हिंदी सेवा सम्मान से नवाजे गये लेखक, पत्रकार और हिंदी प्रेमी

पटना ,  साहित्याकारों के अलावा भाषा एवं भारतीय संस्कृति की रक्षा के लिए तत्पर रहने वाले लोगों के योगदान को भी महत्व देते हुये अंतर्राष्ट्रीय हिंदी समिति ने आज कई लेखक, पत्रकार और हिंदी प्रेमियों को हिंदी सेवा सम्मान से नवाजा।

जब इंसान के सिर पर निकल आया ‘सींग’, मामला देख डॉक्टर भी रह गए हैरान….

अंतर्राष्ट्रीय हिंदी समिति यूएस बिहार.झारखंड, भारत शाखा, पटना की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में बिहार के सूचना एवं जन संपर्क मंत्री नीरज कुमार ने संवाद एजेंसी ष्समाचार भारती के पूर्व ब्यूरो प्रमुख और प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया  की हिंदी सेवा ष्भाषा से सेवानिवृत्त एवं कविता लेखन में अभिरुचि रखने वाले अजित प्रताप सिंह समेत कुल 18 हिंदी प्रेमियों को इस सम्मान से सम्मानित किया है।

यूपी का पहला रोप-वे इस जिले मे हुआ शुरू, अब नही चढ़नी पड़ेंगी सैकड़ों सीढ़ियां

सम्मान पाने वाले अन्य साहित्यकारोंए लेखकोंए पत्रकारों और हिंदी प्रेमियों में विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों से जुड़ी रहीं डॉ. प्रीति कश्यपए लेखक डॉ. वीरेंद्र कुमार सिंहए प्रख्यात यूरोलॉजिस्ट डॉ.संजय गुप्ताए महाविद्यालय के प्रधानाचार्य रहे डॉ. राणा प्रताप सिंहए विदेश में हिंदी भाषा के सम्मान के लिए प्रयासरत अपर्णा भारतीए लेखक डॉ. अमरेंद्र कुमारए अंतर्राष्ट्रीय हिंदी समिति यूएस बिहार.झारखंड, भारत शाखा, पटना की पूर्व अध्यक्ष डॉ. रानी श्रीवास्तवए अभियंता संजय कुमारए अभिनेता रवि मिश्राए जे. डी. विमेंस कॉलेज में संगीत की विभागाध्यक्ष प्रो. रीता दासए साहित्य प्रेमी अर्जुन ठाकुरए लेखिका प्रभा रानी सिंहए लेखिका वंदना वर्माए कवयित्री निधि सरोज चौधरीए अंतर्राष्ट्रीय हिंदी समिति यूएस बिहार.झारखंडए भारत शाखाए पटना के संस्थापक अध्यक्ष वीरेंद्र कुमार चौधरीए कम्प्यूटर इंजीनियर विक्की कुमार और सरस्वती विद्या मंदिर शामिल है।

अब रेलवे फ्री में रिचार्ज करेगा, आपका मोबाइल नंबर

इस मौके पर अंतर्राष्ट्रीय हिंदी समिति यूएस बिहार.झारखंड, भारत शाखाए पटना की अध्यक्ष डॉ. शोभा रानी ने कहाए श्अधिकतर लोग हिंदी सेवा का सम्मान केवल साहित्यकार एवं कवियों को प्रदान करते हैं जबकि उनके साथ.साथ हमें उन लोगों का भी सम्मान करना चाहिए जो लेखक न हाेेते हुये भी हिंदी भाषा एवं भारतीय संस्कृति की रक्षा के लिए सदैव तत्पर रहते हैं।श् वहींए बिहार संस्कृति बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष एवं सुप्रसिद्ध लेखक सिद्धेश्वर प्रसाद ने हिंदी कैसे पूरे राष्ट्र की भाषा बने पर अपने विचार व्यक्त किये।

ये पीसीएस अफसर बनीं मिसेज इंडिया 2019….

केंद्रीय कर्मचारियों को लेकर सरकार कर सकती है ये बड़ा ऐलान

कुत्ते की मौत पर रक्षा मंत्री दुखी, पूरे सम्मान के साथ हुई विदाई

इन सरकारी कर्मचारियों का बढ़ा वेतन और भत्ता…