Breaking News

दलितों से ज्यादा प्रधानमंत्री को विदेशी मीडिया की चिंताः दिग्विजय सिंह

नई दिल्ली, digvijay Singhदलितों पर अत्याचार की घटनाओं की पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा निंदा किए जाने को लेकर आज कांग्रेस महासचिव दिग्विजय ने उन पर कटाक्ष करते हुए कहा कि दलितों के दर्द पर उनकी पीड़ा की वजह विदेशी मीडिया है क्योंकि प्रधानमंत्री हमेशा इस कोशिश में रहते हैं कि अंतरराष्ट्रीय मीडिया में उनके खिलाफ माहौल नहीं बने। सिंह ने यहां इत्तेहाद-ए-मिल्लत काउंसिल की ओर सेे बीफ निर्यात पर पाबंदी की मांग लेकर आयोजित संगोष्ठी में यह भी आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री ने गोहत्या के नाम पर हिंसा कर रहे जिन असामाजिक तत्वों की बात कही है कि उनमें से अधिकांश का भाजपा, बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद से ताल्लुक है। उन्होंने गुजरात के उना में दलितों की बर्बर पिटाई का हवाला देते हुए कहा, दलितों पर हमले पहले भी हो रहे थे लेकिन बयान नहीं आया। इस बार दलितों के दर्द की पीड़ा क्यों हुई। इसकी वजह यह है कि दलितों ने इस बार आवाज उठाई है। इसकी एक वजह और भी है। दरअसल, इस घटना उना की घटना को लेकर वाल स्ट्रीट जर्नल और न्यूयॉर्क टाइम्स ने तल्ख टिप्पणी की और दुनिया भर में यह वीडियो वायरल हो गया। जिसके बाद प्रधानमंत्री का बयान आया। कांग्रेस नेता ने कहा, मोदी जी आजकल सिर्फ अंतरराष्ट्रीय मीडिया से सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं। वह इस कोशिश में रहते हैं कि अंतरराष्ट्रीय मीडिया में उनके खिलाफ माहौल नहीं बने।…इसी वजह से उन्होंने इस घटना पर तेलंगाना में बयान दिया, जबकि संसद चल रही थी। गौरतलब है कि पिछले दिनों प्रधानमंत्री ने कहा था कि गोरक्षा का दावा करने 70-80 फीसदी लोग रात में दूसरे धंधे करते हैं और दिन में गोररक्षक का चोला पहन लेते हैं। उन्होंने भावुक अपील करते हुए था कि मारना है तो मुझे गोली मार दो, लेकिन मेरे दलित भाइयों को मत मारो। दिग्विजय सिंह ने कहा, प्रधानमंत्री ने जिन 70-80 फीसदी लोगों की बात की है वे कौन लोग हैं। ये वही लोग हैं जिन्होंने दादारी में अखलाक की हत्या की। इनका ताल्लुक भाजपा, बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद से है। उन्होंने दावा किया, भाजपा और आरएसएस के लोग वीर सावरकर को अपना नेता मानते हैं। वीर सावरकर गोहत्या पर रोक के खिलाफ थे और उनका कहना था कि यह कदम ग्रामीण अर्थव्यवस्था के विपरीत होगा। इस बात को मैं साबित कर सकता हूं।….परंतु मैं गोहत्या पर प्रतिबंध का समर्थन करता हूं। गोहत्या पर पूरी तरह रोक होनी चाहिए क्योंकि हिंदुओं की इससे आस्था जुड़ी हुई है। इत्तेहाद-ए-मिल्लत काउंसिल के अध्यक्ष मौलाना तौकीर रजा खान ने कहा, अगर सरकार गोहत्या पर रोक लगाने को लेकर गंभीर है तो उसे सबसे पहले बीफ के निर्यात पर पूरी तरह रोक लगानी चाहिए। हम चाहते हैं कि हमारी मांग का सभी सियासी और गैर सियासी लोग समर्थन करें। खान ने कहा, पैगम्बर मोहम्मद ने खुद कहा था कि गाय के दूध का फायदा है, लेकिन उसके मांस से बीमारी होती है। ऐसे में मुस्लिम समुदाय के सभी लोग गोहत्या और बीफ के निर्यात पर पाबंदी की इस मुहिम में साथ खड़े हैं। तौकीर रजा खान ने गोहत्या पर प्रतिबंध की मांग को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह को एक पत्र भी लिखा है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com