Breaking News

”न्यूज 85 डाट इन” समाचार बुलेटिन, रात्रि 8 बजे (06.12.2016)

लखनऊ, ”न्यूज 85 डाट इन” की रात्रि 8 बजे की समाचार बुलेटिन मे पेश है आज दिन भर की प्रमुख खबरें- (06.12.2016)

news85-buletan

डा०अम्बेडकर ने संविधान में सबको समान अधिकार दिये, कई देशों मे यह संभव नही- राज्यपाल रामनाईक

rajpal

लखनऊ, उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने भारतरत्न डा भीमराव अम्बेडकर के परिनिर्वाण दिवस पर आज श्रद्धांजलि अर्पित की।अम्बेडकर महासभा में आयोजित श्रद्धांजलि सभा को संबोधित करते हुए राज्यपाल ने कहा कि बाबा साहब से जुड़े कार्यक्रम में आकर उन्हें नई ऊर्जा और चेतना मिलती है। वे सदैव परिश्रम और ज्ञान प्राप्त करने पर जोर देते थे। उन्होंने कहा कि डाॅ0 अम्बेडकर ने 65 वर्ष की आयु में जो देश को दिया है उस पर विचार करते हुए हम भी देश को कुछ दे सकते हैं, आज के दिन ऐसा संकल्प करें और बाबा साहब के सिद्धांत को आगे बढ़ाये।

नाईक ने कहा कि बाबा साहब ने देश को अभूतपूर्व संविधान दिया। हर व्यक्ति को मतदान का अधिकार देना बहुत बड़ी बात है। कई देशों में समान मतदान का अधिकार नहीं है। बाबा साहब ने तर्क के आधार पर संविधान में सबको समान अधिकार दिये हैं। पूर्व राष्ट्रपति डा राधाकृष्णन ने कहा था कि एक शिक्षित महिला के होने से पूरा परिवार शिक्षित होता है। इस बात को व्यवहार में लाने के लिये बाबा साहब ने इसे जन आन्दोलन का रूप दिया तथा महिलाओं को आगे बढ़ाने का प्रयास किया। जनतंत्र में महिला समानता सबसे बड़ी उपलब्धि है। उन्होंने कहा कि बाबा साहब डा. अम्बेडकर सबके लिये आदरणीय हैं।

 केन्द्र और राज्य सरकारों की मास्टर चाभी एससी और ओबीसी अपने हाथ मे लें – मायावती

mayawati-620x400लखनऊ, संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर के महापरिनिर्वाण दिवस के मौके पर बसपा प्रमुख मायावती ने आज लखनऊ में रैली की। बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा कि संविधान का लाभ लेने के लिये एससी और ओबीसीवर्ग के लोग केन्द्र और राज्य सरकारों की मास्टर चाभी अपने हाथ मे लें।

डा० अम्बेडकर की ६१ वीं पुण्यतिथि पर रैली को संबोधित करते हुये उन्होंने कहा कि अंग्रेजों की हुकूमत के दौरान बाबा साहेब ने सभी को उनका हक़ दिलाया। केंद्र, और राज्य सरकारों को भी संविधान के मुताबिक सबको हक़ देना चाहिए। लेकिन बाबा साहेब डा० भीमराव अम्बेडकर का संविधान बीजेपी को पसंद नहीं है। बीजेपी आरएसएस के लोग जातिवादी वर्ण व्यवस्था को लागू करना चाहते हैं।

बाबा साहेब के परिनिर्वाण दिवस पर ही बीजेपी ने विवादित ढांचा क्यों गिराया? -मायावती

babri_लखनऊ, बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने कहा कि बीजेपी के लोगों ने आज के ही दिन अयोध्या मे विवादित ढांचा गिराया था। बीजेपी और संघ के लोग यह कतई नहीं चाहते कि हिन्दुओं को छोड़कर अन्य धर्मों के मानने वाले लोग मान-सम्मान की जिंदगी जिए। बीजेपी चाहती है कि उसके धार्मिक स्थल सुरक्षित रहे लेकिन वे नहीं चाहते हैं कि दूसरे के धार्मिक स्थल और भविष्य सुरक्षित रहें।बीजेपी और संघ के लोगों ने गंदी मानसिकता के तहत आंबेडकर के परिनिर्वाण दिवस पर ढांचे को खंडित किया।

मायावती ने कहा कि आंबेडकर ने उनकी मानसिकता को भांप लिया था, इसे ध्यान में रखते हुए धर्मनिरपेक्षता की बुनियाद पर संविधान बनाया. उन्होने दावा किया कि धर्मनिरपेक्षता की बुनियाद पर देश का संविधान बनाने वाले बाबा साहब भीमराव आंबेडकर के प्रति गंदी मानसिकता की वजह से ही बीजेपी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने अयोध्या में विवादित ढांचा गिराने के लिए 6 दिसंबर का दिन चुना था.

