लोगों को संभावित नकदी संकट से मिली बड़ी राहत, बैंक हड़ताल पर बड़ा निर्णय

नई दिल्ली, बैंक अधिकारियों के संगठनों ने 25 सितंबर से प्रस्तावित 48 घंटे की अपनी हड़ताल पर बड़ा निर्णय लिया है।

बैंक हड़ताल वापस ले ली है।

इसके साथ ही सप्ताह के आखिरी चार दिनों के दौरान संभावित नकदी संकट से राहत मिल गई है।

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के अधिकारियों की यूनियनों ने वित्त सचिव राजीव कुमार की ओर से उनकी चिंताओं पर गौर करने के आश्वासन के
बाद  हड़ताल टालने का फैसला किया है।
एक संयुक्त बयान में कहा गया है कि वित्त सचिव ने सभी चिंताओं को लेकर एक समिति के गठन के मुद्दे पर सकारात्मक रुख दिखाया है।
यह समिति 10 बैंकों के प्रस्तावित एकीकरण से जुड़े मुद्दों पर गौर करेगी।
इसमे सभी बैंकों की पहचान कायम रखने का मुद्दा भी है।
बयान में कहा गया है कि इस बातचीत के बाद हड़ताल के आह्वान को वापस लेने की अपील की गई।
बयान में कहा गया है कि वित्त सचिव के साथ एक सकारात्मक और कार्य योग्य समाधान पर बातचीत के बाद 48 घंटे की हड़ताल को टाल
दिया गया है।
इससे अब 26 और 27 सितंबर को बैंकों का सामान्य कामकाज प्रभावित नहीं होगा।
बैंक अधिकारियों की चार यूनियनों ने सार्वजनिक क्षेत्र के 10 बैंकों का एकीकरण कर चार बैंक बनाने की घोषणा के खिलाफ 26 सितंबर से दो
दिन की हड़ताल पर जाने की घोषणा की थी।
इंडियन बैंक्स एसोसिएशन  ने एसबीआई को सूचित किया था कि ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कॉन्फेडरेशन , ऑल इंडिया बैंक
ऑफिसर्स असोसिएशन, इंडियन नैशनल बैंक ऑफिसर्स कांग्रेस और नेशनल ऑर्गेनाइजेशन ऑफ बैंक ऑफिसर्स  26 और 27 सितंबर को
बैंक कर्मचारियों की अखिल भारतीय हड़ताल का आह्वान किया है।