राष्ट्रपति कोविंद ने आतंकवाद को लेकर, अंतरराष्ट्रीय समुदाय से की ये अपील

रिक्जाविक (आइसलैंड),  राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 9…11 आतंकवादी हमले के पीड़ितों को  याद किया और अंतरराष्ट्रीय समुदाय से उन्होंने अपील की कि ‘‘मानवता विरोधी ताकतों’’ को शांति और सौहार्द खत्म करने से रोकने के लिए ठोस कदम उठाए जाएं।

राष्ट्रपति कोविंद तीन देशों आइसलैंड, स्विट्जरलैंड और स्लोवानिया की यात्रा के तहत तीन दिनों के आइसलैंड के दौरे पर हैं। इस दौरान वह इन देशों के शीर्ष नेतृत्व को भारत की ‘‘राष्ट्रीय सरोकार’’ से अवगत कराएंगे।

9…11 हमले की 18वीं बरसी पर कोविंद ने कहा, ‘‘हम अमेरिका में 9…11 के आतंकवादी हमले के पीड़ितों को याद करते हैं। इस अवसर पर हम एक बार फिर संकल्प लें कि इन मानवता विरोधी ताकतों को हमारी शांति और सौहार्द को नहीं भंग करने देंगे।’’

कोविंद ने मंगलवार को आइसलैंड के राष्ट्रपति गुओनी जॉनसन से मुलाकात की और दोनों नेता इस बात पर सहमत थे कि आतंकवाद मानवता के लिए गंभीर खतरा है और दोनों ने आतंकवाद के खिलाफ वैश्विक लड़ाई को मजबूत करने के लिए एकजुट होकर काम करने की प्रतिबद्धता जताई।

कोविंद ने कहा, ‘‘भारत कई दशकों से सीमा पार आतंकवाद से पीड़ित रहा है। मैं राष्ट्रपति जॉनसन को धन्यवाद देता हूं कि भारत में पुलवामा आतंकवादी हमले की उन्होंने निंदा की और भारत के साथ अपनी एकजुटता दिखाई।’’

राष्ट्रपति कोविंद ने यहां भारत-आईसलैंड व्यापार फोरम को संबोधित करते हुए उन क्षेत्रों का जिक्र किया जिसमें दोनों देशों के बीच आर्थिक सहयोग की संभावना है।

कोविंद ने कहा कि आईसलैंड की प्रौद्योगिकी क्षमता और भारत की वैज्ञानिक कुशलता मिलकर चौथी औद्योगिक क्रांति ला सकती हैं।
उन्होंने कहा, ‘‘रोबोटिक्स, पारिस्थितिकी और समुद्र में कचरा फैलाने से रोकने जैसे स्टार्ट अप पर हमारे यहां किए जा रहे काम से आईसलैंड और भारत को फायदा हो सकता है या दुनिया के किसी भी अन्य हिस्से को इससे लाभ मिल सकता है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘कई क्षेत्रों जैसे व्यापार, निवेश, अनुसंधान में सेवाओं जैसे कई क्षेत्रों में आर्थिक भागीदारी मजबूत होने की संभावना है। हमारे द्विपक्षीय व्यापार आंकड़े कम हैं और आईसलैंड की व्यापारिक मजबूती उन्हें और महत्वपूर्ण बना सकती है।’’