गाँधी ने देश में मुसलमानों को रोककर बड़ी गलती की थी: साध्वी प्राची

a143-300x233लखनऊ, 18 अक्टूबर. गोमांस और बीफ से जुड़ी घटनाओं पर बयानबाजी का दौरा जारी है। हिमाचल के सिरमौर में मवेशी ले जा रहे यूपी के शख्स नोमान की हत्या को साध्वी प्राची ने ‘एक्शन का रिएक्शन’ कहा है। वहीं, उन्नाव से बीजेपी सांसद साक्षी महाराज ने शनिवार को कहा है कि नेताओं को गोहत्या पर अपनी सोच बदलनी होगी, अन्यथा वे लोगों के हाथों पिटने लगेंगे। सद्वि ने ये भी कहा कि महात्मा गाँधी ने बंटवारे के समय देश में मुसलमानों को रोककर एक बड़ी गलती की थी। इसका खामियाजा हिन्दू आज तक भुगत रहे हैं। बता दें कि कुछ दिनों पहले श्रीनगर में बीजेपी विधायकों ने बीफ पार्टी देने वाले एमएलए शेख अब्दुल राशिद की पिटाई की थी।

प्राची ने क्या कहा?
बयानों के कारण सुर्खियों में रहने वाली साध्वी प्राची ने कहा कि बंटवारे के समय पाकिस्तान मुसलमानों और भारत हिंदुओं के लिए बनाया गया था। लेकिन, महात्मा गांधी ने मुसलमानों को रोककर सबसे बड़ी गलती की थी, जिसका खामियाजा आज देश का हिंदू भुगत रहा है। सिरमौर की घटना एक्शन का रिएक्शन है। आज देश का हिंदू गौ हत्या पर रोक लगाने के साथ सख्त कानून बनाना चाहता है। तभी देश में गौ हत्या रुक सकती है। प्राची ने कहा कि पुराणों में बताया गया है कि ऋषि मुनि कंद मूल फल खाकर जीवित रहते थे। मांस खाना हमारी संस्कृति में नहीं है। ऐसे में जो गौ मांस खाता है वह इंसान नहीं राक्षस है।

साक्षी महाराज ने क्या कहा?
साक्षी महाराज ने कहा, ”जम्मू-कश्मीर के निर्दलीय विधायक पर हुआ हमला महज एक रिएक्शन था। उनके कदम से जनता आहत हुई और उनकी पिटाई हो गई।” साक्षी ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर के उस बयान का समर्थन किया जिसमें खट्टर ने कथित तौर पर कहा था कि मुस्लिमों को गोमांस खाना छोड़ देना चाहिए। बीजेपी सांसद ने कहा कि खट्टर के बयान में कुछ भी गलत नहीं है। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि अब गौ हत्या हुई तो दादरी और हिमाचल जैसे घटनाएं भी होंगी।

क्या है मामला?
हिमाचल के सिरमौर में मवेशी ले जा रहे यूपी के शख्‍स नौमान की बुधवार को हत्या हुई थी। नोमान के रिश्तेदार इमरान असगर ने दावा किया था कि बजरंग दल के मेंबर्स ने ट्रक रुकवाया था। ट्रक में मवेशी थे। जब तस्कर पकड़े गए तो भीड़ इसलिए भड़क गई, क्योंकि पहले ट्रकों में बैल होते थे और यह कहा जाता था कि खेतों में जुताई के लिए लेकर जा रहे हैं। लेकिन इस बार ट्रक में एक भी बैल नहीं था और सब गायें थीं। इन्हें लोगों ने बुरी तरह पीटा था।