सीएम अखिलेश मूर्तियों पर सवाल उठाकर महापुरुषों का अपमान कर रहे हैं-मायावतीakhilesh-maya

लखनऊ, संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर के महापरिनिर्वाण दिवस के मौके पर बसपा प्रमुख मायावती ने आज लखनऊ में रैली की। उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव मूर्तियों पर सवाल उठाकर महापुरुषों का अपमान कर रहे हैं। बाबा साहेब की जयंती पर छुट्टी कभी रद्द करते हैं कभी लागू करते हैं।

उन्होंने यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुये कहा कि अखिलेश मूर्तियों पर सवाल उठाकर महापुरुषों का अपमान कर रहे हैं। स्मारक स्थल पर लगे पत्थरों को बबुआ फिजूल खर्ची बताते हैं। जबकि सरकार जिसे फिजूलखर्ची बताती है वहां सैकड़ों लोग रोज घूमने आते हैं और टिकट से सपा को भारी राजस्व मिल रहा है

बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा कि दलित नेताओं और मूर्तियों पर गलत बयान देने वाले यूपी के सीएम सच में बबुआ हैं। क्या जनेश्वर मिश्र पार्क में लगी मूर्तियां अपना स्थान बदलती हैं। उन्होने कहा कि यादव परिवार की तरक्की बाबा साहेब की ही देन है।

मंडल कमीशन की रिपोर्ट का विरोध कर, बीजेपी ने पिछड़ों का बड़ा नुकसान किया-मायावती

mayawati-620x400लखनऊ, अंबेडकर के 61वें परिनिर्वाण दिवस पर बसपा प्रमुख मायावती ने दलितों और अन्य पिछड़ा वर्ग को टारगेट करते हुए कहा कि मंडल कमीशन की रिपोर्ट का विरोध कर, बीजेपी ने पिछड़ों का बड़ा नुकसान किया है। मंडल कमीशन की रिपोर्ट की सिफारिशों को लागू करने के मामले में बीजेपी ने जबर्दस्त विरोध किया। जिसके कारण ओबीसी की मंडल कमीशन की रिपोर्ट लागू नही की गई।

मायावती ने कहा कि विरोधी पार्टियों ने हमेशा से समाज को बांटने का काम किया है। मायावती ने कहा कि दलितों और पिछड़ों को लेकर बीजेपी और कांग्रेस हमेशा फर्क पैदा करती रहीं है। मंडल कमीशन की रिपोर्ट के विरोध में बीजेपी ने देश भर में प्रदर्शन किया था। बीजेपी की चाल, चरित्र व नीयत हमेशा एससी, एसटी, ओबीसी विरोधी रही है। बीजेपी ने न केवल मंडल कमीशन की रिपोर्ट का विरोध किया बल्कि इसके खिलाफ उग्र आंदोलन को भड़काने का कार्य किया। और उसके लिये बीजेपी ने कमंडल का प्रयोग किया। मंडल प्रभाव को खत्म करने के लिये ही बीजेपी ने राम मंदिर आंदोलन चलाया।

मोदी ने पिछड़े वर्ग के लोगों का हक मारा, बनें फर्जी ओबीसी- मायावती

mayawati

लखनऊ, अंबेडकर के 61वें परिनिर्वाण दिवस पर बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि मोदी उच्च जाति के हैं, उन्होने वोट के लिये के लिए चोला बदला है। मोदी ने पिछड़े वर्ग के लोगों का हक मार लिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए मायावती ने उन्हें उच्च जाति का बताते हुए आरोप लगाया कि वोटों की खातिर मोदी ने चोला बदला है। दरअसल वे उच्च जाति के लोगों के लिए पिछड़ों का शोषण कर रहे हैं। बसपा प्रमुख ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वैश्य समाज की उच्च गुजराती जाति मोढ़ घांची जाति के है। लेकिन ओबीसी वोटो की खातिर मोदी ने अपना चोला बदल लिया है। मोदी ने गुजरात मे अपनी जाति को पिछड़ा वर्ग मे शामिल कराया और पूरे देश मे पिछड़े वर्ग के लोगों का हक मार लिया है।

बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर के विषय मे भ्रम फैला रही हैं विरोधी पार्टियां- मायावती

Dr. Ambedkarलखनऊ, आज लखनऊ मे डॉ. भीमराव अंबेडकर का परिनिर्वांण दिवस मनाया गया। कार्यक्रम के तहत डॉ. भीमराव अंबेडकर समाजिक परिवर्तन प्रतीक स्थल एवं डॉ. भीमराव अंबेडकर सामाजिक परिवर्तन स्मारक स्थल पार्क गोमतीनगर में डॉ. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा पर भारी संख्या मे लोगों ने श्रद्धांजलि अर्पित की। परिनिर्वांण दिवस पर आयोजित रैली मे बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि विरोधी पार्टियां बाबा साहेब के खिलाफ भ्रम फैला रही हैं। उन्होने कहा कि विरोधी पार्टियां दलितों और पिछड़ों में फर्क पैदा करती हैं।

दलित के साथ दुर्व्यवहार पर हाईकोर्ट जज के खिलाफ सांसदों का महाभियोग नोटिस

नई दिल्ली, राज्यसभा के 60 से ज्यादा सांसदों ने सदन के सभापति को हैदराबाद हाई कोर्ट के जज सीवी नागार्जुन रेड्डी के खिलाफ महाभियोग का नोटिस दिया है। जज पर अपने दलित सहयोगी के साथ दुर्व्यवहार और अपमानजनक भाषा इस्तेमाल करने का आरोप लगाया गया है। सूत्रों के मुताबिक, राज्यसभा के सभापति इस मामले पर अगले कुछ दिनों में विचार कर सकते हैं। बता दें कि इससे पहले कैंपेन फॉर जुडीशियल एकाउंटेबिलिटी एंड रिफॉर्म्स (सीजेएआर) ने भी भारत के प्रधान न्यायाधीश को पत्र लिखकर इस मामले में हाई कोर्ट जज के खिलाफ विभागीय जांच कराने की मांग की थी।

एमजी रामचंद्रन की तरह हुआ, जयललिता का अंतिम संस्कार

jaylalita-rajnikantचेन्‍नई, तमिलनाडु की मुख्यमंत्री और अन्नाद्रमुक की प्रमुख जे. जयललिता की पार्थिव देह को उनके राजनैतिक गुरु कहे जाने वाले एमजी रामचंद्रन की समाधि के पास ही दफना दिया गया. उनकी करीबी सहयोगी रहीं शशिकला ने अंत्येष्टि की सभी रस्में पूरी कीं.

इससे पहले,लोगों के अंतिम दर्शन के लिए जयललिता के पार्थिव शरीर को राजाजी हॉल में रखा गया, जहां हजारों समर्थक अपनी ‘पुराची थलैवी अम्मा’ (क्रांतिकारी नेता अम्मा) को अंतिम विदाई देने के लिए कतार में खड़े रहे. जयललिता की पसंदीदा हरे रंग की साड़ी में लिपटा हुआ उनका पार्थिव शरीर शीशे के बक्से में रखा गया. यह बक्सा राजाजी हॉल की सीढ़ियों पर रखा गया और सेना के चार जवानों ने उसे राष्ट्रीय ध्वज से ढक दिया. राज्य के मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम और उनके सहयोगी मंत्रिमंडलीय सहयोगियों, सांसदों, विधायकों तथा राज्य के वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों ने दिवंगत मुख्यमंत्री को सबसे पहले श्रद्धांजलि दी. जयललिता की अंतिम यात्रा राजाजी हॉल से शुरू होकर मरीना बीच तक पहुंची थी, और पूरी यात्रा के दौरान सैकड़ों लोग उस वाहन के साथ-साथ चलते रहे, जिसमें जयललिता को मरीना बीच ले जाया जा रहा था.

