Breaking News

जमीनी हकीकत को नजरअंदाज कर न बनाई जाए आर्थिक नीतियां- मोहन भागवत

 

नागपुर/नई दिल्ली,  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने सरकार को आगाह करते हुए कहा है कि आर्थिक सुधार और नीतियां बनाते समय जमीनी हकीकत को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। भागवत संघ मुख्यालय में विजयादशमी के मौके पर आयोजित वार्षिक उत्सव के अवसर पर बोल रहे थे। उन्होंने आर्थिक विशेषज्ञों, सलाहकारों और नीति निर्धारकों से अनुरोध करते हुए कहा कि वह अर्थशास्त्र की पुरानी परिपाटियों को पीछे छोडकर व्यावहारिक सोच अपनाएं और देश की जमीनी हकीकत को ध्यान में रखते हुए आर्थिक नीतियां तय करें।

कई राज्यों में नए राज्यपालों की हुई नियुक्ति

अखिलेश यादव करेंगे, दंगल का उद्घाटन

छात्रों ने विश्वविद्यालयों की स्थिति की खोली पोल, अखिलेश यादव ने सुझाया रास्ता

 उन्होंने कहा कि आज हमें ऐसी आर्थिक नीति की दरकार है जो सिर्फ बड़े उद्योगपतियों के फायदे की न हों बल्कि जिसमें मझोले और छोटे कारोबारियों तथा किसानों के हितों का भी पूरा ख्याल रखा जाए। ऐसा इसलिए जरूरी है क्योंकि ये छोटे उद्योग ही थे जो वैश्विक मंदी के दौर में भी अपना अस्तित्व बचाए रखने में कामयाब रहे थे। उस खतरनाक दौर में देश की अर्थव्यवस्था को इन्होंने ने ही मजबूत आधार दिया था। संघ प्रमुख ने कहा कि आर्थिक नीतियां तय करते समय उनमें रोजगार सृजन और उचित पारिश्रमिक को प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

समाजवादी पार्टी का दसवां राष्ट्रीय सम्मेलन-कब, कहां, कैसे? जानिये पूरा कार्यक्रम

शिवपाल यादव का बड़ा फैसला, जानिये कब करेंगे घोषणा

बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं मे शुरू हुयी जंग, देखिये क्या-क्या कहा ?

 सरकार को चाहिए कि वह लोगों में उद्यमिता को बढ़ावा दे। इसके लिए उनके कौशल विकास में मदद करे। संघ प्रमुख का यह बयान ऐसे समय आया है जबकि देश की आर्थिक नीतियों को लेकर पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा और मौजूदा वित्त मंत्री अरुण जेटली के बीच घमासान चल रहा है। सिन्हा ने नोटबंदी के कारण अर्थव्यवस्था को गहरी चोट पहुंचने का हवाला देते हुए सरकार की आर्थिक नीतियों पर बड़े सवाल खड़े किए हैं।

मुलायम सिंह यादव ने दशहरा की दी बधाई

बड़ा खुलासा- लोगों के दिमाग में भय पैदा करना, मोदी सरकार का नया खेल

मुलायम सिंह से मिले अखिलेश, सपा संरक्षक ने लिया बड़ा निर्णय

Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com