Breaking News

एथलेटिक्स में डोपिंग का दंश, ओलंपिक अभियान निराशाजनक

 lalitababarap-620x400नई दिल्ली,  भारतीय एथलेटिक्स के लिए वर्ष 2016 काफी निराशाजनक रहा जिसमें ओलंपिक सहित किसी भी बड़ी प्रतियोगिता में खिलाड़ी छाप नहीं छोड़ पाए जबकि डोपिंग को लेकर भी देश को शर्मसार होना पड़ा। एथलीटों के निराशाजनक प्रदर्शन के बीच एकमात्र अच्छी खबर भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा का जूनियर विश्व रिकार्ड रहा जो विश्व रिकार्ड अपने नाम करने वाले पहले भारतीय एथलीट बने। इससे यह उम्मीद भी बंधी कि भारत विश्व स्तरीय एथलीट तैयार कर सकता है।

हरियाणा के इस 18 वर्षीय एथलीट ने पोलैंड के बिदगोज में आईएएएफ विश्व अंडर 20 चैम्पियनशिप में 86.48 मीटर की दूरी के साथ पिछले अंडर 20 विश्व रिकार्ड में लगभग दो मीटर का सुधार किया जो 84.69 मीटर के साथ लातविया के जिगिमुंद्स सिरमाइस के नाम था। चंडीगढ़ के डीएवी कालेज में पढ़ रहे नीरज ने राष्ट्रीय सीनियर रिकार्ड भी तोड़ा जो राजिंदर सिंह (82.23 मीटर) के नाम था। उनका यह प्रदर्शन रियो ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने वाले त्रिनिदाद एवं टोबैगो के केशोर्न वालकट (85.38 मीटर) से भी बेहतर था।

नीरज ओलंपिक के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाए क्योंकि उन्होंने यह प्रदर्शन 11 जुलाई की समयसीमा के बाद किया था। रियो खेलों में क्वालीफाई करने के लिए स्तर 83 मीटर था। नीरज साथ ही विश्व चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहले भारतीय ट्रैक एवं फील्ड खिलाड़ी भी बने। लंबी कूद की दिग्गज खिलाड़ी अंजू बाबी जार्ज ने 2003 में सीनियर विश्व चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीता था। इस बार ओलंपिक में भारत के रिकार्ड 34 ट्रैव एवं फील्ड खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया लेकिन ललिता बाबर के अलावा कोई भी प्रभावित नहीं कर पाया। रियो ओलंपिक में प्रदर्शन भारत के एथलेटिक्स इतिहास के सबसे बदतर प्रदर्शन में से एक है।

लंदन 2012 में दो खिलाड़ियों विकास गौड़ा और कृष्णा पूनिया ने फाइनल में जगह बनाई थी जबकि पैदल चाल के दो खिलाड़ियों ने राष्ट्रीय रिकार्ड तोड़ा था। लेकिन इस बार सरकार के टारगेट ओलंपिक पोडियम योजना के तहत करोड़ों रूपये खर्च करने के बावजूद प्रदर्शन निराशाजनक रहा। ललिता ने महिला 3000 मीटर स्टीपलचेज के फाइनल में प्रदर्शन बनाई। वह 30 साल पहले लास एंजिलिस 1984 में 400 मीटर बाधा दौड़ के फाइनल में पीटी उषा के जगह बनाने के बाद ट्रैक स्पर्धा के फाइनल में जगह बनाने वाली पहली भारतीय हैं। वह अंत में 10वें स्थान पर रही। खेलों से पहले का समय भी अच्छा नहीं रहा जब दो राष्ट्रीय रिकार्ड धारक गोला फेंक के इंदरजीत सिंह और 200 मीटर धावक धरमबीर सिंह डोपिंग टेस्ट में विफल हो गए और दोनों को ओलंपिक में हिस्सा लेने से रोक दिया गया। दूसरे डोप अपराध के कारण धरमबीर पर पिछले महीने आठ साल का प्रतिबंध लगाया गया। इं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com