सीएम योगी ने कहा, यूपी में पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था के साथ अफवाह फैलाने वालों पर हो सख्त कार्रवाई

लखनऊ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मोहर्रम ,गणेश चतुर्थी और अनन्त चतुर्दशी जैसे त्योहारों के मद्देनजर पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारियों को पूरी सतर्कता बरतने के साथ-साथ सभी आवश्यक सुरक्षा उपाय सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।

श्री योगी ने साथ ही अफवाह फैलाने वालों से सर्तक रहते हुए उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के भी अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कुछ लोग त्योहारों के अवसर पर माहौल खराब करने की कोशिश करते हैं। ऐसे लोगों को चिन्हित कर उनके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाए। उन्होंने जिले में थाना स्तर पर पीस कमेटी की बैठक तत्काल सुनिश्चित करई जाय। पीस कमेटी में सीओ और मजिस्ट्रेट स्तर के अधिकारी प्रतिभाग अवश्य करें। उन्होंने कहा कि हर स्तर पर सुरक्षा व्यवस्था चाक-चैबन्द रखी जाए और असामाजिक तत्वों की भी निगरानी की जाए।

मुख्यमंत्री ने यह निर्देश शनिवार देर शाम अपने सरकारी आवास पर मोहर्रम, गणेश चतुर्थी और अनन्त चतुर्दशी के पर्वाें के दौरान सुरक्षा व्यवस्था के सम्बन्ध में मण्डलायुक्तों, जिलाधिकारियों, जोनल आईजी/डीआईजी, वरिष्ठ पुलिस निरीक्षकों तथा पुलिस निरीक्षकों के साथ की गई वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के दौरान दिए। उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि गणेश चतुर्थी,अनन्त चतुर्दशी के दौरान पूरे प्रदेश में विभिन्न स्थानों पर गणेश जी की प्रतिमाएं स्थापित कर पूजा-अर्चना के उपरान्त शोभा यात्राएं निकाली जाएंगी और मूर्तियों का विसर्जन किया जाएगा। इसी प्रकार मोहर्रम के दौरान ताजिए निकाले जाएंगे।

उन्होंने अधिकारियों से कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि सभी यात्राएं एवं जुलूस तयशुदा मार्गों पर ही निकाले जाएंगे और अचानक इनके रास्ते नहीं बदले जाएंगे। साथ ही, ताजियों की ऊंचाई निर्धारित मानक के अनुसार ही हो, ताकि इनके निकलने में बिजली के तारों और पेड़ों से कोई अड़चन न आए और जुलूस शान्तिपूर्वक निर्बाध निकल जाए। प्रत्येक पूजा एवं ताजिया जुलूस के आयोजकों से बातचीत कर इन त्योहारों का सफल आयोजन सुनिश्चित किया जाए। इसके लिए पुलिस प्रशासन सुरक्षा प्रबन्धों के सम्बन्ध में प्रभावी कार्रवाई करे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इन त्योहारों की व्यवस्था के सम्बन्ध में पुलिस महानिदेशक द्वारा सभी जिला पुलिस अधिकारियों एवं अन्य सम्बन्धित उच्चाधिकारियों को जो निर्देश पूर्व में भेजे गए हैं, उनका अनुपालन सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कहा कि इन पर्वों और त्योहारों के दौरान किसी भी नई परम्परा को न शुरू किया जाए।

उन्होंने कहा कि त्योहारों के दौरान किसी को भी अस्त्र-शस्त्र का प्रदर्शन करने की इजाज़त न दी जाए और ऐसा करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। उन्होंने इस सम्बन्ध में आयोजकों को लिखित रूप से सूचित करने के भी निर्देश दिए। डीजे के प्रयोग के सम्बन्ध में उन्होंने उच्च न्यायालय द्वारा निर्धारित मानकों (डेसीबल) का पालन करने के निर्देश दिए। इसी प्रकार मोहर्रम के दौरान प्रयुक्त होने वाले वाद्य यन्त्रों का शालीनतापूर्वक निर्धारित ध्वनि स्तरों के तहत ही प्रयोग किया जाए।