Breaking News

राज्यसभा चुनाव में सपा समर्थित निर्दलीय ने बढ़ाई धड़कनें ? किस पार्टी में कितना दम?

लखनऊ , उत्तर प्रदेश से राज्यसभा की दस सीटों के लिये होने वाले चुनाव में नामांकन के अंतिम दिन मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी के आठ के अलावा समाजवादी पार्टी समर्थित एक निर्दलीय उम्मीदवार ने नामांकन कर निर्विरोध निर्वाचन की संभावनायें क्षीण कर दी है।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ,उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य,डा दिनेश शर्मा और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह की मौजूदगी में भाजपा के आठ उम्मीदवारों ने अपना नामांकन दाखिल किया जिसके बाद लगने लगा था कि राज्यसभा चुनाव निर्विरोध सम्पन्न हो जायेगा क्योंकि सपा और बहुजन समाज पार्टी के एक एक उम्मीदवार पहले ही पर्चा भर चुके थे लेकिन नामांकन समाप्त होने के महज 15 मिनट पहले सपा समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार प्रकाश बजाज ने नामांकन दर्ज करा कर चुनाव को रोचक बना दिया है। प्रकाश बजाज के नामांकन के दौरान उनके साथ कानपुर के सीसामऊ से सपा के विधायक हाजी इरफान सोलंकी और मैनपुरी सदर से सपा विधायक राजकुमार उर्फ राजू यादव मौजूद थे। ऐसे में माना जा रहा है कि प्रकाश बजाज को सपा का समर्थन हासिल है।
पूर्व केंद्रीय मंत्री अखिलेश दास की पत्नी अलका दास के नाम से नामांकन खरीदा गया तो उनके चुनाव में उतरने की अटकलों ने जोर पकड़ा लेकिन उनकी तरफ से पर्चा नहीं भरा गया।
भाजपा प्रत्याशी के तौर पर केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी,भाजपा महासचिव महासचिव अरुण सिंह,पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के पुत्र नीरज शेखर, पूर्व पुलिस महानिदेशक बृजलाल, समाज कल्याण निर्माण निगम के अध्यक्ष बीएल वर्मा, पूर्व मंत्री हरिद्वार दुबे,पूर्व विधायक सीमा द्विवेदी और गीता शाक्य ने नामांकन दाखिल किया।
इससे पहले समाजवादी पार्टी से प्रो रामगोपाल यादव तथा बहुजन समाज पार्टी से रामजी गौतम ने अपना नामांकन दाखिल किया है।10वीं सीट पर प्रकाश बजाज के निर्दलीय उतरने से राज्यसभा चुनाव में अब राजनीतिक दलों की ओर से शह मात का खेल होने की संभावना बढ़ गई है।

उत्तर प्रदेश विधानसभा में अभी 403 में से 395 विधायक हैं। आठ सीटें खाली हैं, जिसमें सात पर उपचुनाव हो रहा है। अब बीजेपी के 304, एसपी के 48, बीएसपी के 18, अपना दल (सोनेलाल) के नौ, कांग्रेस के सात, सुभाएसपी के चार, निर्दलीय तीन, रालोद और निर्बल इंडियन शोषित हमारा आम दल का एक-एक सदस्य है।

इसके साथ ही एक नाम निर्वाचित सदस्य है। निर्वाचित सदस्य को राज्यसभा चुनाव में वोट का अधिकार नहीं होता। इस हिसाब से 395 सदस्यों के राज्यसभा चुनाव में वोट करने की संभावना है। राज्यसभा चुनावी गणित के हिसाब से 395 सदस्यों के आधार पर एक सीट के लिए 37 विधायकों की जरूरत होगी।

वर्तमान विधानसभा सदस्यों की संख्या के हिसाब से देखें तो, बीजेपी के पास 304 विधायक हैं। यानी 296 विधायकों के बल पर बीजेपी के आठ प्रत्याशियों की जीत तय है। इसी तरह दूसरे नंबर पर एसपी के पास 48 विधायक हैं और इस हिसाब से एसपी के खाते में एक सीट आनी तय है।

आठ सीटें जिताने के बाद बीजेपी के पास अपने नौ विधायक बच रहे हैं। जबकि नौ विधायक बीजेपी के सहयोगी अपना दल (सोनेलाल) के पास हैं। इसके अलावा एसपी के नितिन अग्रवाल, कांग्रेस के राकेश सिंह और बीएसपी के अनिल सिंह परोक्ष रूप से बीजेपी के साथ हैं।

वहीं , समाजवादी पार्टी के पास अपना एक उम्मीदवार जिताने के बाद 11 वोट बचेंगे। नितिन अग्रवाल को निकाल दें तो दस वोट बचेंगे। बीएसपी के पास अपने 18 सदस्य हैं। अनिल सिंह को कम कर दें, तो 17 वोट हैं। कांग्रेस के छह (राकेश सिंह को निकालने के बाद) विधायक हैं।

वहीं, बसपा इस स्थिति में नहीं है कि वो अपने दम पर रामजी गौतम को राज्यसभा भेज सके। इसलिये 10वीं राज्यसभा सीट के लिए बसपा प्रत्याशी रामजी गौतम और प्रकाश बजाज के बीच चुनावी मुकाबला होगा। ऐसे में अब बीजेपी, कांग्रेस, अपना दल (सोनेलाल) और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी पर सबकी निगाहें हैं कि ये किसके समर्थन में खड़े होंगे।

इस बीच कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि बीजेपी ने बीएसपी के उम्मीदवार को समर्थन देने के लिए अपनी एक सीट खाली छोड़ी है। वहीं बीएसपी के पक्ष में समीकरण न होते हुए भी पार्टी की तरफ से रामजी गौतम ने नामांकन दाखिल किया है। ऐसे में 10वीं सीट के लिए बीजेपी और बीएसपी के बीच साझेदारी को लेकर राजनीतिक गलियारों में कयासबाजी तेज हो गई है।

ऐसे में अब सब कुछ छोटे दलों के फैसले पर निर्भर करेगा। देखना होगा कि छोटे दल और निर्दलीय विधायक किसके साथ खड़े होते हैं?

निर्वाचन आयोग ने राज्यसभा की 10 सीटों के लिए चुनाव की घोषणा 13 अक्टूबर को की थी जिसकी अधिसूचना 20 अक्टूबर को जारी की गयी थी। आज नामांकन पत्रों की जांच की जायेगी। दो नवंबर तक नाम वापस लिए जा सकेंगे। नौ नवंबर को सुबह नौ बजे से शाम चार बजे तक मतदान होगा। उसी दिन शाम पांच बजे से मतगणना होगी और परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे।

उत्तर प्रदेश से दस राज्यसभा सदस्यों का कार्यकाल 25 नवंबर को खत्म होने जा रहा है। इन नेताओं में भाजपा के अरुण सिंह, नीरज शेखर, हरदीप सिंह पुरी, समाजवादी पार्टी के जावेद अली खान, राम गोपाल यादव, चंद्रपाल सिंह यादव, रवि प्रकाश वर्मा, बसपा के राजाराम, वीर सिंह, कांग्रेस के पीएल पुनिया शामिल हैं।

Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com