इस मदर्स डे पर सोनी सब के कलाकारों ने मां के प्रति किया आभार व्यक्त, “मां जैसा कोई नहीं”

मदर्स डे माताओं के प्यार और बलिदान का सम्मान करने और उनकी सराहना करने के लिए मनाया जाता है, और परिवारों और समाज में उनके अपार योगदान के लिए आभार व्यक्त करने का दिन है। इस मदर्स डे पर सोनी सब के कलाकार पुरानी यादों के भावुक यात्रा पर हैं, और उस अनमोल योगदान को याद कर रहे हैं जो उनकी माताओं ने उनके जीवन और कॅरियर को आकार देने में निभाई है। मधुर यादों से लेकर हार्दिक भावनाओं तक वे गहन मातृ प्रेम की झलक पेश करते हुए अपने अनुभवों को खुलकर साझा करते हैं।

करुणा पांडे-

सोनी सब के पुष्पा इम्पॉसिबल में पुष्पा की भूमिका निभा रही करुणा पांडे ने कहा, “माँ हमारे जीवन का एक बहुत ही जरूरी हिस्सा हैं क्योंकि वह ही आपको अंदर और बाहर से जानती हैं। वह आपको नौ महीने तक अपने शरीर में रखती है और असहनीय दर्द से गुजरती है ताकि आप इस दुनिया में आ सकें और आपसे बिना शर्त प्यार कर सकें। मेरी माँ बहुत दयालु और विनम्र इंसान हैं। वह किसी के प्रति द्वेष नहीं रखती।”

अंजलि तत्रारी-
सोनी सब के वंशज में युविका की भूमिका निभाने वाली अंजलि तत्रारी ने कहा, “माँ का हमारे जीवन में अत्यधिक महत्व है और हम उनके बिना कुछ भी नहीं हैं। जब मैं 4 साल की थी तब मैंने अपने पिता को खो दिया था और तब से मेरी माँ ने सिंगल पैरेंट के रूप में मेरा पालन-पोषण किया। अपने पूरे जीवन में मैंने अपनी माँ को गुजारा करने के लिए कड़ी मेहनत करते देखा है। मुझे वह सब कुछ प्रदान किया जो मैं चाहती थी और इसके लिए अपने सपनों का बलिदान दिया।मैं गर्व से कह सकता हूं कि आज मैं जो कुछ भी हूं अपनी मां की परवरिश की वजह से हूं। काश मुझमें भी अपनी माँ की तरह शांत और धैर्यवान होने के गुण होते और अगर मैं अपनी माँ का 1% भी बन पाई तो मुझे ख़ुशी होगी।”

आयुषी खुराना-
सोनी सब के आंगन अपनों का में पल्लवी की भूमिका निभाने वाली आयुषी खुराना ने कहा, “मैं अपनी “मम्मा” के बिना कभी भी जीवन की कल्पना नहीं कर सकती। माँ इस दुनिया में सबसे निस्वार्थ इंसान है जो अपने बच्चों को इस दुनिया में आने से पहले ही प्यार करना शुरू कर देती है। इस दुनिया में माँ के प्यार की तुलना किसी भी चीज़ से नहीं की जा सकती क्योंकि यह प्यार का सबसे शुद्ध रूप है। मेरी माँ का समर्पण मुझे हर दिन प्रेरित करता है। वह जो कुछ भी करती है उसमें अपना सब कुछ देने की उसकी प्रतिबद्धता की मैं सबसे अधिक प्रशंसा करता हूं। मैं बचपन से ही उन्हें आदर की दृष्टि से देखता आया हूं।”

नीता शेट्टी-
सोनी सब के आंगन आपनो का में दीपिका की भूमिका निभा रही हैं, ने कहा, “मेरी मां ही मेरी सब कुछ हैं – वह सिर्फ मेरी माता-पिता नहीं हैं, बल्कि मेरी दोस्त, गुरु और प्रेरणा का स्रोत भी हैं। उनके अटूट समर्थन और मार्गदर्शन ने मुझे आज जो कुछ भी है उसे आकार दिया है। कठिन समय में उसके लचीलेपन को देखकर मुझमें कभी हार न मानने का दृढ़ संकल्प पैदा हुआ। मेरा मानना है कि लड़कियों को अपनी मां की पालन-पोषण की प्रवृत्ति विरासत में मिलती है, जैसा कि मैंने अनजाने में उनके प्यार, देखभाल और समर्थन को अपनाया है।”

सोनी सब के पुष्पा इम्पॉसिबल में अश्विन की भूमिका निभाने वाले नवीन पंडिता ने कहा, “मेरी माँ मेरे लिए सब कुछ है। वह सिर्फ एक पैरेंट ही नहीं, बल्कि एक दोस्त भी हैं। उनके बिना मैं कुछ नहीं कर सकता। वह दयालु, देखभाल करने वाली और व्यावहारिक है। अगर किसी को मदद की जरूरत होती है, तो वह बिना किसी शिकायत के हमेशा मौजूद रहती है। मुझे लगता है कि जब एक महिला माँ बनती है, तो उसे स्वाभाविक रूप से अपनी माँ के पालन-पोषण के गुण विरासत में मिलते हैं क्योंकि वे भावनाएँ हमारे जीन में होती हैं।

रिपोर्टर-आभा यादव