Breaking News

नोटबंदी पर सर्वे: PM मोदी के दावों की खुली पोल- जनता त्रस्त, सरकार थी मस्त

नई दिल्ली, नोटबंदी के एक साल पूरा होने की पूर्व संध्या पर मंगलवार को जारी किए गए एक देशव्यापी सर्वेक्षण ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री अरूण जेटली के नोटबंदी को लेकर किये जा रहे दावों की पोल खोल कर रख दी है। सर्वेक्षण से प्राफ्त जानकारी से यह तो स्पष्ट है कि उस दौरान जनता त्रस्त थी , लेकिन सरकार मस्त थी। सर्वेक्षण में उन लोगों के नाम भी शामिल हैं, जो बैंकों की कतार में व नोटबंदी से जुड़े अन्य कारणों से मारे गए।

नोटबंदी का जश्न मनाने पर, अखिलेश यादव का भाजपा सरकार पर हमला, जानिये क्या कहा ?

नोटबंदी के दौरान हुई पीड़ा का प्रतीक है, अखिलेश यादव का खजांची, मनायेगा पहला जन्मदिन

 नोटबंदी को मोदी अपनी बड़ी गलती के रूप मे स्वीकारें, सुधार के लिए करें काम-पूर्व PM मनमोहन सिंह

‘अनहद’ समेत 32 अन्य नागरिक संगठनों द्वारा किए गए इस सर्वेक्षण में 96 प्रश्न शामिल किए गए थे और यह 2016 के दिसंबर से 2017 के जनवरी के बीच 21 प्रमुख राज्यों में किया गया, जिसमें दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, पंजाब, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, राजस्थान, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल शामिल हैं। सर्वेक्षण के इन नतीजों को सामाजिक कार्यकर्ता जॉन दयाल, गौहर रजा, पी.वी.एस. कुमार और सुबोध मोहंते ने नोटबंदी के एक वर्ष पूरे होने के मौके पर मंगलवार को जारी किया।

पैराडाइज दस्तावेजों में नाम आने पर, मोदी सरकार के मंत्री ने दी सफाई, सांसद ने किया मौन व्रत

देखिये, कालेधन के दस्तावेजों ‘पैराडाइज पेपर्स’ मे दिग्गजों के नाम, चौंक जायेंगे आप

दुनिया भर मे काला धन निवेश करने का हुआ बड़ा खुलासा, 714 भारतीयों के नाम शामिल

औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) के सेवानिवृत्त वैज्ञानिक और इस रिपोर्ट के लेखकों में से एक गौहर रजा ने कहा, “इन आंकड़ों को 2016 के दिसंबर और 2017 के जनवरी के बीच संग्रहित किया गया था, जब लोगों की भावनाएं नियंत्रित मीडिया चैनलों द्वारा की जा रही चारों तरफ की बमबारी से अत्यधिक प्रभावित थीं।”

जानिये पीएम मोदी का ‘मित्रों’ कहना कितना डरावना..? 

 शत्रुघ्न सिन्हा ने भाजपा की खोली पोल, गुजरात और हिमाचल के चुनाव को लेकर जानिये क्या कहा ?

ये शिवसेना ने ममता बनर्जी की तारीफ की, या भाजपा की पोल खोली ?

रजा ने कहा, “झूठी कहानी रचकर लोगों को जमीनी सच्चाई से काटने की हर संभव कोशिश के बावजूद उन शुरुआती दिनों में एकत्र किए गए आंकड़े भी काफी कुछ कहानी बयान करते हैं। अगर यह सर्वेक्षण अभी किया जाता है तो परिणाम में इसकी भयंकर भर्त्सना देखने को मिलेगी।” इस रिपोर्ट में उन 90 लोगों की सूची दी गई है जो बैंक की लाइन में या नोटबंदी से जुड़े अन्य कारणों से मारे गए।

सीबीआई के आरोपी नेता को भाजपा में शामिल होते ही, मोदी सरकार ने वाई प्लस सुरक्षा से नवाजा

एक प्रमुख सहयोगी दल ने, यूपी मे किया बीजेपी से किनारा, जानिये क्यों ?

अमित शाह के बाद, पीएम मोदी के एक और खास के बेटे पर लगे आरोप, सीबीआई जांच की मांग

उदाहरण के लिए जम्मू के सांबा जिले के दूंगा गाव का 8 वर्षीय बच्चे की तब मौत हो गई, जब नोटबंदी के कारण उसके पिता नए नोट नहीं होने के कारण उसका इलाज नहीं करवा पाए। ‘ग्रेटर कश्मीर’ अखबार के हवाले से रिपोर्ट में कहा गया कि अपने बच्चे को 50 किलोमीटर दूर के अस्पताल में पैदल चलकर ले जाने से पहले उसने लगातार तीन दिनों तक 29,000 रुपये के पुराने नोट जमा कर नए नोट लेने की कोशिश की थी।

पूर्व पीएम ने नोटबंदी को बताया संगठित लूटपाट व कानूनी डाका, कांग्रेस ने की विरोध की तैयारी

