Breaking News

महात्मा गांधी के ‘हे राम’ और ‘जय श्रीराम’ में क्या फर्क है ?

नयी दिल्ली,  राष्ट्रपिता महात्मा गांधी गौ रक्षा के समर्थक थे लेकिन गौ रक्षा के नाम पर इंसान की हत्या किए जाने के विरोधी थे।

उनके ‘हे राम’ और ‘जय श्रीराम’ में बहुत फर्क है।

वह अल्पसंख्यक समुदाय को लेकर बहुत चिंतित रहते थे चाहे वे भारत के मुसलमान हो या पाकिस्तान के हिन्दू।

इन सरकारी कर्मचारियों का बढ़ा वेतन…..

उन्होंने धर्म के आधार पर किसी के साथ भेदभाव नही किया।

यह बात शनिवार को यहां गांधी जी की 150 वीं जयन्ती पर समाप्त दो दिवसीय युवा लेखक सम्मेलन में देश के कोने कोने से आये युवा लेखकों

ने कही।

यह पहला मौका है जब गांधी पर युवा लेखकों का इतना बड़ा सम्मेलन देश मे आयोजित किया गया।

रिलायंस जियो ने ग्राहकों को दिया बड़ा झटका…..

चार सत्रों में आयोजित सम्मेललन में गांधी की 1909 में लिखी गयी पुस्तक ‘हिन्द स्वराज’, ‘सत्य के साथ मेरे प्रयोग’ और ‘प्रार्थना सभा’ पर गंभीर

विचार विमर्श हुआ। इसके अलावा आज के समय मे गांधी पर भी एक सत्र में चर्चा हुई।

हाईकोर्ट का चौंकाने वाला फैसला, प्रेमिका से बेवफाई अपराध नहीं

सम्मेलन में भारत विभाजन के लिए गांधी को जिम्मेदार बताए जाने की तीखी आलोचना गई और आजादी मिलते ही गांधी को भुला देने के

प्रयासों की निंदा भी की गई।

सम्मेलन गांधी की प्रासंगिकता और आजादी को लेकर उनके स्वप्नों पर चर्चा हुई और सभी लेखकों ने माना कि देश को वास्तविक आजादी

अभी तक नही मिली जिसके लिए गांधी जी शहीद हो गए।

शादी में इस तरह से डांस करना पड़ा भारी,हुए गिरफ्तार….

सम्मेलन में दिल्ली के अलावा कोलकत्ता, बेंगलुरु, रांची, पटना, वाराणसी, मुम्बई आदि शहरों के लेखक और पत्रकारों ने भी भाग लिया और

अपने विचार व्यक्त किये। रजा फाउंडेशन द्वारा आयोजित इस सम्मेलन में करीब 50 लेखकों ने भाग लिया।

एक बकरी की मौत इस कंपनी को पड़ी भारी, सरकार को भी हुआ नुकसान

खुशखबरी,सरकार ने पेंशन के नियमों मे किया ये बड़ा बदलाव….

इस स्कूल में ‘भारत माता की जय बोलने पर बच्चों को पीटा

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन ने की बड़ी घोषणा, यात्रियों को मिलेगी ये बड़ी राहत

केंद्रीय मंत्री ने दिग्गज अभिनेता अभिताभ बच्चन को किया आश्वस्त, कहा- डरने की जरूरत नही

इस महान संगीतकार के नाम पर रखा गया ग्रह का नाम, नासा ने दिया ये सम्मान

कल से बदल जाएंगे ये नियम,आपके जीवन पर होगा ये असर…..

Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com