Breaking News

सुजाता गिदला एक दलित के रूप में बिताई गई जिंदगी के ऊपर लिखेंगी किताब

Open book

नयी दिल्ली, न्यूयॉर्क सबवे में कंडक्टर के रूप में काम करने वाली सुजाता गिदला की जीवनी जल्द ही लोगों को पढ़ने को मिलेगी। इस जीवनी में वह गरीबी, हिंसा और जाति तथा लिंग आधारित भेदभाव के साथ ही भारत में एक दलित के रूप में बिताई गई अपनी जिंदगी के बारे में लिखेंगी।

एक हफ्ते बाद भी, बलात्कारी संजय तिवारी घूम रहा बेखौफ, पुलिस पीड़िता को रही धमका

फजीहत के बाद भी, भाजपा का कम नही हो रहा, बाबा राम रहीम प्रेम ?

 उनकी किताब ‘आंट्स एमंग एलिफेंट्स: एन अनटचेबल फैमिली एंड द मेकिंग ऑफ मॉडर्न इंडिया” दिसंबर में हार्परकॉलिंस इंडिया से छपकर आएगी।

अयोध्या के संतों का भी अखिलेश यादव को मिला आशीर्वाद

जानिये, लालू यादव ने क्यों कहा-जय हो “चूहा सरकार” की

 इस किताब में गिदला की चार पीढ़ियों की कहानी होगी जिसके मध्य में उनके चाचा के जी सत्यमूर्ति  होंगे। वह माओवादी, कवि तथा पीपल्स वार ग्रुप के सह-संस्थापक थे तथा शिवसागर के छद्मनाम से लिखते थे।

उन्होंने कहा, “ मेरी किताब की पृष्ठभूमि में सिर्फ भारत नहीं है। हमारे जैसे परिवार वालों के लिए आजाद भारत का क्या मतलब होता है, यह उसकी कहानी है। मैं बहुत उत्साहित हूं कि यह किताब भारत के पाठकों तक पहुंचे।” गिदला का जन्म ‘अछूत’ माला जाति के घर में आंध्र प्रदेश में हुआ था। उनके माता-पिता कॉलेज में लेक्चरर थे।

 योगेन्द्र यादव ने एक कविता के माध्यम से, देश की वर्तमान स्थिति का कसा तंज 

अखिलेश यादव ने नोटबंदी पर किया बड़ा खुलासा, कहा कि मंहगाई अभी और बढ़ेगी

Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com