Breaking News

जानिये, प्रेस कांफ्रेंस करने वाले चार जजों के बारे मे…

नयी दिल्ली, एक अप्रत्याशित कदम उठाते हुए एक संवाददाता सम्मेलन कर उच्चतम न्यायालय में ‘‘सबकुछ ठीक न होने’’ और वहां ‘अपेक्षा से कहीं कम चीजें’’ होने की बात कहने वाले उच्चतम न्यायालय के चार वरिष्ठतम न्यायाधीशों के प्रोफाइल इस प्रकार हैं।

मुख्तार अंसारी के भाई ने योगी सरकार पर लगाये गंभीर आरोप, बताया जान का खतरा

सुप्रीम कोर्ट के जजों ने की अभूतपूर्व प्रेस कॉन्फ्रेंस, मुख्य न्यायाधीश के खिलाफ महाभियोग चलाने की मांग की

 न्यायमूर्ति जे चेलमेश्वर : वह प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा के बाद उच्चतम न्यायालय के दूसरे सबसे वरिष्ठ न्यायाधीश हैं। न्यायमूर्ति चेलमेश्वर कई बार विवादों में रहे हैं। वह उच्च न्यायपालिका में न्यायाधीशों की नियुक्ति को लेकर हुई कॉलेजियम की बैठकों में हिस्सा न लेने के लिए खबर में थे।

आजम खान ने सीएम योगी पर लगाए ये गंभीर आरोप…

जानिये क्यों बोले अखिलेश यादव- ये है वो जनसैलाब, जो लाएगा अगला इंक़लाब

वह पिछले साल नवंबर में भी खबरों में थे जब उनके नेतृत्व वाली दो न्यायाधीशों की एक पीठ ने एक मेडिकल कॉलेज मामले में सकारात्मक आदेश हासिल करने के लिए न्यायाधीशों के नाम पर रिश्वत लिए जाने के गंभीर आरोप लगाने वाले एक एनजीओ और एक वकील की याचिकाओं पर सुनवाई के लिए न्यायालय के वरिष्ठतम न्यायाधीशों की एक पांच सदस्यीय पीठ का गठन करने का आदेश दिया।

मोदी ही नही संघ भी परेशान है, पिछड़े- दलित-आदिवासियों के भाजपा से छिटकने से, ये है नयी रणनीति ?

मौका मिला तो अखिलेश यादव को छोड़ूंगा नहीं-अमर सिंह

शीर्ष न्यायापालिका में संघर्ष सामने लाने वाले आदेश को प्रधान न्यायाधीश के नेतृत्व वाली एक पांच सदस्यीय पीठ ने पलटते हुए कहा कि प्रधान न्यायाधीश ‘‘कुनबे के प्रमुख ’’ हैं।वह नौ न्यायाधीशों की उस संवैधानिक पीठ में थे जिसने निजता के अधिकार को एक मौलिक अधिकार घोषित किया था। इस साल 22 जून को उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश के तौर पर सेवानिवृत्त होने जा रहे न्यायमूर्ति चेलमेश्वर ने आधार एवं जेएनयू मामले सहित कई महत्वपूर्ण मामलों में सुनवाई की है।

 योगी सरकार ने किया 28 आईएएस व आठ पीसीएस अफसरों का तबादला, देखिये पूरी सूची….

बीजेपी ने जारी की स्टार प्रचारक की लिस्ट….

 न्यायाधीश रंजन गोगई : न्यायमूर्ति मिश्रा के इस साल दो अक्तूबर को प्रधान न्यायाधीश के तौर पर सेवानिवृत्त होने के बाद वह अगले प्रधान न्यायाधीश बनने की कतार में हैं। प्रधान न्यायाधीश के तौर पर उनका कार्यकाल 17 नवंबर, 2019 तक का होगा।उनके नेतृत्व वाली एक पीठ ने पिछले महीने निर्देश दिया था कि सांसदों एवं विधायकों से जुड़े मामलों से खासतौर पर निपटने के लिए गठित की जाने वाले 12 विशेष अदालतें एक मार्च, 2018 से काम करना शुरू कर दें।

