Breaking News

आर्थिक नरमी के कारण, देश में विलय और अधिग्रहण सौदों में भारी गिरावट

नयी दिल्ली, चालू वित्त वर्ष की जुलाई-सिंतबर तिमाई में देश के विलय और अधिग्रहण सौदों में 63.4 प्रतिशत की गिरावट रही। विलय और अधिग्रहण सौदों में गिरावट का कारण “अर्थव्यवस्था में आर्थिक नरमी” को बताया गया है। सौदों पर नजर रखने वाली एक कंपनी मर्जर मार्केट ने यह बात कही।

 जानिये, केजरीवाल के राजनीतिक जीवन पर बनी फिल्म मे, योगेंद्र यादव का क्या काम है ?

 समाजवादी पार्टी ने नगर निकाय चुनाव मे ली लीड, जारी की मेयर पद की सूची

निराश्रित गोवंश की सेवा के लिये, राधा कृष्ण ट्र्स्ट आया सामने

वैश्विक सौदों पर निगरानी करने वाली फर्म के मुताबिक, वर्ष 2017 की तीसरी तिमाही में भारतीय विलय और अधिग्रहण को मंदी का सामना करना पड़ा है। इस तिमाही में सौदा मूल्य 63.4 प्रतिशत घटकर 6.8 अरब डॉलर रह गया जबकि पिछले साल इसी तिमाही में सौदा मूल्य 15.8 अरब डॉलर रहा था। इसके अलावा, सौदों की संख्या 2009 के बाद निचले स्तर पर आ गई है।

 जानिये, महिलाओं के प्रति अखिलेश यादव का समाजवादी नजरिया

इस नगर निगम के सारे टिकटों का अखिलेश यादव आज खुद करेंगे फैसला, बुलायी बैठक, जानिये क्यों ? 

यूपी निकाय चुनाव-अखिलेश यादव ने बताया इस तारीख को जारी करेगें प्रत्याशियों की सूची…..

मर्जर मार्केट ने रपट में कहा, “जीडीपी की वृद्धि दर तीन साल के निचले स्तर 5.7 प्रतिशत रह गयी है, जिसके कारण आर्थिक नरमी आई है। आर्थिक नरमी के कारण विलय और अधिग्रहण बाजार में गिरावट देखने को मिली है।” वर्ष 2017 की पहली छमाही में 1 अरब डॉलर से अधिक के दो बड़े सौदों के कारण दूरसंचार सौदा मूल्य के लिहाज से सबसे सक्रिय क्षेत्र रहा। 2017 की तीसरी तिमाही के दौरान, प्रौद्योगिकी क्षेत्र का सौदा मूल्य चार गुना बढ़कर 2.9 अरब डॉलर हो गया है, पिछले साल इसी अवधि में यह आंकड़ा 57.7 करोड़ डॉलर रहा था।

सपा में नेताओं के शामिल होने की लगी होड़,कई दलों के नेता हुए शामिल

आरटीआई से हुआ, अखिलेश यादव के बारे मे, एक बड़ा खुलासा…

पारिवारिक स्वामित्व वाले कारोबार में, कौन है नंबर वन, क्या है भारत का नंबर?

रपट में कहा गया, प्रौद्योगिकी क्षेत्र का शीर्ष सौदा सिंतबर में सॉफ्टबैंक और फ्लिपकार्ट के बीच रहा। सॉफ्टबैंक ने 2.6 अरब डॉलर से फ्लिपकार्ट में 20 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदी थी, जो कि इस साल देश का दूसरा सबसे बड़ा सौदा है। जुलाई-सिंतबर तिमाही में भारत की भीतरी गतिविधियां 20.5 प्रतिशत बढ़कर 16.8 अरब डॉलर हो गया है।

बढ़ गई अरबपतियों की संख्या, जानिये कितनी ?

वृन्दावन एवं बरसाना, पवित्र तीर्थस्थल घोषित, जानिये क्यों ?

आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों पर अत्याचार को लेकर सपा ने राज्यपाल को दिया ज्ञापन, रखी ये मांगें

वर्ष 2017 में भारतीय विलय और अधिग्रहण गतिविधियों में धीमा रुख दिखाई दे रहा है जबकि निजी इक्विटी खरीदारी में 7.4 अरब डॉलर के कुल 66 सौदे किए गए। जो कि 2001 के बाद सबसे अधिक है। मूल्य के लिहाज से रीयल एस्टेट क्षेत्र में सबसे ज्यादा सक्रियता रही। जुलाई-सितंबर के दौरान इस क्षेत्र में 1.8 अरब डॉलर के 4 सौदे हुए। इन सौदों में जीआईसी और डीएलएफ साइबर सिटी डेवलपर्स के बीच अगस्त में हुआ 1.34 अरब डॉलर का अधिग्रहण सौदा भी शामिल है।

गन्ना मूल्य मे भाजपा ने किसानों के साथ किया बड़ा अन्याय-समाजवादी पार्टी

अखिलेश यादव ने लांच की फिल्म की सीडी, दिया खास संदेश

इस तारीख से शुरू होगी यूपी बोर्ड की हाई स्कूल और इंटर की परीक्षाएं ……………..

Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com