अब लोकसभा सदस्यों के लिये हुआ ई-पोर्टल शुरु

loksabhaनयी दिल्ली,  लोकसभा सदस्यों के लिये ई-पोर्टल का शुभारंभ हुआ। इस ई-पोर्टल में अन्य बातों के साथ-साथ माननीय सदस्यों द्वारा विभिन्न सूचनाओं को ऑनलाइन प्रस्तुत किए जाने की सुविधा उपलब्ध होगी.” ई-पोर्टल की प्रमुख विशेषताओं में प्रत्येक संसद सदस्य के लिए अलग लॉग-इन और पासवर्ड होना, सदस्यों को ई-मेल और एसएमएस के माध्यम से एक-दूसरे से और सचिवालय की विभिन्न शाखाओं के साथ पत्र-व्यवहार करने की सुविधा मिलना शामिल हैं.

ई-पोर्टल की महत्वपूर्ण विशेषताओं में एक यह है कि सदस्य लोक सभा की प्रक्रिया तथा कार्य संचालन नियम के विभिन्न नियमों के अंतर्गत प्रश्न और सूचनाएं ऑनलाइन ई-फाइल कर सकते हैं. यह पोर्टल विधेयकों, समिति की बैठकों की समय-सारणी, एजेंडा और रिपोटोंर् और अन्य संसदीय सूचनाएं भी प्रदान करता है. संसद सदस्य इस ई-पोर्टल के माध्यम से विभिन्न विषयों से संबंधित संदर्भ सामग्री के लिए अनुरोध भेज सकते हैं और इलेक्ट्रॉनिक रुप में सामग्री प्राप्त कर सकते हैं. यह ई-पोर्टल पासवर्ड सुरक्षित है और सदस्य को अपने ई-पोर्टल के उपयोग के लिए पंजीकृत मोबाइल फोन पर ओटीपी :वन टाईम पासवर्ड: प्राप्त होगा.

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने  कहा कि लोकसभा दस्तावेजों के डिजिटलीकरण से 1000 से अधिक पेड़ों को बचाने में मदद मिली. लोकसभा को काजगरहित बनाने की दिशा में निरंतर प्रयासों पर जोर देते हुए लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा कि इसका उद्देश्य पर्यावरण का संरक्षण करना है, साथ ही सदस्यों के लिए ई-पोर्टल के शुभारंभ भी की. संसद भवन इमारत में विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ बैठक के बाद लोकसभा अध्यक्ष ने बताया, ‘‘ सदन में पेश होने वाले विभिन्न समितियों की रिपोर्ट की प्रतियों की संख्या काफी कम की गई है.

उन्होने कहा कि हमने अतारांकित प्रश्नों और बुलेटिन भाग-2 की हार्ड प्रतियों की प्रिंटिंग और वितरण पहले ही बंद कर दिया है. विभिन्न समितियों की रिपोर्ट और सभा पटल पर रखे गए पत्रों की प्रतियों की संख्या बहुत कम कर दी गई है. बजट दस्तावेज की हार्ड प्रतियों की संख्या भी 35 प्रतिशत घटा दी गई है.” उन्होंने कहा, ‘‘हमारे सतत प्रयासों के फलस्वरुप हम लगभग 194 लाख कागजों (ए-4 आकार के) को कम करने में सक्षम हो पाये हैं. इसके फलस्वरुप प्रतिवर्ष लगभग 80 लाख रुपये की सीधी बचत हुई है.

सुमित्रा महाजन ने कहा कि पेपरलेस लोकसभा की दिशा में निरंतर प्रयास करने के पीछे हमारा मुख्य उद्देश्य अपने पर्यावरण का संरक्षण है. एक अनुसंधान के अनुसार, अनुमान है कि एक सामान्य वृक्ष को काटकर लगभग 20 हजार कागज के पन्ने बनते हैं. इसलिए कागज का उपयोग कम करके हमने लगभग एक हजार वृक्षों को बचा लिया है. लोकसभा को पेपरलैस बनाने की अपनी पहल पर कहा, ‘‘जैसा कि आप सभी को पता है कि हम लोकसभा को पेपरलेस संस्था बनाने के लिए ठोस कदम उठा रहे हैं.” उन्होंने कहा, ‘‘मुझे विश्वास है कि आपके सहयोग से हम लोक सभा को पेपरलैस संस्था बना पाएंगे।”

 साइबर युग में संसद और विधान मंडल सहित संस्थाओं के ई-प्रशासन को अधिकाधिक अपनाने और ऑनलाइन पत्राचार करने का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘इस दिशा में एक कदम के रुप में मैं लोकसभा सदस्यों के लिए आज ई-पोर्टल शुभारंभ करने का प्रस्ताव करती हूं.

 

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com