Breaking News

यूपी उपचुनाव- पहली बार उतरी बसपा, तो सपा ने दिखाया एकला चलो का दम

लखनऊ, यूपी उपचुनाव के परिणाम अलग-अलग दलों के लिये अलग-अलग अनुभव लेकर आयें हैं।

उपचुनाव मे पहली बार उतरी बसपा के लिये तो अनुभव अच्छा नही रहा, तो सपा नेँ एकला चलो का दम दिखाया और प्रदेश मे नम्बर टू की स्थिति मे आ गयी।

11 सीटों पर हुए उपचुनाव में सभी पार्टियों और निर्दलीयों को मिलाकर कुल 109 उम्मीद्वार खड़े हुए थे। इसमें से 82 उम्मीदवारों की ज़मानत जब्त  हुई है।

बच्चे के पास रात को सोता दिखा ‘भूत का बच्चा,मां के उड़े होश, फिर….

चुनाव में जमानत बचाने के लिए कुल पड़े वैध वोटों का 1/6 या 16.66 फीसदी वोट हासिल करना होता है। इससे कम वोट पाने वाले उम्मीद्वारों की जमानत की राशि चुनाव आयोग वापस नहीं करता है। विधानसभा के चुनाव में सामान्य और ओबीसी कैंडीडेट को 10 हजार रूपये, जबकि एससी/एसटी कैंडीडेट को पांच हजार रूपये जमानत राशि के तौर पर जमा करना पड़ता है.

बिग बॉस 13 से बाहर निकलते ही अबु मलिक ने किया बड़ा खुलासा….

पहली बार उपचुनाव में बसपा मैदान में उतरी और वह यूपी में भाजपा के बाद नम्बर टू की पार्टी दिखना चाहती थी। लेकिन उसके सपने चूर-चूर हो गये। बसपा सिर्फ 2 सीटों इगलास और जलालपुर में रनर-अप रही, बाकी जगहों पर उसके उम्मीद्वार बुरी तरह पिट गये। उसने न सिर्फ अपनी एक सिटिंग सीट गंवा दी है बल्कि 11 में से 6 सीटों पर बसपा के उम्मीदवार बुरी तरह हारे हैं। वे अपनी जमानत तक नहीं बचा पाये।

केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी……

रामपुर, लखनऊ कैंट, ज़ैदपुर, गोविंदनगर, गंगोह और प्रतापगढ़ ऐसी ही सीटें हैं, जहां बसपा अपनी जमानत नहीं बचा पायी। जमानत बचाने के लिए कुल पड़े वैध वोटों का 16.66 फीसदी आवश्यक होता है लेकिन, बसपा को रामपुर में 2.14 फीसदी, लखनऊ कैण्ट में 9.64 फीसदी, ज़ैदपुर में 8.21 फीसदी, गोविंद नगर में 4.52 फीसदी, गंगोह में 14.37 फीसदी और प्रतापगढ़ में 12.74 फीसदी वोटों से ही संतोष करना पड़ा.

पिज्जा खाने वालो के लिए बुरी खबर,कंपनी ने लिया ये बड़ा फैसला….

इस मामले में बसपा का प्रदर्शन कांग्रेस के बराबर आकर खड़ा हो गया है, जिसके 7 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हुई है। 2017 के चुनाव में इन 11 सीटों में से 4 सीटों पर कांग्रेस के उम्मीद्वार दूसरे नंबर पर थे। इस उपचुनाव में वे महज गंगोह और गोविंदनगर तक सिमट कर रह गये। कांग्रेस ने 11 में से 7 सीटों पर जमानत गंवाई । प्रदेश में कांग्रेस भले ही उपचुनाव में एक भी सीट न हासिल कर सकी हो लेकिन अकेले लड़ने वाली कांग्रेस के वोट प्रतिशत में बढ़ोत्तरी देखी गई है। इस परिणाम से पार्टी में एक आस जगी है।

बीजेपी के लिये भी उपचुनाव के परिणाम चोंकाने वाले रहे। पार्टी तीन सीटें हार गयी लेकिन, उसके किसी भी कैण्डिडेट की जमानत जब्त नहीं हुई है।

इस मामले में  सपा के कैंडिडेट 11 में से 8 सीटें हारे हैं, फिर भी वे प्रतापगढ़ को छोड़कर बाकी सभी सातों सीटों पर अपनी जमानत बचाने में कामयाब रहे हैं। 11 सीटों में से प्रतापगढ़ एकलौती ऐसी सीट है, जहां भाजपा की सहयोगी पार्टी अपना दल (एस) के विजेता राजकुमार पाल के सामने सभी पार्टियां फीकी पड़ गयी हैं। इस सीट पर किसी भी कैंडिडेट की जमानत नहीं बची है।

यूपी के यूनिवर्सिटी और डिग्री कॉलेजों में बैन हुआ 

इस उपचुनाव में  घोसी से निर्दलीय सुधाकर सिंह के अलावा किसी भी निर्दलीय उम्मीद्वार की जमानत नहीं बची है. सुधाकर सिंह सपा के कैंडीडेट थे लेकिन. उनका पर्चा खारिज हो गया था, जिसकी वजह से उन्हें निर्दलीय मैदान में उतरना पड़ा था.

यूपी सरकार ने सरकारी कर्मचारियों को दिया ये बड़ा तोहफा….

बछड़ी देगी गाय से ढाई गुना अधिक दूध, नई तकनीक हुई विकसित…..

बिग बॉस 13 में ये भोजपुरी स्टार बनेंगे पहले वाइल्ड कार्ड कंटेस्टेंट्स

Spread the love
Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com