सपा-कांग्रेस के गठबंधन पर राज बब्बर ने दिया बड़ा बयान

सैफई की तर्ज पर आयोजित गोरखपुर महोत्सव पर अखिलेश यादव ने किया ये कमेंट

न्यायमूर्ति गोगोई के नेतृत्व वाली पीठ ने फेसबुक पर आपत्तिजनक पोस्ट डालने के लिए न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) मार्कण्डेय काट्जू को अदालत की अवमानना का नोटिस दिया था और बाद में काट्जू न्यायालय में पेश हुए और बिना किसी शर्त के माफी मांगी जिसे पीठ ने स्वीकार कर लिया।

अखिलेश यादव ने बताया बीजेपी सरकार का किस तरह कर रही भगवान का अपमान…

अखिलेश यादव ने किया बड़ा खुलासा, बताया नये डीजीपी क्यों नहीं कर रहे ज्वाइन..

 न्यायमूर्ति मदन भीमराव लोकुर : वह उग्रवाद प्रभावित मणिपुर में फर्जी मुठभेड़, शहरी बेघरों को आश्रय मुहैया कराने, बाल विवाह, कारागार सुधारों, इंटरनेट पर यौन दुराचार के वीडियो डालने और अभावग्रस्त विधवाओं से जुड़े मामले सहित कई महत्वपूर्ण सामाजिक मुद्दों पर ध्यान देते रहे हैं।

कई दलों के पूर्व विधायक और नेताओं ने स्वीकारा अखिलेश का नेतृत्व,सपा में हुए शामिल

तो क्या लालू यादव केस की आड़ मे, जज साहब विवादित जमीन का मामला निपटाना चाहतें हैं?

उनके नेतृत्व वाली एक पीठ ने पिछले साल अक्तूबर में एक ऐतहासिक फैसला सुनाते हुए नाबालिग पत्नी के साथ यौन संबंध बनाने को अपराध के दायरे में डालते हुए कहा था कि 18 साल से कम उम्र की लड़की के साथ यौन संबंध बनाना, चाहे वह उसका पति ही क्यों ना करे, बलात्कार की श्रेणी में आएगा।न्यायमूर्ति लोकुर के नेतृत्व वाली एक पीठ वायु प्रदूषण और ताजमहल के संरक्षण जैसे मुद्दों पर सुनवाई कर रही है। वह इस साल 30 दिसंबर को सेवानिवृत्त हो जाएंगे।

सिविल सेवा (मुख्य) परीक्षा के परिणाम घोषित, जानिये कब से होंगे इंटरव्यू

‘बिग बॉस’ के घर से रैपर आकाश डडलानी हुये बाहर

 न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ : वह पांच न्यायाधीशों की उस संवैधानिक पीठ में शामिल थे जिसने 3:2 के बहुमत से मुसलमानों में तीन तलाक के 1,400 साल पुराने चलन को रद्द कर दिया।न्यायमूर्ति जोसेफ ने दो और न्यायाधीशों के साथ मिलकर तीन तलाक मामले में बहुमत का फैसला सुनाया जिसमें तत्कालीन प्रधान न्यायाधीश जे एस खेहर अल्पमत में थे।

 समाजवादी पार्टी ही कश्यप समाज की हितैषी, क्यों बोले पूर्व राज्यमंत्री ?

सीबीआई जांच से परेशान, एनआरएचएम घोटाले मे आरोपी, पूर्व निदेशक ने की आत्महत्या

उन्होंने अप्रैल, 2015 में तब विवाद को जन्म दिया जब उन्होंने तत्कालीन प्रधान न्यायाधीश एच एल दत्तू को पत्र लिखकर मुख्य न्यायाधीशों का एक सम्मेलन गुड फ्राइडे को आयोजित करने का विरोध किया। गुड फ्राइडे को ईसाई शुभ दिन मानते हैं।न्यायमूर्ति जोसेफ इस साल 29 नवंबर को सेवानिवृत्त हो जाएंगे।

ये क्या कर रही हैं मुलायम सिंह की बहू,देख कर रह जायेगें हैरान..

जानिए क्यों, अखिलेश यादव ने ट्वीट की ये पंक्तियां…

वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं पूर्व सांसद का निधन, पार्टी में छाई शोक की लहर

दूरदर्शन के ओपी यादव हुये, ‘पार्लियामेंट प्रेस ऑफ साउथ एशिया’ के चेयरमैन’

Spread the love
loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com