छात्रों के बीच से मोदी-मैजिक समाप्त, यूपी मे अखिलेश का जादू सर चढ़ा, 10 मे से 9 यूनिवर्सिटी मे भाजपा हारी

देश की अर्थव्यवस्था आईसीयू में, डा० जेटली की दवा में दम नहीं-राहुल गांधी

इसी प्रकार 50 वर्षीय बाबूलाल की मौत अलीगढ़ में तब हार्ट अटैक से हो गई, जब वे अपने परिवार में शादी के लिए समय पर नोट नहीं बदलवा सके। इसी प्रकार की कई अन्य दिल दहलानेवाली कहानियां नोटबंदी से जुड़ी हैं। सीएसआईआर के सेवानिवृत्त वैज्ञानिक और रिपोर्ट के लेखकों में से एक पी. वी. एस. कुमार ने कहा कि यह सूची अभी अधूरी है। अभी तक हमें नोटबंदी के शिकार पीड़ितों की सही संख्या की जानकारी नहीं है।

पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र मे भी नही रूका, एबीवीपी की हार का सिलसिला, समाजवादियों की हुई जय-जय

भीम आर्मी चीफ को सभी मामलों में मिली जमानत, कोर्ट ने माना गिरफ्तारी राजनीति से प्रेरित

युवाओं के बीच, अखिलेश यादव की बढ़ती लोकप्रियता, जानिये क्यों ?

सर्वेक्षण के खास बिंदु-

  • इस सर्वेक्षण में, 63 फीसदी प्रतिभागियों ने सरकार द्वारा पिछले साल 8 नवंबर को एकाएक की गई नोटबंदी के कारण ‘गंभीर परेशानियां’ उठाने की बात कही है।

  • ज्यादातर प्रतिभागियों (55 फीसदी बनाम 26.6 फीसदी) ने इस बात से असहमति जताई कि इस कदम से काला धन हमेशा के लिए मिट सकता है. इसके साथ ही 48.2 फीसदी लोगों ने इस पर भरोसा नहीं किया कि नोटबंदी के कारण आंतकवादियों के वित्त पोषण में किसी प्रकार की कमी आई है.

  • केवल 20 फीसदी लोगों का ये मानना था कि इस कदम से आम आदमी को फायदा होगा.

    पहली बार समाज का कोई भी वर्ग खुश नहीं, पूरा देश रो रहा है -राहुल गांधी

    अमित शाह के बेटे ने भ्रष्टाचार नहीं किया, तो उनसे आईआईएम में लेक्चर दिलवाया जाए-तेजस्वी यादव

    व्यापम् घोटाले में, सीबीआई ने, CM शिवराज सिंह को दी क्लीन चिट, 490 को बनाया आरोपी

  • राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र, दिल्ली में 71.8 फीसदी प्रतिभागियों ने कहा कि उन्होंने लोगों को नोटबंदी के कारण ‘भारी परेशानी’ का सामना करते देखा. यहां तक कि गंभीर रूप से बीमार मरीज़ों को इलाज नहीं मिल रहा था, क्योंकि वो ‘नोटबंदी’ के बाद नई मुद्रा में भुगतान करने में असमर्थ थे.

  •  सर्वेक्षण में शामिल 50 फीसदी लोगों ने कहा कि उनके जानने वालों में से किसी ना किसी की नौकरी नोटबंदी की वजह से चली गई.

  • 65 फीसदी प्रतिभागियों का कहना था कि उन्होंने किसी नेता या अमीर आदमी को किसी बैंक की लाइन में या एटीएम की लाइन में खड़े नहीं देखा. उनका कहना था कि उन्हें ऐसा नहीं लगा कि नोटबंदी के कारण अमीरों को कोई परेशानी हुई हो.

  • इस रिपोर्ट में उन 90 लोगों की सूची दी गई है जो बैंक की लाइन में या नोटबंदी से जुड़े अन्य कारणों से मारे गए.

आगामी विधानसभा चुनावों में, फेसबुक निभायेगा ये बड़ी जिम्मेदारी….

यूपी – खनन के लिए ई-टेंडरिंग प्रक्रिया को सुप्रीम कोर्ट की हरी झंडी

मुलायम सिंह के खिलाफ कार सेवकों पर गोली चलाने का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुँचा..जानिये पूरा हाल ?

विश्व चैम्पियन मेरीकाम एशियाई मुक्केबाजी चैम्पियनशिप के फाइनल में पहुंची

समाजवादी पार्टी ने घोषित किये मेयर प्रत्याशी

कांग्रेस ने लखनऊ मेयर पद के लिये उतारा पूर्व IAS को, गोरखपुर और इलाहाबाद मे ये बने प्रत्याशी

 8 नवंबर को नोटबंदी के एक साल पूरे होने पर क्यों मनाये काला दिवस ? पांच बड़े कारण?

ये कमाई मुझे दे दे….जानिये, कौन निगल रहा आपकी कमाई ?

Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com