Breaking News

सहारनपुर जातीय दंगों से बनी दलित विरोधी छवि को सुधारने के लिये, बीजेपी का बड़ा प्लान

लखनऊ, सहारनपुर में दलितों पर हुए अत्याचार की घटना के बाद, अब बीजेपी को दलितों की चिंता सताने लगी है. इसलिए दलितों को बीजेपी से जोड़ने के लिये बीजेपी द्वारा विशेष प्रयास किये जाने की कोशिशें शुरू कर दी गई हैं.

अखिलेश यादव के इस सवाल ने क्यों मचा दी, योगी सरकार मे हलचल ?

 राष्ट्रपति चुनाव को लेकर, शरद यादव ने किया, विपक्ष की रणनीति का खुलासा

सहारनपुर में हुये जातीय संघर्ष मे दलितों के उत्पीड़न की घटना सामने आई थी. दलितो पर उत्पीड़न के आरोप जहां बीजेपी नेताओं और कार्यकर्ताओं पर लगे थे. वहीं दलितों मे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की भूमिका को लेकर भी आक्रोश है. दलितों का यह कहना है कि मुख्यमंत्री के इशारे पर दलितों के खिलाफ एकतरफा कार्यवाही हुई और  मुख्यमंत्री के सजातीय उपद्रवियों को साफ छोड़ दिया गया.

देखिये, संसद मे सांसदों की उपस्थिति, कौन नम्बर वन और कौन फिसड्डी

महामुक़ाबले में, टीम इंडिया के हाथों पाकिस्तान की हार, के सबसे बड़े कारण

दलितों और राजपूतों के साथ हुये जातीय संघर्ष मे, दलितों के घर जलाये गये, उनकी महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार हुआ लेकिन शासन के इशारे पर पुलिस मूकदर्शक बनी रही. दलितों पर हुयी एकतरफा कार्यवाही मे, निर्दोषों को गिरफ्तार कर उनका उत्पीड़न किया गया . दलित युवकों के खिलाफ गंभीर धाराओं मे मुकदमे दर्ज किये गये. जिसके बाद विपक्ष ने बीजेपी और राज्य की योगी सरकार पर दलित विरोधी होने के आरोप लगाए थे.

सेना मे भ्रष्टाचार का बड़ा खुलासा, हवाला के जरिये दी जा रही थी रिश्वत

इसी महीने मे लीजिये, लखनऊ मे मेट्रो रेल मे सफर का आनंद

बीजेपी के नेतृत्व को लगता है कि सहारनपुर में दलितों पर हुए अत्याचार की घटना से दलितों में पार्टी के प्रति गलत संदेश गया है. इसको लेकर बीजेपी आलाकमान ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से अपनी नाराजगी भी जाहिर की थी. इसलिए ये तय किया गया है कि सरकार के तीन साल पूरे होने के जश्न में सभी मंत्रियों के कार्यक्रम में दलित परिवार के साथ एक टाइम खाना खाने का प्रोग्राम रखा जाए.

दलित संगठन मुख्यमंत्री योगी को अशुद्धियां साफ करने के लिये देगा, 16 फीट लंबा साबुन

आठ माह पूर्व, जेएनयू के लापता छात्र नजीब के मामले में, सीबीआई ने दर्ज की प्राथमिकी

बीजेपी आलाकमान ने इस संबंध में सभी मंत्रियों को निर्देश दिए हैं.मोदी फेस्ट के जरिए 15 जून तक सरकार के कामकाज का जश्न मनाया जाएगा.मंत्रियों से कहा गया है कि स्वच्छता अभियान के तहत एक जगह झाड़ू लगाने के साथ ही सभी मंत्री किसी दलित परिवार के घर खाना खाएं.

गरीबी और पिछड़ापन तोड़ नही पाया, यूपीएससी टॉपर का हौसला

अगर आप नकद लेन देन के आदी हैं, तो हो जायें सावधान, आयकर विभाग की चेतावनी

अब देखना यह होगा कि क्या बीजेपी के यह प्रयास उसकी दलित विरोधी छवि को बदल पायेंगे.

एनडीटीवी के संस्थापक प्रणव रॉय के घर, सीबीआई की छापेमारी, कहा-झूठे केस में फंसाया जा रहा

मुलायम सिंह ने अखिलेश यादव से रिश्तों को लेकर, खोला राज…

Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com