व्रत के दौरान इन 5 रूल्स को फॉलो करके रह सकते हैं हेल्दी और फिट

1_1444809984साधारण तौर पर एक महिला को पूरे दिन में छह रोटी के बराबर कोई भी अनाज जैसे, चावल, पोहा आदि की जरूरत होती है। वहीं पुरुषों के लिए आठ से नौ रोटी के बराबर कोई भी अनाज जरूरी है। व्रत के दौरान साधारण अनाज का प्रयोग नहीं किया जाता, मतलब बॉडी को एनर्जी देने वाले पदार्थों की कमी हो जाती है। ऐसे में एनर्जी के लिए ऑप्शन्स की जरूरत पड़ती है। इसलिए इस दौरान बाकी के हेल्दी ऑप्शन का इस्तेमाल करें, लेकिन सही तरीके से।
 
उदाहरण के तौर पर- सुबह नाश्ते में एक केला, दोपहर में एक से डेढ़ कटोरी खिचड़ी, शाम को उबले आलू की टिक्की, रात को साबूदाना/कुट्टू/सिंघाड़े के आटे की रोटी या पूड़ी।
 
यदि दिनभर व्रत रखकर शाम को खाएं (फलाहारी)- सुबह एक केला, दिन में एक कटोरी मिले-जुले फल, शाम को उबले आलू और रात में साबूदाना/कुट्टू/सिंघाड़े के आटे की रोटी या पूड़ी।
 
यदि दिनभर व्रत रखकर, शाम को व्रत खोलते हैं- खाने के साथ एक कटोरी दही या रायता या खीर और एक कटोरी दाल। दाल नहीं लेते हैं, तो सब्ज़ी में मटर ज़रूर डालें।