गुजरात दंगे से जुडे मामले में अमित शाह को सम्मन जारी, 18 सितंबर को होना है पेश

अहमदाबाद, गुजरात में 2002 के भीषण राज्यव्यापी दंगो के दौरान  नरोडा पाटिया इलाके में हुए नरसंहार जिसमें भीड ने 87 लोगों को मार डाला था, से जुडे 11 अल्पसंख्यकों की हत्या के नरोडा गाम प्रकरण में सजायाफ्ता तत्कालीन मंत्री श्रीमती माया कोडनानी की याचिका पर यहां एक विशेष अदालत ने आज भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को आगामी 18 सितंबर को इसके समक्ष गवाह के तौर पर पेश होने के लिए समन जारी किया।

यूपी- 13 उपजिलाधिकारियों के तबादले , देखिये सूची

कर्जमाफी के नाम पर, किसानों से धोखा कर रही योगी सरकार- समाजवादी पार्टी

एसआईटी की विशेष अदालत के जज पी बी देसाई ने अमित शाह के यहां थलतेज स्थिति पते पर समन भेजने के निर्देश दिये पर साथ ही यह भी कहा कि अगर वह अदालत में पेश नहीं हुए तो अदालत दोबारा समन जारी नहीं करेगी।

गुरूग्राम नगर निगम चुनाव- भाजपा के घोषित प्रत्याशियों मे, एक तिहाई यादव

बीएसएनएल का मोबाइल टावर कारोबार होगा अलग, निजीकरण की सुगबुगाहट

सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर गुजरात दंगे के नौ बडे मामलों की जांच के लिए गठित विशेष जांच दल ;एसआईटी ने नरोडा पाटिया प्रकरण की भी जांच की थी। एसआईटी की विशेष अदालत ने 2012 में श्रीमती कोडनानी और बजरंगदल नेता बाबुबाई पटेल उर्फ बाबू बजरंगी समेत 30 को दोषी ठहराया था। श्रीमती कोडनानी को 28 साल की सजा हुई थी और जुलाई 2014 में खराब स्वास्थ्य के चलते और इस पर अपील में सुनवाई पर देरी के चलते उन्हें जमानत दे दी गयी थी।

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी के प्रचार तंत्र की खोली पोल

कांशीराम इको गार्डन की उपेक्षा पर मायावती चिंतित, दी योगी सरकार को चेतावनी

इस मामले तथा इसकी अपील पर सुनवाई के दौरान श्रीमती कोडनानी ने दावा किया था कि घटना के समय वह गुजरात विधानसभा तथा बाद में यहां सोला सिविल अस्पताल में उपस्थित थीं जहां एक दिन पहले यानी 27 फरवरी को गोधरा में साबरमती एक्सप्रेस के एक कोच एस 6 को जलाने के चलते मारे गये 59 श्कारसेवकों के शव लाये गये थे।

मायावती का भाजपा सरकार पर बड़ा हमला, शिक्षामित्रों के प्रति जतायी सहानुभूति

पुराने नोट बदलने की इजाजत देने पर, सुप्रीम कोर्ट का बड़ा निर्णय

उनका दावा था कि अमित शाह तत्कालीन विधायक के तौर पर दोनो स्थानों पर उनके साथ मौजूद थे। उनकी गवाही उनके लिए महत्वपूर्ण है। ज्ञातव्य है कि नरोडा पाटिया तथा गाम नरसंहार ट्रेन का कोच जलाने की घटना के एक दिन बार यानी 28 फरवरी 2002 को भडने राज्यव्यापी दंगों के दौरान हुई थी। इस मामले में श्रीमती कोडनानी समेत 80 से अधिक लोग आरोपी थे। उन पर हमलावर भीड की अगुवाई करने का आरोप था।

इजरायल की कृषि पद्धति बुन्देलखण्ड में होगी लागू, किसानों को मिलेगा अनुदान

खाली प्लाटों में पड़े कूड़े पर, अब प्लाटों मालिकों पर होगी कड़ी कार्यवाही

पीसीएस मे निधि यादव को, ओबीसी आरक्षण दिये जाने पर हुयी आपत्ति

भाजपा सरकार ने देश भर में आरक्षण को समाप्त करने का काम किया- लालू यादव

जे

 

Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com