियों की छुट्टी बंद

उन्होंने बताया कि प्रदेश में स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालयों का निर्माण कर प्रदेश को ओडीएफ मुक्त घोषित किया जा चुका है। सालिड वेस्ट एवं प्लास्टिक से मुक्ति के लिए सभी ग्राम पंचायतोंए क्षेत्र पंचायतों एवं जिला पंचायतों के स्तर पर अभियान को विस्तृत रूप से चलाया जा रहा है। वित्त आयोग के साथ नगरीय निकायों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक में विभिन्न क्षेत्र के नगर पंचायतए नगर पालिका परिषद एवं नगर निगमों के प्रतिनिधियों ने अपने सुझाव रखे।

खत्म हो रहीं सरकारी नौकरियां, मंत्री बोले- 400 विभाग होंगे बंद

अधिकांश प्रतिनिधयों ने नगरीय संस्थाओं में विकास कार्यों को और अधिक गति प्रदान करने के लिए धन आवंटन की राशि को बढ़ाने की मांग की। प्रतिनिधियों द्वारा आयोग को अवगत कराया गया कि पर्यटक स्थलों एवं औद्योगिक नगरों में फ्लोटिंग जनसंख्या पायी जाती है। जहां स्थानीय निवासियों में अतिरिक्त फ्लोटिंग जनसंख्या होती है। जिसकी मूलभूत आवश्यकता की पूर्ति करनी होती है। अतः इस फ्लोटिंग जनसंख्या के आधिक्य को देखते हुए आयोग द्वारा धन के आवंटन में वृद्धि की जानी वांछनीय है।

पिज्जा खाने वालो के लिए बुरी खबर,कंपनी ने लिया ये बड़ा फैसला….

नगर निकायों द्वारा आयोग को अवगत कराया गया कि जल संकट को देखते हुए तालाबए पोखरों का जीर्णोद्धारए एसटीपी से शोधित जल को उपयोग करनेए विद्युत तारों को भूमिगत करने आदि जनोपयोगी एवं विकास कार्यों के लिए अतिरिक्त धन की आवश्यकता बताई गई। सेटेलाइट सर्वें के माध्यम से नगरों को विकसितए अल्पविकसित व अविकसित वर्गों में विभाजित किया जायए जिससे अपेक्षित विकास किया जा सके। विभिन्न राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने भी अपने सुझाव आयोग के समक्ष रखे। पार्टियों के प्रतिनिधियों ने प्रदेश के क्षेत्रफल एवं जनसंख्या को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्यए शिक्षा विशेषकर प्राथमिक शिक्षा एवं रोजगार आदि पर बल देते हुए प्रदेश को धन आवंटन में वरीयता प्रदान करने की सिफारिश आयोग से की।

यूपी के यूनिवर्सिटी और डिग्री कॉलेजों में बैन हुआ मोबाइल …

यूपी सरकार ने सरकारी कर्मचारियों को दिया ये बड़ा तोहफा….

बछड़ी देगी गाय से ढाई गुना अधिक दूध, नई तकनीक हुई विकसित…..

महात्मा गांधी के ‘हे राम’ और ‘जय श्रीराम’ में क्या फर्क है ?

केन्द्र सरकार के सरकारी कर्मचारियों को मिला ये बड़ा तोहफा….

Spread the love
Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com