Breaking News

दंगा कराने वाले कभी नहीं कर सकते तिरंगे का सम्मान : ब्रजेश पाठक

लखनऊ, तिरंगा यात्रा पर दंगे की आशंका व्यक्त करने के समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव के व्यक्तव्य पर पलटवार करते हुये उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने कहा कि दंगा कराने वाले कभी तिरंगे का सम्मान नहीं कर सकते।

ब्रजेश पाठक ने शुक्रवार को पत्रकारों से कहा कि बांटने का काम तो अखिलेश यादव ने किया है, जो कुनबा कभी सपा की ताकत था, आज वही सबसे बड़ी कमजोरी बन गया है। उनकी इसी मानसिकता की वजह से आज सपा डूबती नैया बन गई है।

उन्होंने कहा “अखिलेश यादव ने सैफई को ही पूरा प्रदेश समझ लिया था, तभी तो प्रदेश के विकास के बजाय वह सिर्फ सैफई तक ही सीमित थे। मेरी उन्हें सलाह है कि रात में सपने देखने के बजाय दिन में देखना शुरू करें। सपा मुखिया ने डिफेंस कारिडोर और गोरखपुर के खाद कारखाना सहित दर्जनों प्रोजेक्ट सपने में ही पूरे कर दिए थे। इसीलिए उन्हें दिन में भी ऐसा ही लगता है।”

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि सपा सरकार की सोच ही भाई, भतीजावाद और जातिवाद तक सीमित थी। सपा सरकार में रोजाना दंगे होते थे। जबकि भाजपा सरकार में कानून व्यवस्था की देशभर में दुहाई दी जा रही है। योगी मॉडल दूसरे प्रदेश अपने प्रदेशों में लागू कर रहे हैं। दलितों, पिछड़ों और मुसलिमों के लिए जितना काम योगी सरकार ने किया है, उतना पिछली किसी सरकार ने नहीं किया होगा। सपा तुष्टीकरण की राजनीति करती है।

उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कई बार इस बात का जिक्र किया है कि जब उनसे मिलने विदेशी प्रतिनिधिमंडल आता था, तो उन्हें यह बताने में शर्म महसूस होती थी कि हम देश की सबसे बड़ी आबादी वाले प्रदेश होने के बावजूद हमारी अर्थव्यवस्था देश में छठे नंबर की है। उन्होंने इसके लिए पिछली सरकारों को भी दोष दिया था कि इस बारे में न उनकी कोई सोच रही और न ही नीति। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते वर्षों में देश की अर्थव्यवस्था को पांच ट्रिलियन यूएस डालर की अर्थव्यवस्था बनाने की बात कही थी। इसके बाद से ही योगी सरकार ने प्रदेश की अर्थव्यवस्था को एक ट्रिलियन यूएस डालर बनाने की मुहिम शुरू की है। योगी सरकार ने एक ट्रिलियन के लक्ष्य को पाने की दिशा में कार्य शुरू कर दिया है और उसे पूरा भी करेगी।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com