महाराष्ट्र के 14 हजार गांवों में सूखा घोषित, बिजली बिल पर 33 फीसदी छूट

draught_144500256234_650x425_101615070855महाराष्ट्र सरकार ने शुक्रवार को राज्य के 14,708 गांवों में सूखा घोषित कर दिया. सरकार ने किसानों को राहत देते हुए खेती-बाड़ी और पानी के पंप के बिजली बिलों पर 33.5 फीसदी की छूट देने का भी ऐलान किया है. सूखा प्रभावित इलाकों के स्कूलों और कॉलेजों में पढ़ने वाले बच्चों को एग्जाम फीस से भी छूट दी गई है.

सरकार ऐसे करेगी किसानों की मदद
सरकार ने घोषणा की है कि कृषि उत्पादों की खरीद के लिए विशेष केंद्र खोले जाएंगे. बीड और लातूर सबसे ज्यादा प्रभावित जिले हैं. इनके अलावा जलगांव, नांदेड़, अहमदनगर, और विदर्भ के भी कई गांवों में हालात बदतर हैं.

बीड में सबसे ज्यादा खुदकुशी
महाराष्ट्र हाल के वर्षों में सबसे भयंकर सूखे का सामना कर रहा है. बीड जिले में सबसे ज्यादा किसानों ने खुदकुशी की. अकेले अगस्त महीने में ही यहां 105 किसानों ने खुदकुशी कर ली थी.

70 फीसदी लोगों ने मराठवाड़ा छोड़ा
मराठवाड़ा को लगातार चौथे साल इतने बुरे हालात हैं. सूखा प्रभावित इलाकों से करीब 25 लाख लोग मुंबई जैसे बड़े शहरों और पश्चिमी महाराष्ट्र में पलायन कर चुके हैं. अब तक इलाके की 70 फीसदी आबादी पलायन कर चुकी है.