Breaking News

महात्मा गाँधी की 150वीं जयंती पर, इन कैदियों की होगी रिहाई

नयी दिल्ली,  राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के 150वें जयंती वर्ष पर सरकार ने संगीन अपराधों तथा राष्ट्र विरोधी गतिविधियों के लिए सजायाफ्ता कैदियों को छोड़कर अन्य सभी मामलों में दो-तिहाई सजा काट चुके सभी कैदियों को रिहा करने का फैसला किया है।

ग्राम्य विकास अधिकारी के परिणाम घोषित, देखिये पूरी सूची

पकड़ी गई Google की ‘धोखाधड़ी’, लगाया गया अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल की आज  हुई बैठक के बाद विधि एवं न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने संवाददाताओं को बताया कि आगामी 02 अक्टूबर को राष्ट्रपिता की 150वीं जयंती है। सरकार ने उनके इस जयंती वर्ष में जेलों में बंद उन सभी कैदियों को रिहा करने का फैसला किया है जो दो-तिहाई सजा पूरी कर चुके हैं।

अखिलेश यादव ने क्यों कहा-देश नया प्रधानमंत्री चाहता है…?

आईसीसी रैंकिंग में पहली बार कुलदीप यादव ने बनाई जगह, देखिये कौन सा मिला स्थान ?

इसके अलावा 55 साल से ज्यादा उम्र की महिला तथा ट्रांसजेंड कैदियों, 60 साल से अधिक उम्र के पुरुष कैदियों और 70 प्रतिशत या इससे ज्यादा विकलांगता वाले उन सभी कैदियों की सजा भी माफ की जायेगी जो अपनी आधी सजा काट चुके हैं । उन्होंने बताया कि उन कैदियों को आम माफी का लाभ नहीं मिलेगा जिन्होंने ऐसे संगीन अपराध किये हैं जो राष्ट्र विरोधी हैं या जिनमें सजा-ए-मौत या आजीवन कारावास का प्रावधान है।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद  यानि आईसीसी की ताजा रैंकिंग जारी, देखिये कौन कहां पर ?

लखनऊ मे पड़ा छापा, करोड़ों कैश व कई किलो सोना बरामद,अब इनसे होगी पूछताछ ?

बलात्कार, दहेज हत्या, मानव तस्करी, हवाला, आतंकवाद, बाल अपराध, भ्रष्टाचार आदि के लिए सजा काट रहे अपराधियों की सजा भी माफ नहीं की जायेगी। विधि एवं न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि संविधान के तहत राष्ट्रपति और राज्यपालों को सजा माफ करने का अधिकार है। गृह मंत्रालय जल्द ही सभी राज्यों को परामर्श जारी कर इस निर्णय को लागू करने की सलाह देगा।

मोदी सरकार का दावा, एससी-एसटी पर नही बढ़े अत्याचार,आपराधिक मामलों के लिये राज्यों को बताया जिम्मेदार

मोदी सरकार के खिलाफ पेश अविश्वास प्रस्ताव पर, समाजवादी पार्टी ने स्पष्ट किया अपना रूख

उन्होंने बताया कि सजा माफी की पूरी योजना बनाकर विभिन्न चरणों में इस पर अमल किया जायेगा। पहले चरण में इस साल अक्टूबर में कुछ कैदियों को छोड़ा जायेगा। इसके बाद चंपारण सत्याग्रह की वर्षगाँठ पर अगले साल अप्रैल में तथा राष्ट्रपिता की जयंती पर अगले साल अक्टूबर में कैदियों की रिहाई की जायेगी।

मॉडल ने रैंप वाक करते हुए, कराया स्तनपान, छिड़ी जबरदस्‍त बहस

मोदी सरकार की अग्नि-परीक्षा- सोनिया गांधी के बयान ने बढ़ायी, सरकार की धड़कनें

मोदी सरकार को बड़ा झटका, सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव स्वीकार

IAS अफसर जो ट्रेनिंग के दौरान बना रहे ये अनोखा रिकॉर्ड

दलितों और पिछड़ों को लेकर धर्मेन्द्र यादव का बड़ा बयान

तेजस्वी यादव का बीजेपी पर हमला, कहा- मुसलमानों, दलि

Spread the love

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com