Breaking News

धर्म परिवर्तन से क्या पैतृक संपत्ति में अधिकार खत्म? कोर्ट करेगी विचार…

नई दिल्ली,  किसी महिला का पैतृक संपत्ति से अधिकार क्या सिर्फ इस वजह से खत्म हो जाता है कि उसने हिंदू धर्म छोड़कर इस्लाम अपना लिया है? राजधानी में एक अदालत इस सवाल का सामना कर रही है जहां 33 वर्षीय एक महिला ने अपने मृत पिता द्वारा खरीदी गयी संपत्ति में हिस्सेदारी को लेकर अदालत में दीवानी वाद दायर किया है। उसके दो भाइयों ने कहा है कि उसका संपत्ति पर कोई अधिकार नहीं है। वर्ष 2011 में पहले पति की मृत्यु के बाद महिला ने 2013 में एक मुस्लिम युवक से शादी के बाद इस्लाम धर्म कबूल कर लिया था।

योगी सरकार मे बीजेपी कार्यकर्ता भी नही सुरक्षित, आगरा मे हुयी हत्या, फिर पिटी पुलिस

 महिला ने अदालत से मांग की है कि वह उसे पूर्वी दिल्ली के शाहदरा, अशोक नगर में संपत्ति की एक तिहाई मालिक घोषित करे। उसके भाइयों ने हालांकि कहा कि इस्लाम कबूल करने के बाद वह एक हिंदू परिवार की संपत्ति पर किसी तरह के अधिकार का दावा नहीं कर सकती। अतिरिक्त जिला जज रविंदर सिंह ने इस मामले में सुनवाई के लिये 26 अगस्त की तारीख तय की है।

किसान नेता अनिल यादव को जेल भेजने से, गरमाया किसान आंदोलन

 एडवोकेट अमित कुमार के जरिये दायर अपने वाद में महिला ने कहा कि उसके भाइयों ने उसके साथ छल किया और उसके हिस्से की संपत्ति जाली दस्तावेज तैयार कर अपने नाम करा ली। उन्होंने कहा कि जब उसके पिता और माता की क्रमशः 2010 और 2008 में मृत्यु हुई तो उनके तीनों बच्चे उस वक्त करीब 20 लाख रूपये मूल्य की अविभाजित संपत्ति के संयुक्त स्वामी थे। उसने दावा किया कि वर्ष 2012 में उसके भाई संपत्ति को तीन बराबर हिस्सों में विभाजित कराने के बहाने उसे सब-रजिस्ट्रार के दफ्तर ले गये और उसने उन पर भरोसा कर दस्तावेजों पर दस्तखत कर दिये।

 अंबेडकर स्मारक मे मूर्ति लगवाने के पीछे छिपा है, बीजेपी का ये एजेण्डा

 महिला ने कहा कि शुरू में उसे संपत्ति के किरायेदारों से आने वाले किराये में उसका हिस्सा मिलता था। हालांकि उसकी दूसरी शादी के बाद यह कभी इस बहाने तो कभी उस बहाने अनियमित होता गया। बाद में उन्होंने रूपये देना पूरी तरह ही बंद कर दिया। उसने दावा किया कि अगस्त 2015 में भाइयों ने संपत्ति में उसके हिस्से से इनकार कर दिया। पिछले साल जुलाई में उन्होंने कथित तौर पर अवैध रूप से संपत्ति बेचने की कोशिश की।

 सहारनपुर से लेकर मिर्जापुर तक मूर्तियां तोड़ना, विचारधारा खत्म करने का प्रयास: राज बब्बर

 दीवानी वाद के जवाब में दोनों भाइयों ने कहा कि उनकी बहन हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम के प्रावधानों के तहत संपत्ति के किसी भी हिस्से पर उत्तराधिकार के अयोग्य है क्योंकि एक मुस्लिम से विवाह के बाद उसने इस्लाम धर्म अपना लिया और इस विवाह से उसे एक बच्चा भी है।

प्रणव राय के घर सीबीआई रेड पर, रवीश कुमार ने दी, मोदी सरकार को खुली चुनौती

उन्होंने इस वाद को खारिज करने की मांग करते हुये कहा कि अब वह हिंदू नहीं रह गयी है और दावा किया कि उन्होंने कोई धोखा नहीं किया। महिला ने अपने भाइयों के खिलाफ कड़कड़डुमा अदालत में धोखाधड़ी, आपराधिक साजिश और जालसाजी की आपराधिक शिकायत भी दी है।

आखिर एेसा क्या हुआ कि अखिलेश यादव, आंध्र प्रदेश में बसने की बात कह गये ?

यूपीएससी ने जारी किए अंक, देखिये टापर्स ने कितने अंक पाकर किया टाप

Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com