Breaking News

वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी का गंभीर आरोप- राज्यपाल ने नरेंद्र मोदी की सलाह पर काम किया

नई दिल्ली, वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी ने कर्नाटक में भाजपा को सरकार बनाने का आमंत्रण देने के राज्यपाल के फैसले के खिलाफ आज उच्चतम न्यायालय का रुख किया। उन्होंने राज्यपाल के फैसले को ‘‘ संवैधानिक शक्ति का घोर दुरुपयोग ’’ बताया। जेठमलानी ने कहा कि मुझे कोई शक नहीं है कि राज्यपाल ने नरेंद्र मोदी की सलाह पर काम किया है।

इस राज्य में बीएसपी बनेगी बड़ी ताकत, बीजेपी का किला ढहाने मे होगी खास भूमिका

Facebook ने लॉन्च किए 3 नए फीचर्स, जानें डीटेल्स

 राम जेठमलानी अपनी अर्जी लेकर चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की बेंच के सामने पहुंचे। उन्होने सीजेआई से कहाकि मैं यहां किसी पार्टी की तरफ से नहीं बल्कि निजी तौर पर आया हूं।  इस पर सीजेआई ने तत्काल सुनवाई के लिए दायर की गई जेठमलानी की याचिका पर विचार किया और कहा कि आज तड़के मामले की सुनवाई करने वाली तीन सदस्यीय विशेष पीठ कल इस पर सुनवाई करेगी।

कर्नाटक की तरह बिहार में भी सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने का मौका दें- तेजस्वी यादव

बीजेपी ने कर्नाटक में उड़ाया संविधान का मजाक, भारत लोकतंत्र की हार का शोक मनाएगा- राहुल गांधी

 न्यायमूर्ति ए एम खानविल्कर और न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ की पीठ ने वरिष्ठ अधिवक्ता से कहा कि वह न्यायमूर्ति ए के सीकरी की अगुवाई वाली तीन सदस्यीय पीठ के समक्ष 18 मई को अपनी याचिका दायर करें, जब कांग्रेस पार्टी और जनता दल ( सेक्यूलर ) की याचिकाओं पर सुनवाई होगी। जेठमलानी ने मीडिया से कहा, ”राज्यपाल का आदेश पूरी तरह से संवैधानिक शक्तियों के दुरुपयोग का मामला है। कोर्ट को संज्ञान लेना चाहिए। मैं शुक्रवार को कोर्ट में मौजूद रहूंगा।”

स्वच्छ सर्वेक्षण 2018 मे यूपी के इन शहरों ने किया कमाल

स्वच्छ सर्वेक्षण 2018 मे ये हैं सर्वोत्तम शहर

 उन्होंने कहा कि मैं बीती बात नहीं करना चाहता, लेकिन मेरी जिंदगी का एक मकसद पूरा नहीं हुआ है और वो मोदी से मुक्ति पाने का। वरिष्ठ वकील ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट से मेरा विश्वास उठ गया है। ये हॉर्स ट्रेडिंग नहीं है, ये डंकी ट्रेडिंग है। भ्रष्टाचार को खुलेआम बढ़ावा दिया जा रहा है, वह सिर्फ लोकतंत्र को नुकसान पहुंचाकर ही वोट हासिल कर सकते हैं।

अखिलेश यादव ने इन चार लाइन में कह डाली बड़ी बात….

सुप्रीम कोर्ट के जजों पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाने वाले पूर्व दलित जज ने बनायी राजनीतिक पार्टी

 जेठमलानी ने कहा, ”जो कुछ भी हुआ, उससे साफतौर पर जाहिर है कि लोकतांत्रिक व्यवस्था खत्म हुई। कुछ मौके पर ऐसी चीजें हो सकती हैं, पर इन मामलों में पार्टी के दखल देने का तरीका सही नहीं है। सब जानते हैं कि भाजपा ने जो कहा राज्यपाल ने वही किया और ऐसा मुर्खतापूर्ण फैसला ले लिया। अगर आप निजी हित के लिए आंकड़े सार्वजनिक नहीं कर रहे हैं तो यह संविधान के खिलाफ है। राज्यपाल ने भाजपा को सरकार बनाने का न्यौता देकर खुलेतौर पर भ्रष्टाचार को बढ़ावा दिया।”

ईवीएम के बजाए मतपत्रों का इस्तेमाल करने की मांग एक बार फिर उठी

कर्नाटक की लड़ाई पहुंची सुप्रीम कोर्ट, सुबह तक हुई सुनवाई, नही खारिज की याचिका दिये ये निर्देश

 95 वर्षीय राम जेठमलानी वकालत से संन्यास लेने के 10 महीने बाद आज सुप्रीम कोर्ट पहुंचे। जेठमलानी ने 9 सिंतबर, 2017 को एक कार्यक्रम में वकालत से संन्यास की घोषणा की थी। संन्यास के दौरान उन्होंने कहा था कि भ्रष्ट नेताओं के खिलाफ मेरी लड़ाई जारी रहेगी। मौजूदा वक्त में देश की हालत अच्छी नहीं है। देश को कठिन दौर से उबारने की जिम्मेदारी सभी नागरिकों की है। उन्होंने करीब 75 साल से ज्यादा समय तक वकालत की।

लालू प्रसाद यादव हुए जेल से रिहा….

सीएम योगी से मिले मुलायम सिंह यादव, अफवाहों का बाजार गर्म

शिवपाल यादव ने की इन अधिकारियों पर कार्यवाही करने की मांग

अखिलेश यादव का योगी सरकार पर बड़ा हमला, कहा उम्मीद है आप सिर्फ ये नहीं करेंगे

बसपा ने कर्नाटक में दिखाई अपनी धमक, JDS को किंगमेकर से बनाया किंग

शिवपाल यादव ने सपा महासचिव बनाए जाने की खबरों का किया बड़ा खुलासा….

मोदी सरकार में बड़ा फेरबदल, स्मृति ईरानी से छीना गया सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय

Spread the love

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com