Breaking News

सुप्रीम कोर्ट का बड़ा सवाल, क्या जाति के आधार पर उस व्यक्ति पर संदेह व्यक्त किया जा सकता है?

नयी दिल्ली, सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा सवाल किया है कि क्या जाति के आधार पर उस व्यक्ति पर संदेह व्यक्त किया जा सकता है?

न्यायमूर्ति अरूण मिश्रा, न्यायमूर्ति एम आर शाह और न्यायमूर्ति बी आर गवई की पीठ ने कहा था, ‘‘यह संविधान की भावना के खिलाफ है। क्या

किसी कानून और संविधान के खिलाफ सिर्फ इस वजह से ऐसा कोई आदेश दिया जा सकता है कि कानून का दुरूपयोग हो रहा है? क्या किसी

व्यक्ति की जाति के आधार पर किसी के प्रति संदेह व्यक्त किया जा सकता है? सामान्य वर्ग का व्यक्ति भी फर्जी प्राथमिकी दायर सकता है।’’

इस महान संगीतकार के नाम पर रखा गया ग्रह का नाम, नासा ने दिया ये सम्मान

अटॉर्नी जनरल के के वेणुगोपाल का कहना था कि 20 मार्च, 2018 का शीर्ष अदालत का फैसला संविधान की भावना के अनुरूप नहीं था।

शीर्ष अदालत ने कहा था कि आजादी के 70 साल बाद भी अनुसूचित जाति और जनजातियों के लोगों को सरकार संरक्षण प्रदान नहीं कर सकी

है और अभी तक उनके साथ भेदभाव और अस्पृश्यता का व्यवहार किया जाता है।

कल से बदल जाएंगे ये नियम,आपके जीवन पर होगा ये असर…..

उच्चतम न्यायालय ने अनुसूचित जाति और जनजाति (उत्पीड़न से संरक्षण) कानून के तहत गिरफ्तारी के प्रावधानों को हल्का

करने संबंधी शीर्ष अदालत के 20 मार्च, 2018 के फैसले में दिये गये निर्देश  वापस ले लिये।

न्यायमूर्ति अरूण मिश्रा, न्यायमूर्ति एम आर शाह और न्यायमूर्ति बी आर गवई की पीठ ने केन्द्र सरकार की पुनर्विचार याचिका पर यह फैसला

सुनाया। पीठ ने कहा कि समाज में समानता के लिये अनुसूचित जाति और जनजातियों का संघर्ष देश में अभी खत्म नहीं हुआ है। न्यायालय ने

कहा कि इन वर्गो के लोग आज भी अस्पृश्यता का सामना कर रहे हैं और वे बहिष्कृत जीवन गुजारते हैं।

ऐश्वर्या राय ने की अपनी सास और ननद के खिलाफ महिला हेल्पलाइन मे शिकायत

शीर्ष अदालत ने कहा कि संविधान के अनुच्छेद 15 के तहत अजा-अजजा वर्ग के लोगों को संरक्षण प्राप्त है, लेकिन इसके बावजूद अभी तक

उनके साथ भेदभाव हो रहा है।

इस कानून के प्रावधानों के दुरूपयोग और झूठे मामले दायर करने के मुद्दे पर न्यायालय ने कहा कि यह जाति व्यवस्था की वजह से नहीं, बल्कि

मानवीय विफलता का नतीजा है।

पीठ ने इस कानून के तहत गिरफ्तारी के प्रावधान और कोई भी मामला दर्ज करने से पहले प्रारंभिक जांच करने के निर्देशों को अनावश्यक

करार दिया और कहा कि न्यायालय को अपने पूर्ण अधिकार का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए था।

पीठ ने कहा कि संविधान के तहत इस तरह के निर्देश देने की अनुमति नही है।

प्याज की बढ़ती कीमतों को रोकने के लिए सरकार ने लिया बड़ा फैसला….

पीठ ने 18 सितंबर को इस पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई पूरी की थी। पीठ ने न्यायालय की दो सदस्यीय पीठ के 20 मार्च, 2018 के फैसले पर

टिप्पणी करते हुये सवाल उठाया था कि क्या संविधान की भावना के खिलाफ कोई फैसला सुनाया जा सकता है।

पीठ ने कानून के प्रावधानों के अनुरूप ‘समानता लाने’ के लिये कुछ निर्देश देने का संकेत देते हुये कहा था कि आजादी के 70 साल बाद भी

देश में अनुसूचित जाति और जनजाति के सदस्यों के साथ ‘भेदभाव’ और ‘अस्पृश्यता’ बरती जा रही है।

शादी को यादगार बनाने के लिए युवक और युवती ने किया ये भयंकर काम

यही नहीं, न्यायालय ने हाथ से मलबा उठाने की कुप्रथा और सीवर तथा नालों की सफाई करने वाले इस समुदाय के लोगों की मृत्यु पर गंभीर

रुख अपनाते हुये कहा था कि दुनिया में कहीं भी लोगों को ‘मरने के लिये गैस चैंबर’ में नहीं भेजा जाता है।

न्यायालय के 20 मार्च, 2018 के फैसले के बाद देश के विभिन्न हिस्सों में जबर्दस्त हिंसक विरोध प्रदर्शन हुआ था।

शीर्ष अदालत ने अपने फैसले में सरकारी कर्मचारियों और निजी व्यक्तियों के खिलाफ अनुसूचित जाति एवं जनजाति (उत्पीड़न की रोकथाम)

कानून के कठोर प्रावधानों का बड़े पैमाने पर दुरूपयोग होने का जिक्र करते हुये कहा था कि इस कानून के तहत दायर किसी भी शिकायत पर

तत्काल गिरफ्तारी नहीं की जायेगी।

पिता नहीं चाहता था हो बेटी का अंतिम संस्कार, चिता से अधजला हाथ निकालकर और फिर…

अब हरे रंग के बाद मिलेगी ‘लाल’ भिंडी

इस एक्ट्रेस ने पानी के अंदर ऐसे दिया बेटी को जन्म….

ये लोग नही कर पाएगे आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर सफर…..

सपा सांसद आजम खान का पता बताने वाले को मिलेगा ये इनाम….

बस चालक का कटा चालान,क्योकि उसने नहीं पहना था ये…..

पीएम मोदी ने इस भोजपुरी स्टार को ट्विटर पर किया फॉलो…..

Spread the love
Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com