Breaking News

आरटीआई दायरे से बाहर है बैंक कर्मियों के निजी जीवन की जानकारी की मांग-सुप्रीम कोर्ट

 

नई दिल्ली,  उच्चतम न्यायालय ने इस बात को माना कि किसी बैंककर्मी के बारे में ऐसी सूचना की मांग करना जो प्रकृति में व्यक्तिगत हो और सार्वजनिक हित से रहित हो, उसे सूचना के अधिकार  अधिनियम के अंतर्गत छूट मिली है। अदालत ने यह टिप्पणी केरल उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देने वाली केनरा बैंक की ओर से दायर एक अपील को मंजूरी देते हुए की। केरल उच्च न्यायालय ने बैंक को निर्देश दिया था कि वह सूचना का अधिकार  अधिनियम के तहत जनवरी 2002 से जुलाई 2006 तक अपने सभी लिपिकीय कर्मचारियों के तबादले और नियुक्ति के बारे में जानकारी उपलब्ध कराये।

योगी सरकार ने, चंदौली के सीडीओ श्रीकृष्ण त्रिपाठी को, किया निलम्बित

रक्षाबंधन पर, योगी सरकार ने, महिलाओं को दिया, बेहतरीन गिफ्ट

 शीर्ष अदालत के वर्ष 2013 के एक फैसले को सही मानते हुए न्यायमूर्ति आर के अग्रवाल और न्यायमूर्ति ए एम सप्रे की एक पीठ ने कहा कि बैंक में लिपिकीय कर्मचारी के तौर पर कार्यरत एक व्यक्ति से मांगी गयी सूचना प्रकृति से व्यक्तिगत है और इसे आरटीआई अधिनियम की धारा 8  के तहत प्रकट करने से छूट मिली है। अगस्त 2006 में आरटीआई अधिनियम के अंतर्गत बैंक के लोक सूचना अधिकारी  को उसने एक आवेदन भेजा था और जनवरी 2002 से जुलाई 2006 तक बैंक की सभी शाखाओं के प्रत्येक लिपिकीय कर्मचारी के तबादले और नियुक्ति के संबंध में सूचना मांगी थी।

योगी सरकार के एक मंत्री ने, शादी का कराया पंजीकरण

अब इस बैंक में जमा करें टमाटर, 6 महीने बाद पाएं 5 गुना ज्यादा

 उसने हर कर्मचारी की नियुक्ति की तिथि, पद एवं पदोन्नति जैसी व्यक्तिगत जानकारी के संबंध में भी सूचना देने के लिये कहा था। बैंक के पीआईओ ने मांगी गयी इस तरह की सूचना देने में इस आधार पर अपनी असमर्थता जतायी थी कि अधिनियम के प्रावधानों के तहत इसका खुलासा नहीं हो सकता। व्यक्ति ने इसके बाद मुख्य लोक सूचना अधिकारी के समक्ष अर्जी दायर की और उन्होंने भी इस अर्जी को खारिज कर दिया।

यूपी में व्यापारियों की सुरक्षा के लिए, बना व्यापारी सुरक्षा प्रकोष्ठ

त्योहार लाखों गरीबों की आजीविका के स्रोत भी हैं- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

 बाद में उसने सीआईसी का रुख किया था जिसने फरवरी 2007 में बैंक को उसके द्वारा मांगी गयी सूचना देने के लिये कहा था। इस आदेश से असंतुष्ट बैंक ने उच्च न्यायालय का रुख किया, जिसने सीआईसी के आदेश की पुष्टि करते हुए उसकी याचिका खारिज कर दी थी। बहरहाल शीर्ष अदालत ने उच्च न्यायालय एवं सीआईसी के आदेश को खारिज करते हुए बैंक की ओर से दायर याचिका को मंजूरी दी थी।

केंद्र ने कहा- सभी निजी टीवी, रेडियो चैनल मिशन इंद्रधनुष का प्रचार करें

इस्तीफों की लगी झड़ी, सपा के बाद, अब बसपा एमएलएसी ने भी दिया इस्तीफा

Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com