पनीरसेल्वम तमिलनाडु के बने नए मुख्यमंत्री

paneerselvam

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

चेन्नई, तमिलनाडु की दिवगंत मुख्यमंत्री जे.जयललिता के निधन के बाद वित्त मंत्री ओ.पन्नीरसेल्वम ने आज  राज्य के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। जयललिता के निधन के कुछ ही घंटों के भीतर पन्नीरसेल्वम को ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम  के विधायक दल का नेता चुना गया। उन्हें बाद में राज्यपाल सी.विद्यासागर राव ने राजभवन में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। पन्नीरसेल्वम तीसरी बार राज्य के मुख्यमंत्री बने हैं।

जयललिता की लोकप्रियता का आधार है, जन योजनाओं का ‘‘अम्मा’’ ब्रांड

चेन्नई,  तमिलनाडु में ‘‘अम्मा’’ ब्रांड के तहत बहुतायत में मुफ्त उपहार और लोकोपकारी योजनाएं बतौर मुख्यमंत्री जयललिता के कार्यकाल की पहचान बन गए थे। इन्हीं की लहर पर सवार होकर जयललिता ने अपने धुर प्रतिद्वंद्वी करूणानिधि की द्रमुक को इस साल के विधानसभा चुनाव में करारी मात दी थी।

अम्मा कैंटीन से लेकर अम्मा जिम्नेजियम और पार्क तक यह ब्रांड उनके नाम का पर्यायवाची बन गया था। तमिलनाडु में मुफ्त उपहारों की संस्कृति को क्रांतिकारी तरीके से बढ़ावा देने का श्रेय भले ही करूणानिधि को जाता हो लेकिन जयललिता ने उनकी नाक के नीचे इस कला में महारत हासिल कर ली थी और वर्ष 2011 तथा 2016 में मतदाताओं पर छप्पर फाड़ कर मुफ्त उपहारों की बौछार कर दी थी।

15 से 20 फरवरी के बीच शुरू हो सकती हैं, यूपी बोर्ड की परीक्षाएं- शैल यादव, सचिव

upboard-up-madhyamik-shikchcha-parishadइलाहाबाद, उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की सचिव शैल यादव ने कहा है कि कुछ दिनों पहले चुनाव आयोग को परीक्षा का कार्यक्रम बनाकर भेज दिया गया था, वहां से परमिशन मिलते ही कार्यक्रम घोषित कर दिया जायेगा। यूपी बोर्ड परीक्षाएं 15-20 फरवरी के बीच शुरू हो सकती हैं, इसकी पुष्टि बोर्ड सचिव शैल यादव ने की।

दरअसल अभी तक यूपी में होने वाले विधानसभा चुनावों को देखते हुए यह कयास लगाए जा रहे थे कि परीक्षाएं फरवरी में टल सकती हैं। बोर्ड सचिव ने कुछ दिनों पूर्व चुनाव आयोग को परीक्षा का कार्यक्रम बनाकर भेज दिया था। आइसीएसई बोर्ड की परीक्षा तिथि छह फरवरी से घोषित होने के चलते उम्मीद है कि यूपी बोर्ड परीक्षाएं भी फरवरी में ही होंगी। अंतिम फैसला चुनाव आयोग पर छोड़ा गया है। उनका कहना है कि दस दिन के अंदर परीक्षा कार्यक्रम जारी हो जायेगा।

भारत में कैशलेस अर्थव्यवस्था की कल्पना करना भी बेकार- नीतीश कुमार

nitish-kumar

पटना, काला धन और नोटबंदी के मुद्दे पर नरेंद्र मोदी सरकार का समर्थन करने वाले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि कैशलेस अर्थव्यवस्था की कल्पना करना भी बेकार है।

नीतीश कुमार ने सोमवार को पटना में एक संवाददाता सम्मलेन में कहा कि कुछ भी कर लीजिए यह नहीं चल सकता। इंडिया का जो सामाजिक परिवेश है, सामाजिक पृष्ठभूमि है और जो लोगों की आदत हैं उसके मद्देनजर नगद से लोग खरीद-बिक्री करते रहेंगे। इसलिए यह कल्पना या विचार हो सकता है। मैं नहीं समझता कि कैशेलस इकॉनामी हो जाएगी। नीतीश कुमार ने यह कहकर कैशलेस की मुहिम पर अपना विचार पहली बार सार्वजनिक रूप से साफ कर दिया।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com