Breaking News

बिहार के स्कूली बच्चे सर्वाधिक कुपोषित

childeranनई दिल्ली,  बिहार में स्कूली बच्चों से लेकर किशोरों तक (पांच से 18 साल उम्र) में कुपोषण उच्चतम स्तर पर है। यद्यपि बच्चों का उचित शारीरिक विकास न होने के मामले में उत्तर प्रदेश नंबर एक पर है। 2014 के लिए हुए स्वास्थ्य सर्वेक्षण में यह सच सामने आया है। क्लीनिकल एंथ्रोपोमेट्रिक एंड बायोकेमिकल (सीएबी) सर्वेक्षण की रिपोर्ट में कहा गया है, बिहार में पांच से 18 साल तक के बच्चों के बीच सर्वाधिक कुपोषण (33 फीसद) और गंभीर कुपोषण (21.7 फीसद) रिकॉर्ड किया गया है। जहां तक उत्तराखंड की बात है तो यह आंकड़ा वहां (क्रमशः 19.9 और 6.1 फीसद) न्यूनतम है। महापंजीयक और जनगणना आयुक्त के कार्यालय द्वारा 2014 के लिए बिहार, ओडिशा, छत्तीसगढ़, झारखंड, मध्य प्रदेश, राजस्थान, असम, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश राज्यों में यह सर्वेक्षण कराया गया।

सर्वे में कहा गया है कि उत्तर प्रदेश में उम्र के हिसाब से बच्चों की लंबाई नहीं बढ़ रही है। इस मामले में यह राज्य शीर्ष पर है। झारखंड में सामान्य से कम वजन के सर्वाधिक बच्चे हैं। वहां यह आंकड़ा 45.7 फीसद है, जबकि छत्तीसगढ़ के सर्वाधिक बच्चे (32.4 प्रतिशत) दुर्बल पाए गए हैं। सर्वे के अनुसार, उत्तर प्रदेश के रायबरेली में उचित शारीरिक विकास न होने के सर्वाधिक मामले (77.4 फीसद) पाए गए, जबकि बिहार का औरंगाबाद (37.2 फीसद) शारीरिक दुर्बलता और उत्तर प्रदेश का हमीरपुर कम वजनी बच्चों (70.2 प्रतिशत) के मामलों में नंबर एक पर है। सर्वे कहता है कि ओडिशा के पुरुष सर्वाधिक (36.1 फीसद) कुपोषित पाए गए हैं। उसके बाद राजस्थान के पुरुषों (35.9 फीसद) का नंबर आता है। हालांकि उत्तराखंड के पुरुष इस मामले में सबसे कम (21.8 फीसद) प्रभावित हैं। दूसरी ओर बिहार की महिलाएं सर्वाधिक (30.5 फीसद), जबकि उत्तराखंड की सबसे कम (17.8 फीसद) कुपोषित पाईं गईं हैं। यही नहीं, उत्तर प्रदेश में 18 से 59 आयु वर्ग के लोगों में से 30 फीसद का बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआइ) 18.5 से कम रहा है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com